Home योग विशेष अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-नमो विजन से भारत की पहचान को मिला नया मुकाम

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-नमो विजन से भारत की पहचान को मिला नया मुकाम

इंटरनेशनल योगा डे- जीने की कला को विश्व ने अपनाया

706
SHARE

योग प्राचीन शब्द है लेकिन आज के संदर्भ में भी यह उतना ही प्रासंगिक है। योग शब्द में ही जुड़ाव का भाव है… आध्यात्मिक, मानसिक, भावनात्मक और भाईचारे में योग यानि जुड़ाव के भाव का संदेश स्पष्ट है। दरअसल योग एक दृष्टिकोण भी है, जीवन पद्धति भी है। योग एक मानसिक विचारधारा भी है, जो स्वत: जुड़ाव को दर्शाता है। पूरे विश्व को एक सूत्र में जोड़े रखने की शक्ति वाली इस योग शक्ति को तब नया मुकाम मिला जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अनथक प्रयास के कारण संयुक्त राष्ट्र संघ ने हर वर्ष 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की।

दरअसल भारत में जन्मी योग पद्धति के चाहने वाले पूरी दुनिया में हैं। आधुनिकता के साथ अध्यात्म का मोदी मंत्र दुनिया के देशों को भी भाया और इसी कारण पीएम मोदी की पहल को 192 देशों का समर्थन मिला। 177 देश योग के सह प्रायोजक के तौर पर इस आयोजन से जुड़ भी गए। 21 जून 2015 को विश्व के अलग-अलग देशों में योग दिवस का भव्य आयोजन किया गया और पूरी दुनिया योग शक्ति से आपस में जुड़ी हुई महसूस होने लगी।

नमो की पहल पर विश्व के अलग-अलग देशों में कार्यक्रम
21 जून, 2015 को पहला विश्व योग दिवस दुनिया के 191 देशों में मनाया गया। भारत का मुख्य कार्यक्रम दिल्ली के राजपथ पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हुआ। इसमें 80 देशों के 37,000 लोगों ने जब एक साथ राजपथ पर योग किया तो लगा कि पूरी दुनिया योग ध्यान में एकाकार हो गई हो। राजपथ पर इतने लोगों का एक साथ योग करने से ये इवेंट गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो गया।

कई देशों के राजदूतों ने पीएम मोदी के साथ किया योग
पीएम मोदी ने पहले विश्व योग दिवस पर जब पूरी बांह का सफेद कुर्ता, पायजामा और तिरंगा गमछा डालकर योग किया तो पूरी दुनिया उनके हैंडसम लुक को देखती रह गई। पीएम मोदी ने राजपथ पर योग के 35 आसन किए। राजपथ पर योग में हिस्सा लेने वालों में अमेरिकी राजदूत रिचर्ड वर्मा, नेपाल के राजदूत दीप कुमार उपाध्याय, अफगानिस्तान के मोहम्मद अब्दाली, बुर्किनो फासो के राजदूत इदरिस रौवा औड्राओगो शामिल थे। इसके अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, तत्कालीन उपराज्यपाल नजीब जंग और पूर्व पुलिस अधिकारी किरण बेदी ने भी पीएम मोदी के साथ योग किया था।

योग दिवस पर डाक टिकट 
भारत में इस अवसर पर विशेष डाक टिकट जारी किया गया और 100 रुपये एवं 10 रुपये के सिक्के भी जारी किये गये। हंगरी, ब्राजील और मारीशस में भी विशेष डाक टिकट जारी किये गये। सुषमा स्वराज ने संयुक्त राष्ट्र संघ में एक विशेष समारोह की अध्यक्षता की, जिसमें महासचिव बान की मून और महासभा के अध्यक्ष सैम कुटेसा मौजूद थे। इस कार्यक्रम में आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक योग गुरु श्री श्री रविशंकर ने संबोधित किया। इसके अलावा समुद्र से 12000 फुट की ऊंचाई पर सियाचीन में भारतीय जवानों ने योग किया तो भारत की समुद्री सीमा पर तैनात जंगी जहाजों पर ‘योगा एक्रॉस द ओशन’ नामक कार्यक्रम आयोजित किए गए। आयुष मंत्रालय के मुताबिक देश में 20 करोड़ लोगों ने योग किया और विश्व के 192 देशों में भारतीय मिशन और योग केन्द्रों द्वारा योग कार्यक्रम आयोजित हुए।

ऑस्ट्रेलिया-मेलबर्न में सूर्य नमस्कार
21 जून, 2015 को मेलबर्न के स्प्रिंगर्स लेजर में 500 से ज्यादा लोग इकट्ठे हुए और दिन की शुरुआत सूर्य नमस्कार के साथ की। इस अवसर पर तत्कालीन ऑस्ट्रेलियाई पीएम टोनी एबॉट ने कहा कि हजारों वर्षों से योग ने मस्तिष्क, शरीर और आत्मा को संतुलित करने में अपने अनुयायियों का मार्गदर्शन किया है। भारत की महावाणिज्य दूत मनिका जैन की मौजूदगी में विक्टोरिया के स्पीकर टेलमो लैंगगुइलर, इंगा पइउलिक, एंथोनी बायर्न सहित कई सांसदों ने मेलबर्न में आयोजित समारोह में हिस्सा लिया। सिडनी के लोकप्रिय बोंडी समुद्र तट और ऑस्ट्रेलियाई राजधानी कैनबरा में भी कार्यक्रम आयोजित हुए। पूरे ऑस्ट्रेलिया में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में एक हजार से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया।


ब्रिटेन- उत्साह और प्रसन्नता के लिए योग
ब्रिटेन में योग दिवस मनाने के लिए सैकड़ों लोग विभिन्न शहरों में एकत्रित हुए। मुख्य कार्यक्रम लंदन में टेम्स नदी के किनारे आयोजित हुआ। यह कार्यक्रम टेम्स के साउथ बैंक स्थित बर्नी स्पेन गार्डेन में आयोजित हुआ। तत्कालीन ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने अपने संदेश में कहा, ”ब्रिटेन अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का समर्थन करके प्रसन्नता महसूस कर रहा है। हम उन 177 देशों में से एक हैं जिन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रस्ताव के समर्थन में वोट किया था। जिस उत्साह से इसे ब्रिटेन और पूरे विश्व में अपनाया जा रहा है उसे देखकर हम बहुत खुश हैं।”

चीन: भारत-चीन योग कॉलेज का उद्घाटन
चीन में कार्यक्रम प्रतिष्ठित पीकिंग विश्वविद्यालय और गीली विश्वविद्यालय में आयोजित हुए। इसमें जीवन के विभिन्न क्षेत्र के लोगों ने हिस्सा लिया। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस से एक सप्ताह पहले कुनमिंग में युन्नान मिंज विश्वविद्यालय में भारत-चीन योग कॉलेज का उद्घाटन किया गया।

नेपाल- उपराष्ट्रपति को भी भाया योग
नेपाल में भारी वर्षा के बावजूद अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया। नेपाल के उप राष्ट्रपति परमानंद झा, बॉलीवुड अभिनेत्री मनीषा कोइराला समेत 800 से अधिक उत्साहियों ने योग सत्र में हिस्सा लिया। कार्यक्रम का आयोजन भारतीय दूतावास की ओर से किया गया।

सिंगापुर- 50 सेंटर में योग कार्यक्रम
सिंगापुर में 50 से अधिक केंद्रों पर आयोजित दो घंटे के कार्यक्रम में चार हजार से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम का नेतृत्व भारतीय उच्चायुक्त विजय ठाकुर सिंह और सिंगापुर के प्रधानमंत्री कार्यालय में मंत्री ग्रेस फू ने किया। इसमें राजनयिक वर्ग के लोगों, व्यापार जगत के लोगों और जीवन के सभी क्षेत्र के सिंगापुरी लोगों ने हिस्सा लिया।

थाइलैंड-‘योग स्टूडियो’ बन गया मैदान
थाईलैंड में बैंकॉक विश्वविद्यालय के एक खुले मैदान को एक योग स्टूडियो में तब्दील कर दिया गया था। इस कार्यक्रम में हजारों थाई लोगों, भारतीयों और अन्य प्रवासियों ने हिस्सा लिया। भारतीय उच्चायोग की ओर से चुलालोंगकोर्न विश्वविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में 7400 से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया। भारत से आये योग विशेषज्ञों ने एक प्रदर्शन किया जिसके बाद सभी प्रतिभागियों के लिए 33 मिनट का समान योग प्रोटोकॉल आयोजित किया गया। इसी तरह के कार्यक्रमों का आयोजन चियांगमई, फुकेट और पटाया में भी किया गया।

लोगों की असाधारण भागीदारी
थाईलैंड के पर्यटन एवं खेल मंत्री कोबकर्न वटानावरंगुल कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थे जिसमें राजदूत, संयुक्त राष्ट्र के प्रतिनिधि और भारतीय संगठनों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। थाईलैंड में भारतीय राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला के मुताबिक पूरा कार्यक्रम शानदार था। उन्होंने कहा कि थाईलैंड के विद्यालयों और विश्वविद्यालयों की ओर से असाधारण हिस्सेदारी देखने को मिली।

वियतनाम-सात प्रांतों में योग का आयोजन
वियतनाम में हनोई कुआन गुआ स्पोर्ट्स पैलेस तथा हो ची मिन्ह शहर एवं सात अन्य प्रांतों में आयोजित कार्यक्रमों में सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया। भारतीय राजदूत प्रीति शरण के मुताबिक हमारी उम्मीदों से कहीं अधिक शानदार प्रतिक्रिया थी। उन्होंने कहा कि हनोई में 800 कार्यक्रमों में कम से कम चार हजार लोगों ने योगासन किया और हो ची मिन्ह शहर में करीब तीन हजार लोगों ने योग किया।

जापान-500 उत्साहियों ने किया योग
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन पूरे जापान में किया गया। जापान में भारतीय राजदूत दीपा वाधवा ने टोक्यो में एक जापानी स्कूल परिसर में कार्यक्रम की शुरूआत की जहां करीब 500 योग उत्साहियों ने हिस्सा लिया। इसके अलावा पूरे देश में कई कार्यक्रम आयोजित हुए।

फ्रांस-एफिल टावर के पास ‘पद्मासन’
इसी तरह का कार्यक्रम पेरिस में भी हुआ जहां सफेद कपड़े पहने लोगों ने एफिल टावर के पास योग आसन किये। यहां हजारों लोगों ने योग कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इसके अलावा अन्य आसियान देशों जैसे मलेशिया और फिलीपींन्स में भी योग कार्यक्रम आयोजित हुए।

दूसरा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस भी अपने आप में विशेष रहा। पूरे विश्व में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर डेढ़ लाख से अधिक कार्यक्रम आयोजित किए गए। पूरे विश्व में 173 भारतीय मिशन ने समारोह का आयोजन किया था।

भारत में 21 जून को मंगलववार के दिन चंडीगढ़ के कैपिटल कॉम्प्लेक्स में आयोजित किए गए मुख्य कार्यक्रम में पीएम मोदी भी मौजूद थे। एक साथ 30 हजार लोगों ने जब योगासन किया तो लगा कि पूरा संसार एकाकार हो गया। पीएम मोदी ने कहा भी योग पाने का नहीं युक्ति का मार्ग बताता है। प्रधानमंत्री ने भी लोगों के बीच ही बैठकर योगा किया और इस कार्यक्रम में दिव्यांगों ने भी उनके साथ योग किया।

पीएम ने की योग पुरस्कार की घोषणा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस अवसर पर इस खास दिन पर दिए जाने वाले दो योग पुरस्कारों की घोषणा की। इसमें एक राष्ट्रीय एवं दूसरा अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार है। अंतरराष्ट्रीय योग पुरस्कार और राष्ट्रीय योग पुरस्कार से संबंधित नियम-कायदे बनाने एवं ज्यूरी का निर्णय लेने के लिए एक विशेष समिति का गठन किए जाने की घोषणा भी की गई।

इन शहरों में हुए योग के मेगा इवेंट्स
10 रीजनल लेवल के मेगा इवेंट्स वाराणसी, इंफाल, जम्मू, शिमला, वडोदरा, लखनऊ, बेंगलुरू, विजयवाड़ा, भुवनेश्वर और होशियारपुर में आयोजित किए गए। योगा डे प्रोग्राम्स 391 यूनिवर्सिटीज, 16 हजार कॉलेज और 12 हजार स्कूलों में भी आयोजित किए गए।

योगगुरु रामदेव के कार्यक्रम में तीन विश्व रिकॉर्ड
बाबा रामदेव ने फरीदाबाद में इंटरनेशनल योगा डे पर ऐसा योग कराया कि तीन वर्ल्ड रिकॉर्ड बने। पहला ये कि फरीदाबाद में बाबा रामदेव के कार्यक्रम में 1 लाख से ज्यादा लोगों ने एक साथ योग करके गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज करवाया है। दूसरा रिकॉर्ड ये कि पतंजलि के 408 लोगों ने एक साथ 5 सेकेंड शीर्षासन कर पुराने रिकॉर्ड को तोड़ा। जबकि इससे पहले यह रिकॉर्ड सिटीजन लैंड के नाम था जहां 265 लोगों ने एक साथ 5 सेकेंड तक शीर्षासन किया था। वहीं तीसरा रिकॉर्ड रोहतास चौधरी ने 80 पौंड वजन उठाकर 1 मिनट में 51 पुश अप्स लगाए। रोहतास इससे पहले बिना वजन उठाए 10 हजार पुश अप्स लगा चुके हैं।

ब्रिटेन-टॉवर ब्रिज पर 10 हजार लोगों ने किया योग
लंदन में भारतीय उच्चायोग और भारत सरकार के पर्यटक कार्यालय ने 14 ब्रिटिश योग संस्थानों के साथ मिलकर योग दिवस की दूसरी वषर्गांठ से दो दिन पहले रविवार को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर योग किया। टॉवर ब्रिज के समीप पोटर्स फील्ड्स पार्क में दिनभर चले कार्यक्रम में करीब 10 हजार लोगों ने योग एवं ध्यान में हिस्सा लिया।


द. अफ्रीका-जोहान्सबर्ग के जू-लेक पार्क में योग
दक्षिण अफ्रीका में एक दर्जन से अधिक स्थानों पर हजारों लोग अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने पहुंचे। दो साल पहले संयुक्त राष्ट्र महासभा ने इस दिवस की घोषणा की थी। जोहान्सबर्ग के जू-लेक पार्क में मुख्य कार्यक्रम में सभी धर्मों एवं जातियों के सैकड़ों योग उत्साहियों ने योग किया। प्रीटोरिया में भारतीय उच्चायोग और डरबन, केप टाउन एवं जोहांसबर्ग में तीन भारतीय वाणिज्य दूतावासों ने सामुदायिक संगठनों के साथ कई कार्यक्रम किए।

ऑस्ट्रेलिया-कई शहरों में योग कार्यक्रम का आयोजन
दूसरा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस ऑस्ट्रेलिया में कैनबरा और मेलबर्न सहित कई शहरों में भी मनाया गया। ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल ने योग को भारत का विश्व को एक उपहार बताया। उन्होंने वैश्विक शांति एवं कल्याण में सहयोग पहुंचाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन की सराहना की और कहा कि योग की प्राचीन पद्धति दुनिया के प्रति भारत का एक उपहार है।

चीन-वुक्सी में 35 हजार लोगों ने किया योगाभ्यास
चीन में बड़ी संख्या योग प्रेमियों ने भारतीय दूतावास के साथ मिलकर मनाए गए योग कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। चीन के वुक्सी शहर में सबसे बड़ा योग कार्यक्रम हुआ जिसमें 35 हजार लोग शामिल हुए। यह कार्यक्रम वुक्सी हॉलीवुड स्टूडियो में हुआ।

अमेरिका-एक सप्ताह तक चला योगाभ्यास
अमेरिका में नियमित तौर पर योग करने वालों की संख्या लगभग 1.5 करोड़ है। दूसरे इंटरनेशनल योगा डे पर अमेरिका में अमेरिकी कांग्रेस के लॉन में भारतीय शास्त्रीय नृत्यों एवं लोकप्रिय योगासनों के प्रदर्शन के साथ सप्ताह भर चलने वाला समारोह हुआ। योग प्रेमी एवं स्वास्थ्य के प्रति जागरुक रहने वाले अमेरिकी भरतनाट्यम, कथक, कुचिपुड़ी, मोहिनीअट्म जैसे नृत्य का आनंद लेने तथा प्रशिक्षित योग निर्देशकों के मार्गदर्शन में योग क्रियाएं करने बड़ी संख्या में पहुंचे।

पोलैंड-छोटे शहरों में भी योग कार्यक्रमों की धूम
पोलैंड में हजारों की संख्या में लोगों ने योग सत्रों में हिस्सा लिया। इस देश में ऐसे लोगों की बड़ी संख्या है, जिनके लिए योग जीवन जीने का एक तरीका बन चुका है। योग दिवस पर योग कार्यक्रम केवल राजधानी वॉरसा तक ही सीमित नहीं रहे, बल्कि कई अन्य बड़े और छोटे शहरों में भी कार्यक्रम हुए। 2015 की तरह ही मुख्य आयोजन वॉरसा के विशाल और सुंदर पार्क पोल मोक्तोव्स्की में हुआ। यहां दिनभर हजारों लोग योग के विभिन्न आसनों का अभ्यास करते रहे। इस मौके पर कुछ भारतीय रेस्त्रां ने अपने स्टाल लगाकर पोलिश लोगों तक भारतीय व्यंजनों का स्वाद भी पहुंचाया।

फ्रांस- पेरिस के पार्क डी ला विलेट में योगा डे
पेरिस के पार्क डी ला विलेट में इंटरनेशनल योगा डे का आयोजन किया गया। यह पेरिस का सबसे बड़ा शहरी सांस्कृतिक उद्यान है। यहां जारी एक बयान में कहा गया कि- स्वस्थ जीवनशैली और योग को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इसकी शुरुआत की गई और संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंगीकार की गई। योग को लेकर लोगों में इतना क्रेज देखने को मिला कि इस मौके पर लगभग सभी उम्र के 2,000 से अधिक लोगों ने योगाभ्यास में हिस्सा लिया।

इन्हें भी पढ़िए-

दुनिया को भारत की अनमोल भेंट है अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

योग के विस्तार से ‘विश्वगुरु’ बनने की राह पर अग्रसर भारत

नमो विजन से आगे बढ़ रहा ‘स्वस्थ तन-स्वस्थ मन’ का अभियान

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-नमो विजन से भारत की पहचान को मिला नया मुकाम

तीन साल में तीन पीढ़ियों का अनुशासन बन गया योगासन

LEAVE A REPLY