Home समाचार मोदी की कूटनीति के आगे झुका चीन, ग्लोबल टेररिस्ट घोषित हुआ मसूद...

मोदी की कूटनीति के आगे झुका चीन, ग्लोबल टेररिस्ट घोषित हुआ मसूद अजहर

268
SHARE

मोदी सरकार की कूटनीति ने अंततः चीन को भी मसूद अजहर मामले में झुकने को मजबूर कर दिया। संयुक्त राष्ट्र ने मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कर दिया और इसके साथ ही इतिहास में पहली बार भारत ने चीन को कूटनीति के मोर्चे पर ऐसी हार दी है जिससे चीन के साथ पाकिस्तान भी सदमे में है। भारत लंबे समय से इस कोशिश में जुटा हुआ था, लेकिन चीन अपने वीटो पावर का इस्तेमाल कर टांग अड़ा रहा था। लेकिन मोदी सरकार की कूटनीति ने चीन को अपना रुख बदलने पर मजबूर कर दिया। मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए अमेरिका, यूके और फ्रांस की तरफ से संयुक्त प्रस्ताव पेश किया गया था। हालांकि, पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने हालिया चीन दौरे में उसे मनाने की कोशिश की, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। यह पहली बार है जब जम्मू-कश्मीर में किसी आतंकी हमले की वजह से एक आतंकी को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किया गया है। इससे पहले हाफिज सईद को मुंबई हमले के बाद वैश्विक आतंकी घोषित किया गया था।

होगा ये असर

– दुनियाभर के देशों में मसूद अजहर की एंट्री पर बैन।

– मसूद किसी भी देश में आर्थिक गतिविधियां नहीं कर सकेगा।

– संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य देशों को मसूद के बैंक अकाउंट्स और प्रॉपर्टी को फ्रीज करना पड़ेगा।

– मसूद से संबंधित व्यक्तियों या उसकी संस्थाओं को कोई मदद नहीं मिलेगी।

– पाकिस्तान को भी मसूद अजहर के खिलाफ आर्थिक प्रतिबंध लगाने पड़ेंगे।

– पाकिस्तान को मसूद अजहर के टेरर कैंप और उसके मदरसों को भी बंद करना पड़ेगा।

मोदी की जीत से घबराया चीन
चीन के इस बदले रुख के लिए मोदी की कूटनीति के साथ देश का चुनावी माहौल भी जिम्मेदार है। दरअसल, पहले चार चरण की वोटिंग से यह स्पष्ट हो चुका है कि देश में अगली सरकार भी पीएम नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में बनेगी। चीन को यह भी अंदाजा है कि दोबारा सत्ता में आने पर मोदी उसके खिलाफ मोर्चा खोल सकते हैं। इसी से घबराकर उसने पाकिस्तान का साथ छोड़ने का फैसला किया।

इसे भी पढ़िए-

प्रधानमंत्री मोदी की कूटनीति: विश्व बिरादरी में पाक की तरह चीन भी पड़ा अलग-थलग

 

Leave a Reply