Home समाचार पीएम मोदी की राह पर सीएम योगी

पीएम मोदी की राह पर सीएम योगी

1025
SHARE

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पूरे एक्शन में हैं। 19 मार्च को कार्यभार संभालने के बाद से ही वे अपने कार्य में लग गए हैं। उन्होंने जिस अंदाज में अपना काम शुरू किया है इससे साफ है कि योगी आदित्यनाथ एक क्षण भी बैठने वाले नहीं है। ऐसा माना जा रहा है कि जैसे पीएम मोदी केंद्र में अपनी सरकार चला रहे हैं कुछ इसी अंदाज में ही यूपी में योगी सरकार भी चलेगी। यानी पीएम मोदी की तरह ‘परिश्रम की पराकाष्ठा’ भी करेंगे और ‘सबका साथ, सबका विकास’ के सूत्र वाक्य के साथ चलेंगे।

सबका साथ, सबका विकास
योगी आदित्यनाथ ने यूपी के मुख्यंत्री पद का कार्यभार संभालते ही पीएम मोदी के सूत्र वाक्य, ‘सबका साथ, सबका विकास’ को दोहराया है। उन्होंने साफ कहा कि विकास और सुशासन के लिए प्रदेश की जनता ने हमें समर्थन दिया है। हम जनता को आश्वस्त करना चाहते हैं, यह सरकार प्रदेश को विकास के रास्ते पर लाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेगी। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के कुशल नेतृत्व में केन्द्र सरकार ने सबका साथ सबका विकास का संकल्प लिया है, उसका अनुसरण करते हुए प्रदेश सरकार जनता की सेवा करेगी।

प्रदेश में होगा कानून का राज
रविवार को पदभार संभालते ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने डीजीपी को सख्त हिदायत दी कि उत्सव के नाम पर उपद्रव बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। यानी किसी भी समुदाय को ये न लगे कि वो अलग-थलग है या कोई दूसरा समुदाय अपने आपको विशेष न समझे। संदेश साफ है कानून सबके लिए बराबर है।

मंत्रियों से मांगा संपत्ति का ब्योरा
योगी आदित्यनाथ ने मंत्रिपरिषद के अपने सहयोगियों के साथ परिचय बैठक में ही संपत्ति घोषित करने का निर्देश जारी कर दिया। मुख्यमंत्री के सचिव से भी यही ब्योरा मांगा गया है। मुख्यमंत्री का कहना है कि भ्रष्टाचार को समूल नष्ट करना हमारी सरकार की प्राथमिकता है।

भ्रष्टाचार मुक्त शासन देने की कोशिश
योगी सरकार ने सोमवार को सभी अफसरों को आदेश दिया गया है कि वे अगले 15 दिन में अपनी संपत्ति का ब्योरा पेश करें। अफसरों को अपने परिवार से जुड़ी चल-अचल संपत्ति की भी जानकारी देनी होगी। राज्य के मुख्य सचिव, सभी विभागों के प्रधान सचिवों और अन्य सचिवों को भी मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से दिए गए प्रारूप में अपनी-अपनी संपत्ति का ब्योरा देने का निर्देश दिया गया है।

स्वच्छता की दिलाई शपथ
मुख्यमंत्री योगी ने अपने अफसरों से साल भर में कम से कम 100 घंटे स्वच्छता कार्यक्रम के लिए देने को कहा है। अफसरों के साथ मीटिंग के बाद उन्होंने खड़े होकर सभी अधिकारियों को ईमानदारी, स्वच्छता और स्पष्टता की शपथ भी दिलाई।

नौकरशाही पर भरोसा
मुख्यमंत्री योगी ने प्रदेश के अधिकारियों पर भरोसा जताते हुए अफसरों से कहा है कि पारदर्शिता के साथ उच्च आदर्शों का पालन करें। सरकार की योजनाओं को जनता तक पहुंचाने की जिम्मेदारी अधिकारियों को देते हुए सीएम योगी ने कहा कि ये काम उन्हें ही पूरा करना है और इसका परिणाम भी उन्हीं से पूछा जाएगा।

संकल्प पत्र को प्राथमिकता
चुनाव के दौरान जनता से किए गए वादों को पूरा करने का सीएम योगी ने संकल्प दोहराया है। उन्होंने अधिकारियों से कहा है कि वे संकल्प पत्र पढ़ें और उसे लागू करें। इसके साथ ही सीएम योगी ने आगे की प्लानिंग और कार्य करने के पूरी रूपरेखा तैयार करने के भी आदेश दिए। हालांकि शपथ ग्रहण की रात से ही संकल्प पत्र के मुताबिक अवैध बूचड़खानों पर ताले लटकने का सिलसिला शुरू हो चुका है। इसके साथ ही सीएम ने अयोध्या में रामायण म्यूजियम के लिए 20 एकड़ जमीन का आवंटन भी कर दिया है।  

गोरखपुर में मिनी सीएमओ !
ऐसी खबर है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस तरह वाराणसी में मिनी पीएमओ बनाया था, उसी तरह अब सीएम आदित्यनाथ भी गोरखपुर में मिनी सीएमओ बनाएंगे। सूत्रों के मुताबिक गोरखनाथ मंदिर को मिनी सीएमओ के तौर पर विकसित किए जाने की चर्चा है। हालांकि अभी इसकी आधिकारिक घोषणा नहीं की गयी है।

LEAVE A REPLY