Home विचार कांग्रेस परस्त वकीलों के लिए अदालतें खुलतीं आधी रात, क्यों नहीं मिलता...

कांग्रेस परस्त वकीलों के लिए अदालतें खुलतीं आधी रात, क्यों नहीं मिलता आम आदमी को इंसाफ?

251
SHARE

पुणे पुलिस ने भीमा-कोरेगांव हिंसा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हत्या की साजिश रचने के आरोप में 28 अगस्त को कई लोगों को गिरफ्तार किया। घटना से जुड़ी ‘डिजिटल बातचीत’ और ‘साइबर सबूत’ मिले हैं। इसमें से पांच आरोपी यीपीए-2 शासन के दौरान भी राडार पर थे, और जेल भी जा चुके थे। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने 29 जुलाई को ही आरोपी वरवरा राव, सुधा भारद्वाज, अरुण फरेरा, वर्नोन गोंजालवेज और गौतम नवलखा को पुलिस रिमांड पर भेजने से मना कर दिया। बहरहाल जिस तरह से इन ‘अर्बन माओवादियों’ को बचाने के लिए वकीलों की फौज खड़ी हो गई, और इनकी गिरफ्तारी भी रोक दी गई, वह अदालतों में कांग्रेस की ताकत को बयां कर गया।

आपको बता दें कि देश की अदालतों में 3.3 करोड़ केस पेंडिंग हैं, लेकिन जुलाई, 2015 में जब आतंकी याकूब मेमन की फांसी रुकवाने के लिए आधी रात को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खोला गया तो आम आदमी के अस्तित्व पर सवाल खड़ा कर गया। ऐसा माना जाता है कि सुप्रीम कोर्ट में प्रशांत भूषण, अभिषेक मनु सिंघवी, तुषार मेहता, कपिल सिब्बल,  इंदिरा जय सिंह जैसे वकीलों का दबदबा है और ये जो चाहते हैं वही फैसला होता है।

कांग्रेस परस्त और आम आदमी में फर्क समझिये

प्रशांत भूषण की अपील पर याकूब मेमन की फांसी रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट में आधी रात को सुनवाई

सिख नरसंहार के 34 वर्ष होने के बाद भी 2800 से अधिक पीड़ितों को सुप्रीम कोर्ट इंसाफ नहीं दे पाया

कपिल सिब्बल की दलील पर सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात HC  के आदेश के बाद भी तीस्ता सीतलवाड़ को अग्रिम जमानत दी

भोपाल त्रासदी के 33 वर्ष बाद भी 21 हजार से अधिक लोगों को सुप्रीम कोर्ट से नहीं मिल पाया न्याय

नक्सल समर्थक नंदिनी सुंदर के विरुद्ध पर्याप्त सबूत होने के बाद भी सुप्रीम कोर्ट ने गिरफ्तारी नहीं करने का आदेश दिया

कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि राम मंदिर की सुनवाई 2019 में चुनाव के बाद करे, फैसला पेंडिंग

 

LEAVE A REPLY