Home समाचार अलविदा सुषमा स्वराज

अलविदा सुषमा स्वराज

154
SHARE
फोटो सौजन्य

भाजपा की वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार रात को नई दिल्ली में निधन हो गया। वह 67 साल की थीं। उनके परिवार में पति स्वराज कौशल और बेटी बांसुरी हैं। आखिरी सांस लेने से तीन घंटे पहले ही उन्होंने अपना आखिरी ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने अनुच्छेद 370 पर कहा था कि प्रधानमंत्री जी आपका हार्दिक अभिनंदन, मैं अपने जीवन में इस दिन को देखने की प्रतीक्षा कर रही थी।

फोटो सौजन्य

सुषमा स्वराज का जन्म हरियाणा के अंबाला में हरदेव शर्मा और लक्ष्मी देवी के घर 14 फरवरी 1952 को हुआ था। अंबाला छावनी के एसडी कॉलेज से स्नातक की डिग्री हासिल करने के बाद सुषमा स्वराज ने पंजाब यूनिवर्सिटी से कानून की पढ़ाई की। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में वकील के तौर पर प्रैक्टिस भी शुरू की और 1975 में उनका विवाह पेशे से वकील स्वराज कौशल से हुआ। स्वराज कौशल मिजोरम के गवर्नर रह चुके हैं। बेटी बांसुरी लंदन में वकालत करती हैं।

फोटो सौजन्य

सुषमा स्वराज ने अपना राजनीतिक करियर 1970 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से किया। उन्होंने अपना पहला चुनाव 1977 में हरियाणा की अंबाला सीट से लड़ा। यह चुनाव जीतकर देश की सबसे युवा विधायक बनीं। तब वे महज 25 साल की थीं। उन्हें चौधरी देवीलाल की सरकार में मंत्री भी बनाया गया। उस समय वह सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्री थीं। 1977 के बाद 1987 में भी हरियाणा विधानसभा के लिए चुनी गईं।

फोटो सौजन्य

सुषमा जी 1990 में राज्यसभा सदस्य बनीं। 1996 और 1998 में दक्षिण दिल्ली से लोकसभा सांसद बनीं। 1996 में वाजपेयी सरकार में 13 दिन के लिए सूचना-प्रसारण मंत्री बनीं। सुषमा जी अक्तूबर, 1998 में दिल्ली की मुख्यमंत्री बनीं। वह दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री थीं। वह 2000 से 2003 तक केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री रहीं।

फोटो सौजन्य

इसके बाद 2014 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में बनी सरकार में विदेश मंत्री रही। सुषमा स्वराज की गिनती भाजपा के कद्दावर नेताओं में थीं। यहां तक की प्रधानमंत्री मोदी ने भी कई मौकों पर उनकी तारीफ की। स्वास्थ्य कारणों से उन्होंने 2019 में चुनाव नहीं लड़ा।

फोटो सौजन्य

सात बार सांसद रहीं सुषमा स्वराज न सिर्फ आम जीवन में बल्कि सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव और आम लोगों के बीच काफी लोकप्रिय थीं। उन्हें वर्ष 2008 और 2010 में सर्वश्रेष्ठ सांसद का पुरस्कार भी मिला। इस पुरस्कार को प्राप्त करने वाली वह पहली और एकमात्र महिला सांसद हैं।

Leave a Reply