Home विचार अपशब्दों की ‘खेती’ करते हैं राहुल-सोनिया

अपशब्दों की ‘खेती’ करते हैं राहुल-सोनिया

195
SHARE

फिल्म से राजनीति में आईं कांग्रेस की सोशल मीडिया हेड दिव्या स्पंदना ने 24 सितंबर को ट्विटर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तस्वीर शेयर की। इस दौरान उन्होंने मर्यादा की सारी सीमाएं लांघ दीं। दरअसल ये ‘प्रेरणा’ उन्हें राहुल गांधी से मिल रही है। कांग्रेस अध्यक्ष भी पीएम मोदी के लिए लगातार अपशब्दों का प्रयोग कर रहे हैं, और इसी आचरण का अनुसरण आजकल पूरी कांग्रेस पार्टी कर रही है।

हालांकि देश ने राजनीति का वह दौर भी देखा है जब राहुल गांधी के पिता और पूर्व पीएम राजीव गांधी पर भी बोफोर्स सौदे में ‘दलाली’ खाने के आरोप लगे थे। राहुल गांधी की माता जी सोनिया गांधी के करीबी क्वात्रोच्चि को फ़ायदा पहुंचाने के सबूत भी सामने आए थे। हालांकि तब किसी ने भी राजीव गांधी और सोनिया गांधी को ‘चोर’ नहीं कहा था। पूर्व पीएम मनमोहन सिंह पर कोयला और टूजी घोटाले में जान बूझकर आंखें बंद करने का आरोप लगा, लेकिन उन्हें भी भाजपा के किसी नेता ने अपशब्द नहीं कहे।

आपको बता दें कि अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले में सोनिया गांधी पर कानूनी कार्रवाई की तलवार लटक रही है। खुद राहुल गांधी इनकम टैक्स चोरी के आरोप में घिरे हुए हैं। करोड़ों रुपये के नेशनल हेराल्ड घोटाले में वे जमानत पर हैं, लेकिन अब तक किसी ने उन्हें ‘चोर’ नहीं कहा है। बहरहाल अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर अपशब्दों का इस्तेमाल करती रही कांग्रेस को ऐसे अमर्यादित आचरण की कीमत भी चुकानी पड़ी है। कभी पूरे भारत पर राज करने वाली कांग्रेस आज महज चार राज्यों में सिमट गई है, लेकिन वह अब भी सबक नहीं सीख पाई है।

पीएम मोदी के लिए राहुल-सोनिया की ‘नफरत’

20 सितंबर, 2018
राहुल गांधी ने जयपुर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ‘चोर’ कहा
6 अक्टूबर, 2016
राहुल गांधी ने सेना को गाली दी और पीएम मोदी को ‘खून का दलाल’ कहा
01 फरवरी, 2014
सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को ‘जहर की खेती’ करने वाला कहा
दिसंबर, 2007
सोनिया गांधी ने गुजरात में प्रधानमंत्री मोदी को ‘मौत का सौदागर’ कहा

बहरहाल यह स्पष्ट है कि राहुल उस रणनीति पर काम कर रहे हैं जिसमें एक झूठ बनाकर उसे ही बार-बार बोला जाता है। लेकिन चुनावी फ़ायदे के लिए शाब्दिक मर्यादाओं को ताक पर रख देना तो कतई जायज नहीं है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY