Home चुनावी हलचल इटली के मेयर से तुलना कर राहुल गांधी ने किया पंजाब का...

इटली के मेयर से तुलना कर राहुल गांधी ने किया पंजाब का अपमान

683
SHARE

राहुल गांधी को याद आया है सन् 2004 का किस्सा, जब उनकी मम्मी सोनिया गांधी प्रधानमंत्री बनते-बनते रह गयी थीं। पूरे देश में जबरदस्त विरोध के कारण सोनिया की पीएम बनने की इच्छा पूरी नहीं हो पाई थी। शायद गांधी परिवार इस बात को पचा नहीं पाया है अब तक। उन लोगों को भुला नहीं पाया है अब तक, जो उनकी हसरत को पूरा करने में बाधा बने थे।

पंजाब में मतदान की तारीख करीब है। वोट मांगते-मांगते राहुल ने जलालाबाद में कहा कि उनकी मां इटली से है। उन्होंने आगे कहा कि जैसे इटली से भारत आकर उनकी मां यहां रहती हैं वैसे ही भारत से इटली जाकर वहां बहुत सारे पंजाबी रहते हैं। राहुल गांधी की इस बात से लोगों को आश्चर्य हो रहा था कि आखिर वो क्या कहना चाहते हैं?

अब जरा आगे गौर कीजिए। राहुल कहते हैं कि 2004 में सोनिया जी ने प्रधानमंत्री का पद छोड़ दिया था। हालांकि राहुल ने ये नहीं बताया कि उस समय पूरे देश में विरोध हो रहा था। राहुलजी आगे कहते हैं। उसी साल यानी 2004 में ही एक पंजाबी सिख ने मेयर का इलेक्शन इटली में लड़ा। उसने ये कहते हुए वोट मांगे कि सोनियाजी को हिन्दुस्तानियों ने सपोर्ट किया है, आप भी मुझे कीजिए। फिर, राहुल कहते हैं- और वो वहां के मेयर बन गये। वे वहां बहुत अच्छा काम कर रहे हैं।

राहुल गांधीजी ये क्या तुलना कर रहे हैं आप? क्या वो ये बताना चाहते हैं कि इटली के लोगों ने एक सिख को मेयर स्वीकार कर लिया, तो भारत के लोगों ने सोनिया गांधी को प्रधानमंत्री क्यों नहीं स्वीकार किया? राहुलजी, मेयर का पद और प्रधानमंत्री के पद में फर्क होता है। मेयर के चुनाव में देशी-विदेशी की बात लागू नहीं होती, लेकिन जब देश के नेतृत्व का सवाल आता है तो ये बात लागू होती है।

क्या राहुलजी ये कहना चाहते हैं कि इटली के लोग हिन्दुस्तान के लोगों से बेहतर हैं… जो एक सिख को मेयर चुन लेते हैं। वहीं, हिन्दुस्तानी एक इटालियन महिला को प्रधानमंत्री नहीं स्वीकार करते? क्या राहुलजी, इतना तो समझ लेते कि ये पंजाब का चुनाव है… ये आम चुनाव नहीं है जिसमें पीएम के देशी-विदेशी का मुद्दा कोई मुद्दा हो सकता है। उदाहरण भी ऐसा दिया जिनसे न सिखों का लेना-देना, न दूसरों का। अगर कोई सिख इटली में मेयर बनता है तो ये बात खुशी की है, गौरव की है, मगर चुनाव में उठाने की नहीं है। राहुल के इस बयान ने कई सवाल खड़े कर दिए है

  • क्या राहुल गाधी ये उदाहरण देकर भारत की जनता का अपमान नहीं कर रहे हैं?
  • क्या राहुल के इस बयान से पंजाब की जनता का अपमान नहीं हो रहा है?
  • क्या इटली का उदाहरण देकर राहुल गांधी ये जता रहे हैं कि उनकी मम्मी के प्रधानमंत्री न बन पाने का कसक आज भी इस परिवार के अंदर है?

LEAVE A REPLY