Home नरेंद्र मोदी विशेष 2022 तक न्यू इंडिया बनाने के लिए हम मिलकर संकल्प लें- पीएम...

2022 तक न्यू इंडिया बनाने के लिए हम मिलकर संकल्प लें- पीएम मोदी

343
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 71वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से देशवासियों को संबोधित किया। लाल किले से चौथी बार सवा सौ करोड़ देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं देते हुए उन्होंने कहा कि आज जन्माष्टमी का पर्व भी है। उन्‍होंने देशवासियों को स्‍वतंत्रता दिवस के साथ ही जन्‍माष्‍टमी की भी बधाई दी। भाषण की शुरुआत में प्रधानमंत्री मोदी ने गोरखपुर हादसे का जिक्र करते हुए घटना पर दुख व्‍यक्‍त किया।

‘न्यू इंडिया’ बनाने का संकल्प
प्रधानमंत्री मोदी ने 2022 तक ‘न्यू इंडिया’ बनाने के संकल्प पर जोर दिया। पीएम मोदी ने कहा कि भारत में कोई छोटा या बड़ा नहीं है, सब एक बराबर हैं। एक साथ आकर ही हम बदलाव ला सकते हैं। पीएम मोदी ने कहा कि यह एक खास वर्ष है, क्योंकि देश भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं, चंपारण सत्याग्रह की 100वीं और गणेश उत्सव की 125वीं सालगिरह मना रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के 75 साल में से 5 साल अभी हमारे पास हैं, परिश्रम कर 2022 तक न्यू इंडिया का संकल्प लेकर चलना है। उन्होंने कहा कि प्रभु राम ने सामूहिक प्रयास से समुद्र पर पुल बना दिया, गांधी जी ने मिलकर देश को आजाद करा दिया। सामूहिक शक्ति के द्वारा हम देश में परिवर्तन ला सकते हैं, न्यू इंडिया को समृद्ध और शक्तिशाली बनाा सकते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि साधक हो, साधन हो, सामर्थ्य हो, लेकिन जब ये त्याग और तपस्या जुड़ते हैं तो परिवर्तन आ जाता है।

ना गाली, ना गोली, गले लगाने से
श्री मोदी ने अपने भाषण में कश्‍मीर समस्‍या का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि सरकार कश्‍मीर समस्‍या के हल के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। उन्होंने साफ कहा कि, ‘कश्‍मीर की समस्‍या न गाली से सुलझने वाली है, ना गोली से सुलझने वाली है, समस्या सुलझने वाली है गले लगाने से और इस संकल्प को लेकर हम आगे बढ़ रहे हैं।’

गोरखपुर में मासूम बच्चों की मौत पर जताया शोक
गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में 70 से अधिक बच्चों की मौत पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पूरे देश को इन बच्चों की मौत और प्राकृतिक आपदाओं में लोगों की जान जाने का दुख है और पूरे देश की सहानुभूति प्रभावित परिवारों के साथ है। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक आपदाएं एक बड़ी चुनौती बन गयी हैं। अच्छी वर्षा से देश की संपत्ति बढ़ती है। किन्तु मौसम में बदलाव के कारण समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं। उन्होंने कहा कि हाल के समय में देश के कई हिस्सों में प्राकृतिक आपदा का सामना करना पड़ा। एक अस्पताल में बच्चों की मौत हो गयी और पूरा देश उनके साथ है। श्री मोदी ने कहा कि 125 करोड़ देशवासियों की संवेदनाएं उनके साथ है तथा पूरा देश उनके साथ है। सरकार उनकी यथासंभव मदद करेगी।

देश की रक्षा करने में सक्षम
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा को प्राथमिकता देती है। साथ ही उन्होंने दावा किया कि देश सभी क्षेत्रों में अपनी रक्षा करने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि भारत किसी भी मोर्चे…जमीन, सागर या साइबर क्षेत्र में कोई भी चुनौती का सामना करने के लिए सक्षम है। उन्होंने कहा कि हमारे देश में वर्दी में रहने वाले लोगों ने बलिदान की पराकाष्ठा की, सर्जिकल स्ट्राइक में दुनिया को लोहा मानना पड़ा। हम हर तरह से सक्षम हैं और भारत की ओर आंख उठाने वालों को जवाब देने को तैयार हैं।

भ्रष्टाचार पर वार
लाल किले से पीएम मोदी ने कहा कि भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए कदम उठाए गए और बेनामी संपत्ति के खिलाफ कानून बनाया गया, अब असर दिख रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि गरीबों को लूट करके तिजोरी भरने वाले लोग आज भी चैन की नींद नहीं सो पा रहे हैं, ईमानदारों को अब विश्वास बढ़ रहा है। हमने कम समय में बेनामी संपत्ति पर कार्रवाई की, अभी तक 800 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की है, जिससे लोगों को विश्वास मिला है। पिछले 40 साल से वन रैंक वन पेंशन का मामला अटका हुआ था, हमनें इस मसले को निपटाया। उन्होंने कहा कि जीएसटी के जरिए देश को एक नई ताकत मिली है। जीएसटी की सफलता हिंदुस्तान के सामर्थ्य का प्रतीक है।

विकास की रफ्तार तेज
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज विकास की रफ्तार तेज है। दोगुनी रफ्तार से सड़कें बन रही हैं, दोगुनी रफ्तार से रेल की पटरियां बन रही हैं। अभी तक 14, 000 गांवों में बिजली पहुंचाई जा चुकी हैं। 29 करोड़ लोगों को बैंक खाते खोले गए, नौ करोड़ से ज्यादा किसानों के सॉयल हेल्थ कार्ड बने हैं, 2.5 करोड़ से ज्यादा गैस चूल्हे दिए गए हैं, इससे गरीब व्यक्ति मुख्य धारा से जुड़ा है।

भाषण के बाद प्रधानमंत्री मोदी बच्चों से मिलने पहुंचे और उनसे बात भी की।

LEAVE A REPLY