Home नरेंद्र मोदी विशेष देश निर्माण में उद्योगपतियों की महत्वपूर्ण भूमिका, लेकिन जो गलत करेगा उन्हें...

देश निर्माण में उद्योगपतियों की महत्वपूर्ण भूमिका, लेकिन जो गलत करेगा उन्हें जेल जाना होगा : प्रधानमंत्री मोदी

448
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लखनऊ में उत्तर प्रदेश की 60 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं का एक साथ शिलान्यास किया। इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित ‘ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी’ में नींव के पत्थर पर हस्ताक्षर करने के बाद अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि देश को आगे बढ़ाने के लिए हर किसी के साथ और सहयोग की आवश्यकता है और इसमें उद्योगपतियों की महत्वपूर्ण भूमिका है। प्रधानमंत्री ने कहा, ”आप राष्ट्र निर्माण की एक महत्वपूर्ण इकाई हैं और आपके संकल्प, देश के करोड़ों नौजवानों को सपनों से भी जुड़े हुए हैं।” उन्होंने कहा कि तमाम निवेशकों को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि अभी तो शुरुआत है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ”स्थायी विकास और सतत प्रयास ही सवा सौ करोड़ हिंदुस्तानियों के सपनों को सच करने वाला है।”

पीएम मोदी ने कहा, ”देश के उद्योगपतियों की देश को बनाने में अहम् भूमिका रहती है अगर हम उन्हें अपमानित करेंगे तो कैसे काम होगा। उन्होंने कहा, ”हां, जो गलत काम करेगा उसको जेल में जिंदगी गुजारनी पड़ेगी।” 

प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए अनुकूल वातावरण बनाने के लिए योगी आदित्यनाथ की सरकार की प्रशंसा करते हुए कहा, ”यहां के शासन-प्रशासन ने ‘इंटेंट को इन्वेस्टमेंट’ में बदलने के लिए माहौल पैदा किया है। यूपी में बदली हुई कार्यसंस्कृति ने प्रदेश में निवेश के लिए अनुकूल वातावरण तैयार किया।” उन्होंने कहा कि ऑनलाइन एमओयू ट्रैकर हो या क्लीयरेंस के लिए निवेश मित्र जैसा डिजिटल प्लेटफॉर्म, ये यूपी में बिजनेस के लिए बने अनुकूल वातावरण को दर्शाता है।

पीएम मोदी ने उद्योपतियों से कहा कि एक योजना का दूसरी योजना के सीधा लिंकअप है ‘डिजिटल इंडिया’ और ‘मेक इन इंडिया’ इसका ज्वलंत उदाहरण है। मोबाइल फोन इतने सस्ते हुए क्योंकि भारत में मोबाइल फोन का मैन्युफैक्चर बड़ी तेजी से हो रहा है। आज हम विश्व में दूसरे नंबर पर हैं। उन्होंने कहा कि अभी तो यह शुरुआत है हमें और तेज गति से दौड़ना है तभी समृद्धि की ओर बढ़ पाएंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मैंने यूपी की 22 करोड़ जनता को वचन दिया था कि उनके प्यार को ब्याज समेत लौटाउंगा। यहां जो परियोजनाएं शुरू हो रही हैं वो उसी वचनबद्धता का हिस्सा हैं। उन्होंने कहा, ”ये प्रोजेक्ट्स उत्तर प्रदेश में आर्थिक और औद्योगिक असंतुलन को दूर करने में भी सहायक होंगे।”

उन्होंने कहा,  ”प्रक्रियाओं में गति भी दिखे और संवेदनशीलता भी। ना अपना, ना पराया, ना छोटा, ना बड़ा, सबके साथ समान व्यवहार यानि – ‘सबका साथ, सबका विकास’।”

प्रधानमंत्री मोदी ने इस ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी को रिकॉर्ड ब्रेकिंग सेरेमनी करार दिया। उन्होंने कहा, ”इतने कम समय में प्रक्रिया को सरल कर इतना बड़ा निवेश करना बड़ी बात है।” प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं भी बहुत लंबे अरसे तक मुख्यमंत्री रहा हूं, औद्योगिक गतिविधियों से जुड़ा रहा हूं यह कम नहीं है। यूपी इन्वेस्टर्स समिट के 5 महीने बाद ही इतना बड़ा निवेश होना बड़ा काम है कोई छोटा काम नहीं, मैं इसके लिए सभी को बधाई देता हूं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सस्ती और निरंतर बिजली सामान्य जीवन के लिए मूलभूत आवश्यकता है। उन्होंने कहा, ”उजाला स्कीम के माध्यम से पिछले 3 वर्षों में 50 हजार करोड़ रुपये बिजली बिल पर बचाए। एसइडी ब्लबों के जरिए बिजली बिल कम हुआ है। अगर मैं इस राशि पर छूट की घोषणा दे देता तो ‘वाह! वाह मोदी जी’ हेडलाइन बन जाती।”

पीएम मोदी ने कहा कि बिजली पर सरकार का बहुत बड़ा फोकस है हम ग्रीन एनर्जी की ओर तेजी से बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो कोयला कभी कालिख के लिए मशहूर हुआ था उसका उत्पादन अब रिकॉर्ड स्तर पर है। पीएम मोदी ने कहा कि जो लोग मेरे खिलाफ मामले ढूंढ रहे हैं उनके खिलाफ सबसे ज्यादा मामले निकलेंगे क्योंकि मेरे खाते में केवल 4 साल हैं उनके खाते में 70 साल रहे।

पीएम मोदी ने पिछली सरकारों के कामकाज के तरीके पर सवाल खड़ा किया और कहा, ”पहले पर्दे के पीछे बहुत कुछ होता था। देश में कोई भी ऐसा उद्योगपति नहीं होगा जो सरकार के सामने जाकर दंडवत ना होता हो।”

पीएम मोदी ने कहा कि देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी कहते रहे हैं कि वो ऐसा भारत देखना चाहते हैं जो समृद्ध हो, सक्षम हो और संवेदनशील हो। जहां गांव और शहरों के बीच खाई ना हो। जहां केंद्र और राज्य में, श्रम और पूंजी में, प्रशासन और नागरिक में गैप न हो। हम उनके कथन की ओर बढ़ रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि 5 महीने में दूसरी बार उद्योगपतियों से मिल रहा हूं। इतने कम समय में इतना काम हुआ है। ऐसा शायद उत्तर प्रदेश के इतिहास में पहली बार हुआ है। उन्होंने कहा, ”मुझे उम्मीद है जिस स्पीड से यूपी तरक्की कर रहा है, उसे 1 बिलियन डॉलर की चुनौती को पार करने में ज्यादा समय नहीं लगेगा।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इन परियोजनाओं के लिए जमीन मिल पाई, ये पटवारियों की वजह से हो पाया। इसके लिए उनका शुक्रिया अदा करता हूं। देश को या तो प्रधानमंत्री चला पाता है या फिर पटवारी। ये नेतृत्व की सफलता है कि इतने कम समय में मुख्यमंत्री से लेकर पटवारी तक पूरी टीम एक जैसी सोच के साथ आगे बढ़ी।

ये प्रॉजेक्ट्स डिजिटल इंडिया और मेक इन इंडिया को नया आयाम देने की दिशा में बहुत बड़े कदम सिद्ध होने वाले हैं। उत्तर प्रदेश में इंटरनेट सर्विस पहुंचाने के लिए फाईबर बिछाना हो या फिर आईटी सेंटर स्थापित करना, डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर यूपी के विकास को नई गति, नई दिशा देने वाला है।

पीएम मोदी ने कहा कि आज आइटी एक्सपोर्ट रिकॉर्ड स्तर पर है। चालीस लाख से अधिक लोग इससे जुड़े हैं। लेकिन बड़े शहरों तक सीमित हैं। हमारी सरकार इस ताकत को देश के छोटे शहर और गांवों तक पहुंचाने पर काम कर रही है।

प्रधानमंत्री मोदी ने जानकारी दी कि दो महीने पहले उद्योग जगत के लोगों को बुलाया था और कहा था कि आप इतने बड़े लोग हैं कृषि क्षेत्र में इनवेस्टमेंट सिर्फ एक प्रतिशत है। उन्होंने कहा, ”मैंने सबको आग्रह किया है कि वियर हाउसिंग, कोल्ड स्टोरेज , पैकेजिंग जैसे लाभ पहुंचाने के लिए मैंने देश के उद्योगकारों के लिए लिए आग्रह किया है। जितना कॉरपोरेट इन्वेस्टमेंट ला पाएंगे उतना ही अच्छा होगा।”

आपको बता दें कि पीएम मोदी ने जिन 60 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास किया, इनमें टीसीएस नोएडा में आईटी/आईटीईएस सेंटर की स्थापना शामिल है। पूरा प्रोजेक्ट 2300 करोड़ का होगा।  इससे लगभग 30 हजार लोगों को रोजगार मिलने की बात कही जा रही है। इसके अलावा उन्होंने बिजनौर में सीमेंट प्लांट, बरेली में प्रोसेसिंग यूनिट और गोरखपुर में इंटिग्रेटेड स्टील प्लांट और हरदोई में इंटीग्रेटेड पेंट प्लांट का शिलान्यास किया।

LEAVE A REPLY