Home समाचार टेक्नोलॉजी और जागरूकता से दूर होगी पर्यावरण समस्या: प्रधानमंत्री मोदी

टेक्नोलॉजी और जागरूकता से दूर होगी पर्यावरण समस्या: प्रधानमंत्री मोदी

184
SHARE

विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर नई दिल्ली में आयोजित वैश्विक पर्यावरण दिवस समारोह ‘Beat plastic pollution‘ का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि भारत पर्यावरण के क्षेत्र में वसुधैव कुटुंबकम की अवधारणा के साथ आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि पढ़ते प्रदूषण के खतरे से निपटने के लिए विश्व समुदाय को एक साथ सहयोग के स्तर पर साथ आना होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि जागरूकता और टेक्नोलॉजी के सहारे हम इस पर विजय प्राप्त कर सकते हैं। गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र संघ ने इस साल विश्व पर्यावरण दिवस के आयोजन की मेजबानी भारत को सौंपी है।

पीएम मोदी ने कहा, ”हमें विश्व पर्यावरण दिवस का वैश्विक मेजबान होने पर गर्व है। हमारा उद्देश्य प्रति बूंद अधिक फसल है। हम पहले से ही दुनिया में सौर ऊर्जा का 5 वां सबसे बड़ा उत्पादक हैं। यही नहीं हम दुनिया में नवीकरणीय ऊर्जा का 6 वां सबसे बड़ा उत्पादक भी हैं।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत सरकार की अधिकतर योजनाएं पर्यावरण के प्रति उसकी संजीदगी को दिखाता है। उन्होंने कहा कि उज्ज्वला योजना के तहत 4 करोड़ से अधिक बीपीएल परिवारों को एलपीजी कनेक्शन देना हो या फिर स्वच्छ भारत अभियान के तहत खुले में शौच से मुक्ति का अभियान, या फिर एलईडी बल्व की योजनाएं, यह सभी पर्यावरण के प्रति भारत के संकल्प को दिखाता है।

प्रधानमंत्री मोदी ने पर्यावरण के मुद्दे पर विश्व समुदाय को साथ आने का आह्वान किया और कहा कि यह सामूहिक समस्या है और इसे दूर करने के लिए सबको साथ आना होगा। उन्होंने कहा कि भारत अपनी ओर से प्रयास कर रहा है, लेकिन वक्त है कि आइये हम सभी साथ हो जाएं, प्लास्टिक पॉल्यूशन को दूर करें और दुनिया को बेहतर बनाएं। 

प्रधानमंत्री मोदी ने इससे पहले राजपथ लॉन में प्रदर्शनी का भी मुआयना किया। इस बार का थीम प्लास्टिक प्रदूषकों से निपटने पर आधारित है। समारोह में प्रधानमंत्री मोदी पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों से विश्व समुदाय को अवगत कराया। आपको बता दें कि पीएम मोदी ने मई महीने के आखिरी रविवार को मन की बात कार्यक्रम में भी पर्यावरण का जिक्र किया था और इस बात पर खुशी जताते हुए कहा था कि विश्व पर्यावरण दिवस का आयोजन भारत में होना एक बड़ी वैश्विक स्तर की उपलब्धि है।

पीएम मोदी के संबोधन से पहले यूएनईपी के कार्यकारी निदेशक एरिक सोलहेम ने कहा कि विश्व पर्यावरण दिवस के आयोजन के लिए भारत उनकी पहली पसंद था। इसकी आबादी और आर्थिक विकास एक मजबूत पक्ष है। शहरीकरण का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पर्यावरण को लोगों का मुद्दा बनाना चाहिए।

LEAVE A REPLY