Home समाचार पीएम मोदी की पहल पर अटल पेंशन योजना मतलब सबको मिले पेंशन...

पीएम मोदी की पहल पर अटल पेंशन योजना मतलब सबको मिले पेंशन की सुविधा

640
SHARE

प्रधानमंत्री बनने के बाद से लगातार नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार गरीब, दलित, पिछड़े और असंगठित लोगों के लिए काम कर रही है। उसकी झलक केंद्र सरकार की योजनाओं में दिखता है। केंद्र सरकार को वर्तमान ही नहीं देश के नागरिकों के भविष्य की भी चिंता है। इसको देखते हुए केंद्र सरकार ने मई, 2015 में अटल पेंशन योजना की शुरुआत की। इस योजना की शुरुआत होने से कोई भी व्यक्ति जो कहीं संगठित क्षेत्र नौकरी नहीं करता है, उन्हें भी केंद्र सरकार पेंशन का लाभ लेने का हकदार बना दिया है। 

किसके लिए है अटल पेंशन योजना
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने असंगठित सेक्टर में काम करने वाले लोग जैसे- नाई, लौहार, सुनार, दर्जी, धोबी, मोची से लेकर हर तरह के छोटे-छोटे रेहड़ी चलाने वाले, रिक्शा चलाने या मजदूरी करने वालों के लिए भी सरकार ने अटल पेंशन योजना के तहत पेंशन की व्यवस्था की है।

अटल पेंशन योजना से कितना मिलेगा पेंशन  
कोई भी व्यक्ति जिसकी उम्र 18-40 वर्ष के बीच है। इस योजना के तहत किसी भी बैंक या डाकघर में खाता खुलवा सकता है। इस खाते में खाताधारक को 60 साल की उम्र पूरी होने तक हर महीने एक निश्चित रकम जमा करनी होती है। 60 साल की उम्र पूरी होने के बाद सरकार इस योजना के तहत जमा की गई मासिक रकम के आधार पर न्यूनतम एक हजार रुपए और अधिकतम 5 हजार रुपए पेंशन देती है तो जो ताउम्र मिलती है।

अटल पेंशन योजना में कितना करें मासिक निवेश
इस योजना के तहत एक से लेकर पांच हजार रुपए के बीच मासिक पेंशन मिलता है। एक बार तय कर लिया कि 60 साल की उम्र में 5000 रुपए का पेंशन चाहिए तो इसके लिए निवेश की उम्र के हिसाब से एक तय राशि जमा करानी होती है। उदाहरण के लिए अगर 18 साल की उम्र से जमा करना है तो 42 साल तक 42 रुपए मासिक जमा करेंगे तो 1000 हजार रुपए मासिक पेंशन इस योजना से मिलेगा। अब 1000 हजार के जगह 2 हजार पेंशन चाहिए तो 84 रुपए महीना और अधिकतम 5000 रुपए पेंशन चाहिए तो अधिकतम 210 रुपए मासिक जमा कराना होगा। 

अब तक 3 लाख से अधिक खाते 
अटल पेंशन योजना की सफलता इसी से दिखती है कि अगस्त, 2017 तक 3.07 लाख अटल पेंशन योजना (एपीवाई) खाते संचालित हैं। देश के सबसे बड़े बैंकों में से एक भारतीय स्टेट बैंक में 51 हजार एपीवाई खाते हैं। अन्य प्रमुख बैंक जैसे केनरा बैंक में 32,306 और आंध्रा बैंक में 29,057 एपीवाई खाते हैं जबकि अन्य निजी श्रेणी के बैंकों में कर्नाटक बैंक में 2,641 एपीवाई खाते हैं। आरआरबी श्रेणी में इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक में 28,609 खाते हैं। इसके बाद मध्य बिहार ग्रामीण बैंक में 5,056, बड़ौदा उत्तर प्रदेश ग्रामीण बैंक में 3,013, काशी गोमती संयुक्त ग्रामीण बैंक में 2,847 और पंजाब ग्रामीण बैंक में 2,194 एपीवाई खाते हैं।

अटल पेंशन योजना केवल और केवल असंगठित क्षेत्र के लोगों के लिए लाई गई है। इस योजना का लाभ वो लोग नहीं ले पाएंगे जो पहले से ही किसी न किसी सुरक्षा स्कीम जैसे EPFO का लाभ ले रहे हैं। इस योजना के अलावा भी NPS, PPF, सीनियर सीटिजन सेविंग स्कीम जैसी योजनाएं भी हैं जिसके माध्यम से असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को भविष्य में होने वाली आर्थिक दिक्कतों से मुक्ति मिल सकती है।

LEAVE A REPLY