Home समाचार पहले चरण की वोटिंग के बाद हताश महागठबंधन, मोदीमय हुआ माहौल

पहले चरण की वोटिंग के बाद हताश महागठबंधन, मोदीमय हुआ माहौल

484
SHARE

लोकसभा चुनाव में अभी छह चरण की वोटिंग बाकी है, लेकिन महागठबंधन के नेता अभी से हताश दिख रहे हैं। हार की निराशा उनके चेहरे और बयानों में स्पष्ट दिख रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पहले चरण की वोटिंग वाले अधिकांश सीटों पर एनडीए काफी आगे है और विपक्षी नेता इससे परेशान दिख रहे हैं। पहले चरण में जिन 91 सीटों पर मतदान हुआ, 20114 में बीजेपी ने इनमें से 32 सीटें जीती थीं, लेकिन इस बार यह आंकड़ा 60 से भी ज्यादा हो सकता है।

इसलिए हताश हैं महागठबंधन के नेता

  • यूपी की जिन आठ सीटों पर पहले चरण में वोटिंग हुई है, उन सभी पर बीजेपी उम्मीदवार अपनी जीत के प्रति आश्वस्त दिख रहे हैं। पिछली बार भी बीजेपी ने ये आठों सीटें जीती थीं।
  • यूपी में 2014 में 65.74 प्रतिशत मतदान हुआ था। इस बार 63.69 प्रतिशत वोटिंग हुई। विश्लेषकों का मानना है कि राज्य में महागठबंधन के कार्यकर्ता उस उत्साह से बूथ पर नहीं पहुंचे जिसकी उम्मीद थी।
  • पश्चिम बंगाल में वोटिंग में आई कमी भी टीएमसी के लिए झटका है। राज्य में वोटिंग का ये पैटर्न अगले चरणों में भी बना रहा तो ममता बनर्जी की पार्टी को सीट के लाले पड़ सकते हैं।
  • असम, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र में भी 2014 के मुकाबले कम वोटिंग बीजेपी के लिए फायदा है।
  • विपक्षी नेताओं की हताशा जाहिर
  • चुनाव में अपनी संभावित हार से विपक्षी दल अभी से चिंता में हैं और अनर्गल बयान दे रहे हैं। बसपा सुप्रीमो मायावती ने रैली में मुसलमान मतदाताओं को कांग्रेस को वोट नहीं देने की अपील की।
  • महाराष्ट्र में कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन के प्रत्याशी भीतरघातियों से परेशान हैं, जो खुलकर बीजेपी-शिवसेना के पक्ष में काम कर रहे हैं।
  • बिहार में भी कमोबेश यही हाल है। यहां भी राजद और कांग्रेस के बीच नाम का ही गठबंधन है। वास्तव में दोनों एक दूसरे के खिलाफ ही काम कर रहे हैं।
  • हार से घबराए विपक्षी दल अब बूथ कब्जा जैसी हरकतों पर उतर आए हैं। पहले चरण की वोटिंग के बाद बंगाल और आंध्र प्रदेश से आए वीडियो में विपक्षी पार्टियों के समर्थक बूथ कैप्चर करते हुए दिख रहे हैं।

Leave a Reply