Home समाचार हर भारतीय स्पेशल…बहुत पहले खत्म हो जाना चाहिए था वीआईपी कल्चर

हर भारतीय स्पेशल…बहुत पहले खत्म हो जाना चाहिए था वीआईपी कल्चर

823
SHARE

लाल बत्ती रोक मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि हर भारतीय एक वीआईपी है और यह काफी पहले खत्म हो जाना चाहिए था। प्रधानमंत्री ने कहा कि हर भारतीय खास है और हर भारतीय वीआईपी है।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि ऐसे प्रतीक न्यू इंडिया की भावना से कटे हुए हैं।

इसके पहले वीवीआईपी कल्चर के खिलाफ एक बड़ा फैसला करते हुए मोदी सरकार ने गाड़ियों पर लगने वाली लाल बत्ती पर रोक लगा दी। इस फैसले के बाद अब किसी को भी एक मई से लाल बत्ती लगाकर चलने की इजाजत नहीं होगी। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि यह काफी पहले खत्म हो जाना चाहिए था। खुशी है कि आज एक ठोस शुरुआत हुई है।

प्रधानमंत्री मोदी ट्विटर पर अपने एक प्रशंसकों के ट्वीट का जवाब दे रहे थे। वो लोगों के साथ सीधा संवाद में यकीन रखते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक ट्वीट की वजह से आकाश जैन अचानक सेलेब्रेटी बन गए। श्री मोदी ने आकाश जैन के उस ट्वीट को रीट्वीट कर दिया जिसमें उसने अपनी बहन की शादी के कार्ड पर स्वच्छ भारत अभियान का लोगो छपवाया था। इतना ही नहीं पीएम मोदी ने आकाश जैन को फॉलो भी किया।

प्रधानमंत्री मोदी ट्विटर पर वह लोगों को शुभकामनाएं देते हैं, उनके सवालों का जवाब देते हैं और उनसे संवाद करते हैं।

शैलेंद्र सिंह जडेजा के एक ट्वीट पर उन्होंने जवाब दिया कि स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ आमलोगों तक पहुंचना सरकार की प्राथमिकता है।


इसरो के इतिहास रचने पर भी उन्होंने लोगों के ट्वीट का जवाब दिया।


उत्तर प्रदेश के कनौज रैली पर अनुराग के ट्वीट पर उन्होंने शुक्रिया अदा की।


संसद में भाषण पर लोगों की सलाह पर भी उन्होंने जवाब दिया।


रेडियो की प्रासंगिकता पर भी उन्होंने अपनी राय दी।


इसी तरह वे हमेशा लोगों से सीधा संवाद करने में यकीन करते हैं।

पीएम मोदी के फेसबुक पर चार करोड़, 09 लाख, ट्विटर पर दो करोड़, 92 लाख, गूगल प्लस पर 32 लाख, 35 हजार और लिंक्डइन पर 20 लाख 59 हजार फॉलोअर हैं। इसके साथ इंस्टाग्राम पर पीएम के फॉलोअरों की संख्या 71 लाख है। इसके अलावा उनके नाम पर बने मोबाइल एप को भी एक करोड़ से ज्यादा डाउनलोड किया जा चुका है।

सोशल मीडिया के जरिए वे देश-दुनिया की गतिविधियों पर करीबी नजर रखते हैं। प्रधानमंत्री सोशल मीडिया के जरिए लोगों से सीधा संवाद करने पर यकीन रखते हैं और सरकार की योजनाओं को लागू करने में भी सोशल मीडिया और तकनीक का खूब इस्तेमाल करते हैं। कई बार प्रधानमंत्री सोशल मीडिया के जरिए मन की बात के लिए लोगों से सुझाव भी मांगते हैं।

LEAVE A REPLY