Home समाचार मोदी राज में सैनिक स्कूल जा सकेंगी बेटियां, जारी है बेटी बचाओ-बेटी...

मोदी राज में सैनिक स्कूल जा सकेंगी बेटियां, जारी है बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ मुहिम

169
SHARE

मोदी सरकार ने महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक और बड़ा कदम उठाते हुए सैनिक स्कूलों के दरवाजे भी खोल दिए हैं। अब लड़कों के साथ देश की बेटियों के भी सैनिक स्कूल में पढ़ाई करने का रास्ता साफ हो गया है। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को सत्र 2021-22 से दाखिले की मंजूरी दे दी।

पायलट प्रोजेक्ट की सफलता देखकर लिया गया फैसला

सैनिक स्कूल में बेटियों को दाखिला देने का फैसला रक्षा मंत्रालय द्वारा दो साल पुराने पायलट प्रोजेक्ट की सफलता देखकर लिया गया है। इस प्रोजेक्ट के तहत मिजोरम के छिंगछिंग स्थित सैनिक स्कूल की कक्षा छह में 30 लड़कियों को प्रवेश दिया गया था। इस योजना को धीरे-धीरे सभी सैनिक स्कूलों में लागू करने के लिए संबंधित अधिकारियों को सभी सुविधाएं उपलब्ध कराने और इसके अनुरूप महिला स्टाफ का भर्ती करने के निर्देश दिए हैं।

बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ को मिलेगा बल

ये फैसला पीएम मोदी द्वार शुरू की गई बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ योजना के उद्देश्य को मजबूत करने तथा सशस्त्र बलों में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने की ओर सरकार के लक्ष्य के अनुसार लिया गया है। वहीं मोदी सरकार ने रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों को सैनिक स्कूलों में बेटियों के दाखिले के लिए पर्याप्त महिला कर्मचारियों और आवश्यक आधारभूत संरचना की उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है।

राष्ट्रीय रक्षा है उद्देश्य

सैनिक स्कूल रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत आता है, इन स्कूलों की स्थापना का मुख्य उद्देश्य छात्रों को उचित प्रशिक्षण देकर राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में प्रवेश कराना है। सैनिक स्कूलों में शिक्षण का माध्यम अंग्रेजी है, यह स्कूल, सैनिक स्कूल सोसाइटी द्वारा गठित बोर्ड ऑफ गवर्नर्स द्वारा चलाया जाता है।

Leave a Reply