Home विपक्ष विशेष पुण्य प्रसून और अभिसार के कांग्रेसी पक्षकार होने में अब भी कोई...

पुण्य प्रसून और अभिसार के कांग्रेसी पक्षकार होने में अब भी कोई शक हो तो पढ़ें ये खबर

433
SHARE

एक न्यूज चैनल में रह कर कांग्रेस पार्टी का एजेंडा चलाने के आरोप में नौकरी से निकाल दिए गए टीवी पत्रकार पुण्य प्रसून वाजपेयी और अभिसार शर्मा जल्द ही कांग्रेस पार्टी द्वारा शुरू किए जाने वाले चैनल को ज्वाइन कर सकते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कांग्रेस पार्टी अपने प्रोपेगंडा को खुलेआम चलाने के लिए अपना चैनल लॉन्च करने की योजना बना रही है और इसके लिए उसने दिल्ली के कांग्रेसी मानसिकता वाले पत्रकारों से संपर्क किया है। जल्द ही पुण्य प्रसून वाजपेयी और अभिसार शर्मा जैसे कई पत्रकार कांग्रेस के इस चैनल में जा कर उसका गुणगान करेंगे।

इंडिया स्पीक्स डेली न्यूज वेबसाइट की खबर के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी दुबई के निवासी अनिवासी भारतीय सीसी थंपी के सहयोग से एक चैनल लॉन्च करने वाले हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता और सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने भी ट्वीट कर इस पर अपनी मुहर लगाई है। स्वामी के मुताबिक सोनिया गांधी के आश्रयदाता कहे जाने वाले “सांता क्लाउज” सीसी थंपी क्रिसमस के मौके पर नया न्यूज चैनल लाने जा रहा है। वैसे तो सीसी थंपी बहुत बड़ा बिजनेस मैन है, लेकिन सोनिया गांधी का चौकीदार है। क्योंकि यह दुबई में सोनिया गांधी के पारिवारिक जहाज की चौकीदारी करता है। आपको बता दें कि सीसी थंपी पर एक हजार करोड़ रुपये की हेराफेरी करने के साथ फेमा के तहत केस दर्ज है।

कौन है अनिवासी भारतीय व्यवसायी सीसी थंपी?
रिपोर्ट्स के मुताबिक बीजेपी सांसद सब्रमण्यम स्वामी ने अपने ट्वीट में जिस सीसी थंपी को सोनिया गांधी का सहायक और दुबई में प्लेन का चौकीदार बताया है! दरअसल वह बहुत बड़ा बिजनेस मैन है, साथ ही उस पर भारत में फेमा के तहत कई केस भी चल रहे हैं। मीडिया की खबरों के अनुसार थंपी पर फेमा कानून का कथित रूप से उल्लंघन कर 1,000 करोड़ रुपये से अधिक की हेराफेरी करने का आरोप है। ईडी ने पिछले साल नंवबर में थंपी, उसकी पत्नी एम रोड्रिग्स और उनकी कंपनी द्वारा 1014.75 करोड़ रुपये की हेराफेरी पर फेमा कानून के तहत नोटिस जारी किया था। यह दंपति उस समय जांच एजेंसी के रडार पर आया जब कुछ राजनीतिज्ञों और अफसरों के परिवार से जमीन के सौदों की खबर आई थी।

जाहिर है कि थंपी अनिवासी भारतीय होने की वजह से भारत में जमीन खरीदने के हकदार नहीं हैं। पहले भी ईडी ने फरवरी 2017 में उसकी कंपनी के खिलाफ दिल्ली और एनसीआर में 927 एकड़ जमीन खरीदने के मामले में इसी प्रकार का कथित रूप से फेमा के उल्लंघन का 288 करोड़ रुपये का नोटिस भेजा था। ईडी ने साल 2016 में ही थंपी और उसकी कंपनी के खिलाफ फेमा के तहत केस दर्ज किया था। मालूम हो कि फरीदाबाद के अमीरपुर में थंपी ने जो जमीन खरीदी है वह सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा द्वारा खरीदी गई जमीन से सटी हुई है।

LEAVE A REPLY