Home नरेंद्र मोदी विशेष जनसंपर्क, जनसेवा, जनसमर्थन और जनहित हमारे मार्गदर्शक सिद्धांत हैं: प्रधानमंत्री मोदी

जनसंपर्क, जनसेवा, जनसमर्थन और जनहित हमारे मार्गदर्शक सिद्धांत हैं: प्रधानमंत्री मोदी

759
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को आंद्र प्रदेश के तिरुपति में एक जनसभा को संबोधित किया। पीएम मोदी दो देशों के दौरे के बाद श्रीलंका से सीधे तिरुपति पहुंचे थे। जनसभा में श्री मोदी ने कहा, “हम भाजपा के कार्यकर्ता सिर्फ चुनावी टीम नहीं हैं। हम चुनावी ढोल पीटने के बाद ही मैदान में आने वाले लोग नहीं। हम जनता के सुख-दुख के साथ जुड़े हुए और भव्य भारत के लिए संकल्पबद्ध व्यवस्था हैं। हम चुनाव के बाद भी जन सामान्य के सुख और उनके जीवन में बदलाव लाने के प्रयासों में कोई कमी नहीं आने देंगे। आंध्र और तमिलनाडु में हम विशेष रूप से यह काम करके दिखाएंगे।”

पीएम मोदी ने कहा, “भाजपा के कार्यकर्ता के रूप में जनसंपर्क हमारा नित्यकर्म है। जनसंवाद ये हमारी कार्यशैली का हिस्सा है। जनसंग्रह हमारी निरंतर विस्तार की प्रक्रिया का रूप है। जनहित हमारा लक्ष्य है। इसलिए हम जनसंपर्क, जनसेवा, जनसमर्थन, जनसंकलन और जनहित को लेकर आगे बढ़ते हैं। श्री मोदी ने कहा कि हम लोग देश सेवा के अनेक माध्यमों को चुनते हैं और हर रास्ते पर समर्पित भाव से देश सेवा का संकल्प लेते हैं। इसके अनेक मार्ग और माध्यम हैं, इन सभी में सरकार भी एक माध्यम है। जिनके पास सरकार की जिम्मेदारी नहीं है, ऐसे कार्यकर्ता देश सेवा के काम में अपने माध्यमों से पीछे नहीं हटते।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कुछ लोग चुनाव परिणामों के प्रभाव से अभी भी बाहर नहीं निकल पाए हैं। ये उनकी मजबूरी है। हमारे लिए चुनाव का अध्याय समाप्त हो गया। हमारे लिए तो 130 करोड़ देशवासियों की सेवा करने का अध्याय शुरू हुआ है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “भगवान वेंकटेश्वर ऐसा आशीर्वाद दें कि हमारे 130 करोड़ देशवासियों के सपनों का भारत बनाने के लिए सभी मिलकर काम करें। आज तिरुपति की पावन धरती से आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के नागरिकों का अभिनंदन करना चाहता हूं, जिन्होंने लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए अहम भूमिका निभाई है। यहां पर हमें सफलता मिली या नहीं मिली, यह हमारा मानदंड नहीं है। हमारा एक ही मानदंड है कि हम जनता-जनार्दन की ज्यादा से ज्यादा सेवा कैसे कर पाएं।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि चुनाव के वक्त ही हारना और जीतना होता है। जनता का दिल जीतने के लिए हमें 365 दिन अखंड और अविरल रूप से करते रहना है। हमारे उसी काम को देश ने स्वीकार किया और इतना बड़ा जनादेश दिया है। हमें सरकारें भी बनानी हैं और देश भी बनाना है। इसलिए सरकार का उपयोग भी देश बनाने के लिए ही होना चाहिए। पिछले 5 साल में जनता ने देखा कि मां भारती का काम करने के लिए सरकार समर्पित है और इसीलिए हमें फिर से काम करने का मौका दिया।

श्री मोदी ने आंध्र प्रदेश में जगन रेड्डी की सरकार बनने पर उन्हें शुभकामनाएं दी। और विश्वास जताया कि वे आंध्र के लिए काम करने से पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार पूरी तरह से आंध्र प्रदेश के विकास के लिए संकल्पबद्ध होकर खड़ी रहेगी।

Leave a Reply