Home समाचार मोदी सरकार का सिख समुदाय को तोहफा, काली सूची से हटाए 312...

मोदी सरकार का सिख समुदाय को तोहफा, काली सूची से हटाए 312 सिखों के नाम

191
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने गुरुनानक देव की 550वीं जयंती से पहले काली सूची में शामिल सिखों को बड़ी राहत दी है। काली सूची में शामिल 314 में से 312 सिखों को सूची से बाहर कर दिया गया है। गृह मंत्रालय के अनुसार विदेशी सिख नागरिकों के नामों वाली काली सूची की समीक्षा के बाद 312 सिखों के नाम काली सूची से हटा दिए गए हैं। अब सूची से हटाए गए ये सिख और इनके परिवार के लोग भारत आ सकते हैं। जरूरी मापदंड पूरा कर लेने पर वे प्रवासी भारतीय (ओसीआइ) कार्ड के लिए आवेदन भी कर सकेंगे। गृह मंत्रालय के अधिकारी के अनुसार काली सूची से जिन लोगों के नाम हटाए गए हैं, वह अब भारत में अपने परिवारों से मिलने आ सकते हैं और अपनी जमीन से दोबारा जुड़ सकते हैं। भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के कारण इन लोगों को काली सूची में डाल दिया गया था।

पंजाब के मुख्यमंत्री ने की मोदी सरकार की सराहना
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मोदी सरकार के इस फैसले की सराहना की है। उन्होंने लिस्ट पर विचार करने के लिए केंद्र का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा कि हर सिख को पंजाब और दरबार साहिब में आने का पूरा अधिकार है। काली सूची में शामिल ये सिख ऑपरेशन ब्लूस्टार और सिख विरोधी दंगों के कारण 1980 और 1990 के दशक में देश विरोधी प्रचार के कारण रास्ते से भटक गए थे।

आइए एक नजर डालते हैं कि मोदी सराकर ने सिख समुदाय के लिए  क्या-क्या किया है-

एसआईटी का गठन
30 साल से इंसाफ के लिए तरस रहे 1984 सिख विरोधी हिंसा पीड़ितों को मोदी सरकार में इंसाफ मिल गया। 1994 में कांग्रेस सरकार के दबाव में दिल्ली पुलिस ने ये केस बंद कर दिया था, लेकिन मोदी सरकार ने 2015 में सिखों को इंसाफ दिलाने के लिए एसआईटी बनाई और सजा भी दिलाई। मुख्य आरोपी सज्जन कुमार सहित 3 आरोपियों को जेल भी भेजा गया। एसआईटी ने दंगों से संबंधित 280 केसों की छानबीन की और छानबीन के बाद 52 केस को अपने हाथ में ले लिया।

करतारपुर कॉरिडोर
करतारपुर साहिब सिखों के सबसे पवित्र तीर्थस्थलों में से है। पाकिस्तान में रावी नदी के तट पर स्थित करतारपुर गुरुद्वारा भारत के गुरुदासपुर जिला स्थित डेरा बाबा नानक साहिब से करीब चार किलोमीटर दूर है। गुरु नानक देव जी अपने जीवन काल के करीब आखिरी 18 साल यहां बिताए थे। मोदी सरकार ने गुरु नानक देव की 550वीं जयंती के मद्देनजर पिछले साल नवंबर में करतारपुर कॉरिडोर खोले जाने की मंजूरी दी थी। इसके खोले जाने से भारतीय सिख बिना वीजा के गुरुद्वारे में मत्था टेक सकेंगे।

गुरुनानक जी के नाम पर यूनिवर्सिटी
मोदी सरकार अमृतसर में गुरु नानक जी के नाम पर यूनिवर्सिटी बनाएगी। इस यूनिवर्सिटी का टाइ-अप अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालयों से किया जाएगा। इस यूनिवर्सिटी में सिख धर्म से संबधित अध्ययन किए जा सकेंगे।

350वें प्रकाशोत्सव के लिए 100 करोड़ का बजट
मोदी सरकार ने गुरु गोविंद सिंह जी के 350वें प्रकाशोत्सव के लिए 100 करोड़ रुपये का प्रावधान किया था। दो साल पहले 2017 में तख्त श्री हरिमंदिर जी पटना साहिब में मनाया जाने वाला दशमेश गुरु गोविंद सिंह का 350वां प्रकाश पर्व एक विश्वस्तरीय आयोजन था। प्रधानमंत्री मोदी भी इस समारोह में शामिल हुए थे। प्रधानमंत्री ने कहा था कि ऐतिहासिक समारोहों के आयोजन से हम अपनी भविष्य की पीढ़ियों को उनकी जड़ों से जोड़ते हैं।

गुरु गोबिंद सिंह जी की जयंती पर स्मारक सिक्का
प्रधानमंत्री मोदी ने 13 जनवरी, 2019 को गुरु गोबिंद सिंह जी के जयंती समारोहों के अवसर पर दिल्ली में 350 रुपये का एक स्मारक सिक्का जारी किया। उन्होंने कहा कि गुरु गोबिंद सिंह जी अपनी शिक्षा और आदर्शों के चलते लोगों के लिए प्रेरणा के स्रोत रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के पास जो संस्कृति और ज्ञान की विरासत है उसको दुनिया के चप्पे चप्पे तक पहुंचाने का काम किया जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि प्रेम, शांति और बलिदान का उनका संदेश आज भी समान रूप से प्रासंगिक है।

गुरु गोबिंद सिंह अस्पताल का उद्घाटन
प्रधानमंत्री मोदी ने 4 मार्च, 2019 को गुजरात के जामनगर में गुरु गोबिंद सिंह अस्पताल के नए 750 बेड एनेक्सी को राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने 750 बेड वाले इस अस्तपाल के पीजी होस्टल का भी लोकार्पण किया।

लंगर को किया टैक्स मुक्त
मोदी सरकार ने आजादी के बाद पहली बार लंगर को टैक्स मुक्त कर दिया। अब गुरुद्वारा या धार्मिक स्थलों में बांटे जाने वाले प्रसाद या इस तरह दिए जाने वाले मुफ्त भोजन पर कुछ भी जीएसटी नहीं लगेगा। इस तरह दिए जाने वाले मुफ्त भोजन पर कुछ भी जीएसटी नहीं देना होगा। इसके अलावा धार्मिक स्‍थलों में दिए जाने वाले प्रसादम पर सीजीएसटी और एसजीएसटी अथवा आईजीएसटी, जो भी लागू हो, शून्‍य है।

सुल्तानपुर लोधी हेरिटेज सिटी घोषित
गुरु नानक देव जी के ऐतिहासिक स्थान सुल्तानपुर लोधी को हेरिटेज सिटी घोषित कर उसके विकास के लिए अलग से बजट पास किया गया। पंजाब के कपूरथला जिले में आने वाले सुल्तानपुर लोधी शहर को ‘पिंड बाबे नानक दा’ के नाम से भी जाना जाता है।

विशेष ट्रेन का ऐलान
गुरु नानक देव जी के 550वें गुरु पर्व पर दिल्ली से गुरु नानक देव जी के ऐतिहासिक स्थान सुल्तानपुर लोधी तक संगत के लिए विशेष ट्रेन का ऐलान किया गया। इसे सप्ताह में 5 दिन चलाया जाएगा।

पंज तख्त एक्सप्रेस ट्रेन
यह ट्रेन श्रद्बालुओं को सिखों के पांचों तख्त के दर्शन कराएगी। आईआरसीटीसी श्रद्धालुओं के रहने, खाने-पीने की व्यवस्था करेगा। इस ट्रेन में लगने वाले सभी कोच थर्ड एसी के होंगे।

हर भाषा में गुरुनानक जी के विचार
भारत सरकार ने यूनेस्को से गुरु नानक जी के विचारों को सभी भाषाओं में प्रकाशित करने की अपील की है। इससे अब गुरुनानक जी के विचार दुनिया भर के लोगों के पास उनकी भाषा में पहुंच सकेंगे।

Leave a Reply