Home समाचार मोदी की जीत की भविष्यवाणी से डरी कमलनाथ सरकार ने प्रोफेसर को...

मोदी की जीत की भविष्यवाणी से डरी कमलनाथ सरकार ने प्रोफेसर को किया सस्पेंड

508
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जीत को लेकर कांग्रेस पार्टी और उसकी प्रदेश सरकार इतनी भयभीत है कि भविष्यवाणी करने वाले एक प्रोफेसर को उसके पद से हटा दिया है। असल में कांग्रेस पार्टी कभी संविधान का सम्मान नहीं किया केवल सम्मान करने का ढोंग किया है। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने एक बार फिर अभिव्यक्ति की आजादी को कुचला है। कमलनाथ सरकार ने मध्य प्रदेश के उज्जैन स्थित विक्रम विश्वविद्यालय में ज्योतिर्विज्ञान अध्ययनशाला के प्रमुख डॉ. राजेश्वर शास्त्री मुसलगांवकर को उनके पद से सस्पेंड कर दिय।

अभिव्यक्ति की आजादी कांग्रेस को बर्दाश्त नहीं
उन्हें इसलिए हटाया गया है क्योंकि उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के करीब 300 सीट जीतने की अपनी भविष्यवाणी फेसबुक पर पोस्ट कर दी। फेसबुक पर अपनी भविष्यवाणी पोस्ट करने के लिए ही कमलनाथ सरकार ने उन्हें सस्पेंड कर दिया है। अभिव्यक्ति की आजादी को कुचलने का इससे बड़ा प्रमाण और क्या हो सकता है? यह वही कांग्रेस है जिनके नेता प्रधानमंत्री को उनके तथ्य सामने लाने के लिए पचासों गालियां देते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी गालियां सुनी भी है और बर्दाश्त भी किया है। वहीं कांग्रेस है कि एक अपने प्रोफेसर की भविष्यवाणी तक बर्दाश्त नहीं कर पाती है।

भाजपा को 300 सीट मिलने की भविष्यवाणी   
विक्रम विश्वविद्यालय में ज्योतिर्विज्ञान अध्ययनशाला के प्रमुख डॉ. राजेश्वर शास्त्री मुसलगांवकर ने 28 अप्रैल को अपने फेसबुक पर एक पोस्ट की थी। उस पोस्ट में उन्होंने लिखा था कि इस बार के लोकसभा चुनाव में मोदी अकेले दम पर 300 सीट जीतेंगे जबकि एनडीए की सीट संख्या 300 के पार जाएगी। हालांकि उन्होंने अगले ही दिन अपना पोस्ट हटाते हुए लिखा था कि उनका यह ज्योतिषीय आकलन सिर्फ और सिर्फ शास्त्रीय प्रचार के लिए किया गया है।

ज्योतिषीय शिक्षा को नष्ट करना चाहतें है कमलनाथ 
मुसलगांवकर ने अपने अगले पोस्ट में स्पष्ट कहा है कि उनका यह आकलन सिर्फ शास्त्रीय प्रचार के लिए है। अब इस नासमझ कमलनाथ सरकार को कौन समझाए कि ज्योतिषीय आकलन की व्यावहारिक पुष्टि के लिए भारतीय चुनाव से बेहतर अवसर और कुछ हो ही नहीं सकता। इससे साफ है कि कमलनाथ सरकार भारतीय पारंपरिक शिक्षा को भी नष्ट करना चाहती है।

सिद्धू की रैली में गूंजे मोदी के नारे, शर्मसार हुई कांग्रेस
एक तरफ कांग्रेसी नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गाली देने से बाज नहीं आते वहीं दूसरी तरफ देश की जनता मोदी को गाली देने वालों को सबक सिखाने में जुट गई है। रोहतक में कांग्रेस के बड़बोले नेता नवजोत सिंह सिद्धू की रैली के दौरान लोगों ने मोदी-मोदी के नारे लगाने लगे। कई लोग मोदी के मास्क पहनकर उनके नाम के नारे लगा रहे थे। इतना ही नहीं सिद्धू की रैली के दौरान एक महिला ने उनकी तरफ अपनी चप्पल उछाल दी। हिरासत में लेने पर महिला ने बताया कि नवजोत सिंह सिद्धू और अन्य कुछ नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अंट-शंट बोल रहे थे इसलिए उसने अपनी चप्पल फेक दी। इस घटना से कांग्रेस को काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ी।

Leave a Reply