Home समाचार पीएम मोदी ने डोमराज परिवार को प्रस्तावक बना दिया बड़ा संदेश

पीएम मोदी ने डोमराज परिवार को प्रस्तावक बना दिया बड़ा संदेश

225
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो बार से लगातार वाराणसी से नामांकन दाखिल कर रहे हैं। दोनों बार नामांकन के लिए उनके प्रस्तावक भी सुर्खियों में रहे हैं। 26 अप्रैल 2019 को जब पीएम मोदी ने काशी से अपना नामांकन दाखिल किया तो डोमराज परिवार के सदस्य जगदीश चौधरी को अपना प्रस्तावक बनाकर एक बहुत बड़ा सामाजिक संदेश दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछली बार भी अपने नामांकन के लिए वंचित समाज के लोगों को अपना प्रस्तावक बनाया था। इस बार भी उन्होंने वंचित समाज से अपना प्रस्तावक बनाया है। प्रस्तावक के चुनाव में भी पीएम मोदी का बड़ा संदेश छिपा होता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पहले शायद ही कोई प्रधानमंत्री सामाजिक रूप से वंचित लोगों को कभी अपना प्रस्तावक बनाया हो।  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2019 लोकसभा चुनाव के तहत एक बार फिर वाराणसी लोकसभा सीट से अपना नामांकन दाखिल किया है। इस बार भी उन्होंने काशी के कोतवाल कहे जाने वाले काल भैरव की पूजा करने के बाद जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय पहुंच कर अपना नामांकन दाखिल किया। नामांकन के लिए इस बार उनके चारों प्रस्तावक बिल्कुल नए थे। चारों नए प्रस्तावकों को देखकर पीएम मोदी की समावेशी सर्वसमाजी छवि के अनुरूप उनकी दृष्टि भी परिलक्षित होती है। मोदी ने तो इस बार अपना एक प्रस्तावक वाराणसी के प्रसिद्ध मणिकर्णिका घाट के डोमराज परिवार के सदस्य जगदीश चौधरी को अपना प्रस्तावक बनाया। पीएम मोदी ने ऐसा कर साफ संदेश दिया है कि देश में अब न कोई वंचित रहेगा न ही अछूत। उनके चार प्रस्तावकों में महामना मदन मोहन मालवीय जी की मानस पुत्री अन्नपूर्णा शुक्ला, वाराणसी के प्रसिद्ध श्मशान मणकर्णिका घाट के डोमराज परिवार के जगदीश चौधरी, प्रसिद्ध कृषि वैज्ञानिक रामशंकर पटेल तथा संघ के पुराने कार्यकर्ता सुभाष गुप्ता शामिल हैं।

इन नए चार प्रस्तावकों को देखकर यह तो स्पष्ट हो गया है मोदी की नजर अगर शिक्षा क्षेत्र पर है तो समाज का वंचित वर्ग भी अछूता नहीं। देश के अन्नदाता किसान से लेकर कृषि वैज्ञानिक तक सबकी महत्ता एक समान है। इसके साथ ही पीएम मोदी ने सुभाष गुप्ता को अपना प्रस्तावक बनाकर जता दिया है कि वे अपने मूल को कभी भूलने वाले नहीं हैं। इस प्रकार मोदी ने नामांकन के लिए अपने प्रस्तावकों के चयन के माध्यम से ही साफ कर दिया है कि उनकी दृष्टि में समाज का हर वर्ग एक समान है, जिसमें कोई भेद नहीं किया जा सकता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नामांकन के नए प्रस्तावक

1.डोम राज जगदीश चौधरी

जगदीश चौधरी वाराणसी के 84 गंगा घाटों में से प्रसिद्ध मणिकर्णिका घाट के महाराज खानदान के वर्तमान डोम राज है

इनका 5000 सदस्यों वाला भरा-पुरा परिवार है। खास बात है कि इतने बड़े परिवार के तीन वक्त के खाना के लिए चिता ही सहारा है

मणिकर्णिका घाट पर जलने वाली चिता की जलती लकड़ी से ही वर्तमान डोमराज जगदीश चौधरी के घर का चूल्हा जलता है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जगदीश चौधरी को अपना प्रस्तावक बना कर समाज में वंचितों का सम्मान और समानता का संदेश दिया है।

2. अन्नपूर्णा शुक्ला

अन्नपूर्ण शुक्ला को भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रस्तावक बनने पर सुर्खिया मिली हो लेकिन शिक्षा के क्षेत्र की जानी मानी हस्ती हैं

भारत रत्न महामना मदन मोहन मालवीय की मानस पुत्री अन्नपूर्णा शुक्ला शिक्षा के अलावा समाज सेवा से जुड़ी रही हैं

वनिता पॉलिटेक्निक की पूर्व प्रधानाचार्य होने के अलावा महिला शिक्षा और समाज सेवा के क्षेत्र में उनका योगदान अतुलनीय रहा है

बीएचयू के महिला महाविद्यालय के प्रोफेसर के अलावा पूर्वांचल में महिला सशक्तीकरण के मोर्चे पर काम करने के लिए जानी जाती है।

3. रामशंकर पटेल

रामशंकर पटेल एक उम्दा कृषि वैज्ञानिक के रूप में जाने जाते हैं, कृषि से जुड़े शोध के लिए सरकार उन्हें सम्मानित कर चुकी है।

उन्नतिशील खेती को बढ़ावा देने के साथ-साथ किसानों को उत्तम बीज का उपयोग करने के लिए प्रशिक्षित करने को उन्होंने काफी काम किया है।

कृषि क्षेत्र में अपने महत्वपूर्ण योगदान के लिए कमेरा समाज में उनकी काफी मजबूत पहचान बनी हुई है

किसानों के लिए अभी तक मोदी सरकार के कार्य को देखने के बाद उन्हें प्रधानमंत्री मोदी से किसानों की दशा और दिशा सुधारने की काफी उम्मीद है।

4. सुभाष गुप्ता

सुभाष गुप्ता पेशे से कारोबारी होने के साथ राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और भाजपा से पुराना रिश्ता रहा है, वे जनसंघ के भी कार्यकर्ता रहे हैं

सुभाष गुप्ता अभी भी भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य हैं लेकिन सादगी इतनी कि वे खुद को आम कार्यकर्ता ही मानते हैं

सुभाष गुप्ता का मानना है कि नरेंद्र मोदी जैसे व्यक्ति को देश का प्रधानमंत्री बनना एक दैवीय चमत्कार है

उनका मानना है कि अगल पांच साल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को विश्व गुरू के पद पर स्थापित कर देंगे

 

Leave a Reply