Home नरेंद्र मोदी विशेष जात-पात की सरहदों को लांघ बहुमत से बहुत आगे निकल सकती है...

जात-पात की सरहदों को लांघ बहुमत से बहुत आगे निकल सकती है मोदी लहर- योगेन्द्र यादव

630
SHARE

बीजेपी और पीएम मोदी के धुर विरोधी भी मान रहे हैं कि मोदी मैजिक ने विपक्ष के सारे समीकरणों और जात-पात की सभी रणनीतियों को ध्वस्त कर दिया है। पूर्व चुनाव विश्लेषक योगेंद्र यादव का मानना है कि बीजेपी को एग्जिट पोल में दिखाए जा रहे सीटों की संख्या से भी ज्यादा सीटें मिल सकती हैं। हालांकि, उन्होंने कहा है कि या तो महागठबंधन और बीजेपी दोनों के बीच बराबर की लड़ाई होगी या फिर बीजेपी को ज्यादा सीटें आएंगी। कांग्रेस समर्थक माने जाने वाले एनडीटीवी के कार्यक्रम प्राइम टाइम में बोलते हुए योगेंद्र यादव ने कहा कि कागजों में बीजेपी कमजोर भले ही लग रही थी, लेकिन ऐसा सही नहीं था। माना जा रहा था कि दलित, यादव और मुस्लिम वोट मिलकर बीजेपी पर भारी पड़ेंगे। लेकिन अब चुनाव के तरीके बदल गए हैं।

जाति के समीकरण से नहीं साधे जा सकते चुनाव 

सात चरणों के मतदान के बाद आए एग्जिट पोल्स में बीजेपी को अपने दम पर बहुमत मिलता दिख रहा है। ज्यादातर सर्वे एजेंसियां और न्यूज चैनल बीजेपी की बढ़त दिखा रहे हैं। लोकसभा चुनाव 2019 में लगभग सभी एग्जिट पोल एनडीए की सरकार बनने का दावा कर रहे हैं। एनडीटीवी के पोल ऑफ एग्जिट पोल्स में भी बीजेपी की सरकार बनने के संकेत मिल रहे हैं। लेकिन, इसी मुद्दे पर प्राइम टाइम में सामाजिक कार्यकर्ता और पूर्व में चुनाव विशेषज्ञ योगेंद्र यादव ने भी दावा किया है कि इस बार नतीजों में हमें हैरान होने के लिए तैयार रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश से जो संकेत मिल रहे हैं, वह हतप्रभ करने वाले हैं। उन्होंने कहा कि शुरू में ऐसा लगता था कि एसपी और बीएसपी का गठबंधन बीजेपी को धराशायी कर देगा, लेकिन ऐसा होता दिख नहीं रहा है। अब केवल जातियों के दम पर चुनाव नहीं जीते जा सकते हैं। इसके लिए एक बड़ी तस्वीर दिखानी पड़ती है जो महागठबंधन के पास नहीं थी। योगेंद्र का कहना था कि लोगों से बात करो तो कहेंगे हां, या सब ठीक है- यादव और मुस्लिम तो महागठबंधन को वोट दे ही रहे हैं। लेकिन, उसी यादव परिवार का कोई लड़का चुपचाप कहीं और वोट दे आता है। दलित समुदाय से कोई जाति कटकर कहीं और चली जाती है।

गांव में चुपचाप 50 लोग दूसरी ओर वोट डाल आते हैं

योगेंद्र यादव का कहना है कि इन सब की वजह से मैं भी एग्जिट पोल से हतप्रभ हूं और साथ में यह भी कहा कि थोड़ा हैरान रहने के लिए तैयार रहिए क्योंकि बीजेपी जमीन में उतनी कमजोर नहीं है। उसकी वजह यह है कि मोदी को लेकर देश में जो रुझान है, ये जो गुजरात से चल रहा है, पूरे उत्तर और पश्चिमी भारत में एकतरफा है। वह हर राज्य में दो-चार प्रतिशत वोट पर असर डाल रहा है। गांव में चुपचाप 50 लोग दूसरी ओर वोट डाल आते हैं। ऐसा संभव है।

बीजेपी ने तोड़ी नई जमीन

योगेंद्र यादव का कहना था कि पश्चिम बंगाल और ओडिशा में भी साफ है कि बीजेपी वहां फायदे में है। ऐसा लग रहा है कि बीजेपी ने 30 फीसदी वोट का आंकड़ा पार कर लिया है और बीजेपी के पक्ष में वैसा ही उफान है, जैसा कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी को लेकर था। जब ऐसा होता है तो आप कह नहीं सकते कि कितनी सीटें आ जाएंगी। लेकिन, पश्चिम बंगाल में बीजेपी 10 से अधिक सीटें लाने वाली है। ओडिशा में भी बीजेपी को कम से कम कुल सीटों की आधी सीटें मिल सकती है। 

Leave a Reply