Home समाचार अनुच्छेद 370 पर PM मोदी की चुनौती पर कांग्रेस हारी

अनुच्छेद 370 पर PM मोदी की चुनौती पर कांग्रेस हारी

212
SHARE

अनुच्छेद 370 पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चुनौती पर कांग्रेस ने हार मान ली है। पीएम की चुनौती स्वीकार करने के लिए विपक्ष के किसी नेता का कोई बयान नहीं आया है। महाराष्ट्र में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने विपक्षी दलों को चुनौती देते हुए साफ कहा कि अगर दम है तो वे अपने घोषणापत्र में ये बताएं कि 5 अगस्त के सरकार के फैसले को पलट देंगे। अगर नहीं, तो कश्मीर पर घड़ियाली आंसू बहाना बंद कर दें।

पीएम मोदी की चुनौती पर विपक्ष निरुत्तर:

– पीएम मोदी के मजबूत नेतृत्व में हुआ J&K का संपूर्ण विलय
– अनुच्छेद 370 पर केंद्र सरकार के साथ हैं 130 करोड़ देशवासी
– आतंकवादियों ने अनुच्छेद-370 का ढाल के रूप में किया इस्तेमाल
– अनुच्छेद 370 खत्म होने से जम्मू-कश्मीर का होगा तेजी से विकास
– कांग्रेसी नेता और पूर्व पीएम जवाहर लाल नेहरू की देन है अनुच्छेद 370
– सरदार पटेल ने 630 रियासतों को जोड़कर भारत को एक सूत्र में बांधा 

मालूम हो कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को महाराष्ट्र के जलगांव और सोमवार को हरियाणा के वल्लभगढ़ में चुनावी जनसभा को संंधोथित करते हुए विपक्षी पार्टियों को चुनौती दी थी। वल्ललभगढ़ में अनुच्छेद 370 पर पीएम मोदी ने कहा कि मैं विपक्षी पार्टियों को चुनौती देता हूं कि यदि हिम्मत है तो स्पष्टता के साथ हरियाणा के लोगों सामने आए और बताएं कि अगर ये चुनाव जीतकर के आएंगे तो 370 और 35 A वापस लाएंगे। लोकसभा चुनाव तक अपने मेनिफेस्टों में लिखें कि हम 370 वापस लाएंगे।

उन्होंने कहा कि जिन्होंने जम्मू कश्मीर में शांति के लिए अपनों को खोया है, उनकों कांग्रेस के नेता बताएं कि इन्हें अनुच्छेद 370 से इतना मोह क्यों हैं? कांग्रेस और उसके जैसे दल ये नहीं कर सकते क्योंकि ये घड़ियाली आंसू बहा रहे हैं वो सिर्फ सतही हैं। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाने का श्रेय 130 करोड़ देशवासियों को जाता है, हिंदुस्तान के मतदाताओं को जाता है। आपने कमल पर बटन दबाया और आपके सपने पूरे करने के लिए मुझे ये ताकत मिली।  

Leave a Reply