Home समाचार नोटबंदी के फायदे दिखने शुरू, आर्थिक मोर्चे पर बल्ले-बल्ले

नोटबंदी के फायदे दिखने शुरू, आर्थिक मोर्चे पर बल्ले-बल्ले

3071
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश हर क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है। विकास के रास्ते पर मंजिल की ओर और तेजी से आगे जा रहा है। विपक्ष नोटबंदी को लेकर जो हाय-तौबा मचा रहा था, वैसा कुछ नहीं दिख रहा है। आर्थिक मोर्चे पर नोटबंदी का कोई खास असर नहीं दिख रहा है। जहां महंगाई कम हुई है वहीं औद्योगिक उत्पादन बढ़ा है।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय की ओर से जारी औद्योगिक उत्पादन के नए अनुमान के अनुसार नवंबर में औद्योगिक उत्पादन 5.7 फीसदी बढ़ा, जबकि पिछले साल इसी दौरान यह 3.2 फीसदी घटा था। जबकि महंगाई दर में कमी आई है। नवंबर में 3.63 फीसदी की तुलना में दिसंबर में यह 3.41 फीसदी रही।

नवंबर, 2016 में बिजली उत्पादन 8.9 प्रतिशत बढ़ा, जो एक साल पहले समान महीने में 0.7 प्रतिशत था। खनन क्षेत्र का उत्पादन नवंबर में 3.9 प्रतिशत बढ़ा। उत्पादन के क्षेत्र में 5.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई जबकि इसके पिछले साल इसी दौरान 4.4 प्रतिशत की कमी आई थी।

30,500 पर पहुंचेगा सेंसेक्स : HSBC
आर्थिक मोर्चे पर प्रगति का यह हाल है कि वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी एचएसबीसी ने इस साल दिसंबर के अंत तक बीएसई सेंसेक्स 30,500 के स्तर पर पहुंच जाने का अनुमान जताया है। एचएसबीसी ने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी जैसे संरचनात्मक सुधारों से दीर्घकाल में वृद्धि को गति मिलेगी। एचएसबीसी ग्लोबल एसेट मैनेजमेंट कंपनी के सीआईओ तुषार प्रधान का कहना है कि एचएसबीसी ने दिसंबर 2017 के अंत तक सेंसेक्स 30,500 पहुंच जाने का लक्ष्य रखा है।

तेजी से बढ़ती सबसे प्रमुख अर्थव्यवस्था- विश्व बैंक
नोटबंदी के बाद विश्व बैंक ने ‘वैश्विक अर्थव्यवस्था संभावना रिपोर्ट’ में कहा है कि भारत सात फीसद की वृद्धि दर के साथ वित्त वर्ष 2016-17 में विश्व में तेजी से बढ़ती सबसे प्रमुख अर्थव्यवस्था बना रहेगा और चीन को पीछे छोड़ देगा। विश्व बैंक ने यह भी कहा है कि नोटबंदी से मध्यम अवधि में बैंकिंग प्रणाली में नकदी में बढ़ोतरी होगी जिससे कर्ज दर में कमी आने में मदद मिलेगी और आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिल सकता है।

विदेशी पर्यटकों की संख्या बढ़ी
देश में ई-पर्यटक वीजा से आने वाले लोगों की संख्या में 57 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। पिछले महीने ई-पर्यटक वीजा पर 1 लाख, 62 हजार, 250 विदेशी पर्यटक भारत आए जबकि इसी दौरान इसके पिछले साल 1 लाख, 03 हजार, 617 लोग आए थे। अगर साल की बात की जाए तो 2016 में 10 लाख, 79 हजार, 696 विदेशी पर्यटक आए जबकि 2015 में 4 लाख, 45 हजार, 300 ई-वीजा वाले पर्यटक भारत आए।

विश्व जीडीपी में भारत की हिस्सेदारी 17%
2016 में दुनिया भर की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में 7.5 फीसदी से ज्यादा के साथ भारत की सबसे तेज रफ्तार रही और उम्मीद की जा रही है वैश्विक विकास अभियान जारी रखते हुए 2017 में विश्व जीडीपी में भारत की हिस्सेदारी 17 प्रतिशत पर पहुंच जाएगी। पीडब्ल्यूसी की वैश्विक अर्थव्यवस्था वॉच (GEW) ने कहा है कि अनुमानों के अनुसार चीन का विकास 6 फीसदी के आसपास रह सकता है, जबकि विश्व जीडीपी की वृद्धि के लिए भारत का योगदान इस साल 17 फीसदी तक पहुंच सकता है।

इसके साथ ही डिजिटल इंडिया अभियान का भी फायदा दिखने लगा है। पेपाल और इप्सोस की ओर से जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि 2016 में ऑनलाइन शॉपिंग में 83 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। भारतीय ऑनलाइन ग्राहकों ने पिछले साल दूसरे देशों से 58,370 करोड़ रुपये की खरीदारी की।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY