Home नरेंद्र मोदी विशेष ऊंची उड़ान भरने को तैयार हो रही है भारतीय अर्थव्यवस्था: विश्व बैंक

ऊंची उड़ान भरने को तैयार हो रही है भारतीय अर्थव्यवस्था: विश्व बैंक

239
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हो रहा न्यू इंडिया का निर्माण उन लोगों के लिए ईर्ष्या का विषय बन गया है जो अवसर मिलने पर खुद कभी कुछ नहीं कर पाये। सरकार को घेरने के लिए उन्हें किसी भी तरफ से कुछ नहीं मिल रहा तो आजकल वो विकास दर का हवाला देने में लगे हुए हैं..जिसमें मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में कुछ गिरावट दर्ज हुई। मोदी सरकार के आलोचक अपने ही राग में लगे हुए हैं जबकि देश के दिग्गज उद्योगपतियों से लेकर कई अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय और बैंकिंग संस्थाओं तक का मानना है कि मोदी सरकार की नीतियों और उन पर अमल के चलते भारतीय अर्थव्यवस्था ऊंची उड़ान भरने को तैयार हो रही है।    

‘आने वाले समय में रंग लाएगा GST’

विश्व बैंक के अध्यक्ष जिम योंग किम ने कहा है कि भारत की अर्थव्यवस्था      में सुस्ती अस्थायी है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) और विश्व बैंक की वार्षिक बैठक से पहले पत्रकारों से बात करने के दौरान उन्होंने कहा : ‘’पहली तिमाही में गिरावट हुई है लेकिन हमें लगता है कि ऐसा GST की तैयारियों में कुछ तात्कालिक बाधाओं की वजह से हुआ। आने वाले समय में अर्थव्यवस्था पर GST का बड़ा ही सकारात्मक प्रभाव होने जा रहा है।‘’

‘पीएम मोदी के प्रयासों से आएंगे बड़े परिणाम’

जल्द ही भारतीय अर्थव्यवस्था के रफ्तार पकड़ने की उम्मीद जताते हुए जिम योंग किम ने कहा: ‘’आने वाले महीनों में स्थिति सुधर जाएगी और GDP growth वर्ष के दौरान स्थिर होगा। हम स्थिति पर करीब से नजर रख रहे हैं क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कारोबारी माहौल सुधारने के लिए वास्तव में अच्छा काम किया है। हमें उम्मीद है कि उनके प्रयासों के अच्छे परिणाम आएंगे।‘’

‘8 प्रतिशत की विकास दर हो सकती है हासिल’

दो हफ्ते पहले न्यूयॉर्क में ब्लूमबर्ग ग्लोबल बिजनेस फोरम की बैठक में भी किम ने कहा था कि जापान, यूरोप और अमेरिका के साथ भारत तेज वृद्धि दर्ज कर रहा है। GST को एक संरचनात्मक बदलाव बताते हुए उन्होंने कहा था कि ऐसे टैक्स सुधार के जरिये भारत 8 प्रतिशत की विकास दर हासिल कर सकता है। विश्व बैंक ही नहीं अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग संस्था मूडीज और IMF ने भी अर्थव्यवस्था के रफ्तार भरने का भरोसा जता रखा है।

उद्योग जगत का पीएम मोदी के विजन में भरोसा

देश के उद्योग जगत के दिग्गजों ने भी प्रधानमंत्री मोदी के विजन में भरोसा जताया है। उनका मानना है कि वित्त वर्ष 2017-18 की दूसरी तिमाही में विकास की रफ्तार तेजी पकड़ने जा रही है। गोदरेज ग्रुप के प्रमुख आदि गोदरेज ने कहा है कि अर्थव्यवस्था जो नजर आ रही है, वास्तव में उससे कहीं अधिक अच्छी स्थिति में है। World Economic Forum के India Economic Summit में उन्होंने कहा: अप्रैल और मई में विकास दर ‘reasonable’ थी लेकिन जून में GST लागू होने से पहले वो थोड़ी फिसल गई। जून में ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि GST आने से पहले स्टॉक खत्म करने (destocking) का दौर चलने लगा था। इस स्थिति के बीच ज्यादातर manufacturers ने जून में जितना उत्पादन हुआ उससे कहीं कम दिखाया। यानी सामानों का उत्पादन तो जारी रहा  लेकिन Input tax credit से बचने के लिए उन्हें जुलाई में जाकर clear किया गया। Growth में कमी आने की एक बड़ी वजह यही है।‘’

विरोधियों को राजनीतिक दुकान बंद होने का डर

जाहिर है अर्थव्यवस्था कोरी राजनीति से नहीं चलती है। उसके लिए पीएम मोदी की तरह राजनीति से ऊपर जाकर कदम उठाने पड़ते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि अर्थव्यवस्था में ईमानदारी का नया दौर प्रारंभ हो चुका है। शायद इसी नये दौर में कुछ लोग अपनी राजनीतिक दुकान बंद होने के डर से ग्रसित हैं और निराशा फैलाने में लगे हैं।

 

LEAVE A REPLY