Home पोल खोल भगवान राम पर सवाल उठाने के लिए मणिशंकर अय्यर ने जिस मंच...

भगवान राम पर सवाल उठाने के लिए मणिशंकर अय्यर ने जिस मंच को चुना, उसकी हकीकत डराने वाली है

844
SHARE

कांग्रेस किस तरह हिंदुओं के खिलाफ साजिश करती है और कैसे पाकिस्तान परस्त और आतंकवादियों के हिमायतियों का सहारा लेती है। इसका खुलासा एक बार फिर हो गया है। कांग्रेस के विवादास्पद हिंदू विरोधी नेता मणिशंकर अय्यर ने भगवान राम की जन्मस्थली पर सवाल उठाने के लिए जिस संगठन के मंच को चुना, वो खुलेआम आतंकवादी संगठन आईएसआईएस का समर्थन करता है।


सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया विवादास्पद संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया का राजनीतिक संगठन है। इसी ने एक शाम, बाबरी मस्जिद के नाम कार्यक्रम आयोजित किया था। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया केरल में खुलकर ना केवल लव जिहाद को समर्थन देता है बल्कि उसका नाम दक्षिण भारत में आरएसएस कार्यकर्ताओं की हत्या की साजिश रचने में भी आया है। इसकी हरकतों को देखते हुए एनआईए ने इसके खिलाफ जांच भी की। इससे समझ आ जाता है कि मणिशंकर और कांग्रेस के इरादे दरअसल क्या है ?

Image result for सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी दिल्ली रैली

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया की भारत विरोधी साजिशों का ज़ी न्यूज ने अपने लोकप्रिय शो DNA में विस्तार से खुलासा किया था।

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया की देशविरोधी साजिशों के तार

Image result for सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी दिल्ली रैली

ये आतंकवादी संगठन आईएसआईएस की विचारधारा से काफी प्रभावित है

केरल में कई बार मुसलमानों को आईएसआईएस में भर्ती कराने का आरोप लगा

भारत में ‘गैर मुस्लिम धर्म’ के लोगों का नरसंहार करने की साज़िश के तार जुड़े

वायरल ऑडियो क्लिप में कुंभ में श्रद्धालुओं को जहर देने की साजिश का खुलासा हुआ

पश्चिमी देशों में हुए आतंकवादी हमले जैसी वारदात भारत में भी करने में शामिल रहा है

केरल के इडुक्की जिले में PFI से जुड़े 7 लोगों ने प्रोफेसर का हाथ काट दिया

बेंगलुरु में RSS कार्यकर्ता आर रुद्रेश की हत्या में शामिल होने का आरोप लगा

दक्षिण भारत के कई इलाकों में RSS के कार्यकर्ताओं पर हमले की साजिश रची 

केरल के कई स्कूलों में जबर्दस्ती वंदे मातरम् गायन बंद कराने की कोशिश की

एनआईए के मुताबिक ये भारत में तालिबानी सोच विकसित करने की साजिश कर रहा है

PFI कार्यकर्ताओं को बम बनाने से लेकर हथियार चलाने तक की ट्रेनिंग हासिल हो रही है

PFI ने खुफिया सूचना हासिल करने के लिए अपना खुफिया तंत्र विकसित कर लिया है 

गुजरात चुनाव के दौरान विवादास्पद विधायक जिग्नेश मेवानी को चुनाव लड़ने के लिए चंदा दिया

एनआईए ने जांच के बाद गृह मंत्रालय ने PFI पर पाबंदी लगाने की सिफारिश की

झारखंड समेत देश के कई राज्यों ने संगठन की गतिविधियां बैन की

Related image

Leave a Reply