Home समाचार पश्चिम बंगाल में ममता के ‘गुंडों’ का कोहराम, पंचायत चुनावों में...

पश्चिम बंगाल में ममता के ‘गुंडों’ का कोहराम, पंचायत चुनावों में लोकतंत्र पर लाठीतंत्र हावी

368
SHARE

हिंसक झड़पें, बूथों पर कब्जा, सरेआम गुंडागर्दी, खून खराबा,… और पुलिस मौन! ये दृश्य 14 मई को हुए पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव में सरेआम था। रही-सही कसर तृणमूल कांग्रेस के मंत्री रवींद्र नाथ घोष के उस वीडियो ने पूरी कर दी, जिसमें वे भाजपा के एक कार्यकर्ता को सरेआम थप्पड़ मारते कैद हुए हैं।

जाहिर है तृणमूल कांग्रेस के नेता, मंत्री, विधायक और कार्यकर्ता प्रदेश में लोकतंत्र की हत्या करते रहे। इतना ही नहीं टीएमसी के कार्यकर्ता बैलेट बॉक्स की गाड़ियों में आग लगाए जाने के साथ पोलिंग बूथ के बाहर लोगों को वोट डालने से भी रोकते हुए भी पकड़े गए। 

पश्चिम बंगाल में पंचायत चुनाव के दौरान राज्य के कई हिस्सों में हिंसक झड़पों में 11 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और 20 से ज्यादा लोगों के घायल होने की भी सूचना है। बैलेट बॉक्स और गाड़ियों में आग लगाने की भी खबर है। कूच बिहार में सबसे ज्यादा हिंसा हुई है। यहां करीब 20 लोग घायल हुए हैं।

पश्चिम बंगाल में भड़की हिंसा पर बोली BJP, लोकतंत्र की हत्या कर रही है TMC

दरअसल ममता बनर्जी भाजपा के बढ़ते जनाधार से इस कदर बौखलाई हुई हैं कि वह लगातार लोकतांत्रिक मूल्यों को ठेंगा दिखा रही हैं। गौरतलब है कि यह चुनाव राज्य के 621 जिला परिषद और 6157 पंचायत समितियों और 31827 पंचायतों में कराया जा रहा है। लेकिन तृणमूल कांग्रेस ने 34 प्रतिशत सीटें निर्विरोध ही जीत ली हैं।  

LEAVE A REPLY