Home समाचार ममताराज की ताबूत में आखिरी कील है ये चुनावी गुंडागर्दी

ममताराज की ताबूत में आखिरी कील है ये चुनावी गुंडागर्दी

205
SHARE

लोकसभा चुनाव के लिए चौथे चरण के मतदान में आज सबसे ज्यादा शिकायतें पश्चिम बंगाल से मिली हैं। राज्य में टीएमसी के कार्यकर्ता गुंडागर्दी पर उतर आए हैं। चुनाव में ममता बनर्जी की पार्टी की हालत ऐसी है कि उसकी सीटों का आंकड़ा दहाई अंकों में भी नहीं पहुंच सकता। इसी चलते सरकारी मशीनरी के सहयोग से ममता बनर्जी चुनाव का रुख बदलने की कोशिश कर रही हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि ये गुंडागर्दी ही राज्य सरकार के ताबूत में आखिरी कील साबित होगी। वामपंथियों के आतंक और खून-खराबे से निजात दिलाने का वादा कर सत्ता में आई ममता आज उन्हीं के रास्ते पर चल रही हैं लेकिन अगले विधानसभा चुनावों के बाद उनका हाल भी वामपंथियों जैसा ही हो जाने की पूरी संभावना है।

यह भी पढ़ेंः पश्चिम बंगाल को पाकिस्तान बनाना चाहती हैं ममता!

गुंडागर्दी के ये उदाहरण देखिए

  • पहले चरण की वोटिंग में दिनहाता में बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमला, कूचबिहार में लेफ्ट प्रत्याशी पर हमला।
  • दूसरे चरण में रायगंज में बड़े पैमाने पर हिंसा। हंगामा कर रहे टीएमसी कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े थे।
  • तीसरे चरण में मुर्शिदाबाद में टीएमसी कार्यकर्ताओं के साथ झड़प में एक कांग्रेस नेता की मौत, बूथ पर बम फेंकने की कई घटनाएं।
  • चौथे चरण में आसनसोल में बीजेपी प्रत्याशी बाबुल सुप्रियो पर हमला, गाड़ी में तोड़फोड़। पत्रकारों के साथ भी मारपीट।

Leave a Reply