Home नरेंद्र मोदी विशेष नयी काशी, नये भारत के निर्माण में अपना योगदान दें : प्रधानमंत्री...

नयी काशी, नये भारत के निर्माण में अपना योगदान दें : प्रधानमंत्री मोदी

पूर्वी भारत का 'गेट-वे बन रहा वाराणसी' - प्रधानमंत्री मोदी

218
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वाराणसी शहर में 557 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट्स का लोकार्पण और शिलान्यास किया। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के एंफीथियेटर में लोगों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वाराणसी को पूर्वी भारत के गेटवे के तौर पर विकसित करने का प्रयास हो रहा है। भारत सरकार की योजना काशी को वर्ल्ड क्लास इन्फास्ट्रकर से जोड़ने की है।

उन्होंने लोगों को आश्वस्त करते हुए कहा कि इसके लिए वह बनारस की पहचान को बदलना नहीं चाहते। उन्होंने कहा, ”हमारी सरकार चाहती है कि नई तकनीकी और बनारस की संस्कृति के बीच समावेश बैठाकर वाराणसी का विकास किया जाए।” उन्होंने कहा, ”हम काशी में जो भी विकास लाना चाहते हैं उसकी परंपरा और पौराणिकता को बचाते हुए किया जा रहा है।”

पीएम मोदी ने कहा ”आप लोगों ने भले ही मुझे प्रधानमंत्री बनाया हो, लेकिन मैं पहले यहां का सांसद हूं। आप मेरे मालिक हैं, मेरे हाईकमान हैं। इसलिए मेरा दायित्व है कि मैं अपने कामों का हिसाब आपको दूं। मैं आप सभी को धन्यवाद देता हूं। उन्होंने कहा, ”काशी नये जोश के साथ अपना भविष्य तय कर रहा है। नयी काशी, नये भारत के निर्माण में अपना योगदान दें।”

पीएम मोदी ने कहा कि वाराणसी में आज करोड़ों रुपये की सड़क परियोजनाएं चल रही हैं। उन्होंने कहा कि वाराणसी में हमने हर ओर विकास किया है। हवाई जहाज से वाराणसी पहुंचने वाले लोगों की संख्या पहले से बढ़ी है। चार साल पहले ये संख्या 8 लाख थी जो बढ़कर 21 लाख हो गई है। पीएम मोदी ने वाराणसी के लोगों से काशी के विकास के लिए सहयोग मांगा। उन्होंसने कहा कि सभी लोगों के इसके लिए आगे आना होगा। उन्होंएने कहा, ”जो विदेशी काशी आएं, वो जहां जाएं काशी की तारीफ करते नजर आएं।”

प्रधानमंत्री बताया कि काशी में ट्रैफिक व्यवस्था को इंटिग्रेट किया जा रहा है। इंटिग्रेटेड कमांड सेंटर के जरिए शहर की सभी सुविधाओं पर पर नजर रखी जाएगी। काशी में सड़क और रेल के बाद जल परिवहन का नेटवर्क बढ़ाया जाएगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज काशी एलईडी की रोशनी से जगमगा रही है। एलईडी लाइट से काशीवासियों के बिजली बिल में भी कमी आई है।

पीएम मोदी ने कहा, ”मैं काशी का बेटा हूं। आज मुझे संतोष है कि बाबा विश्वननाथ के आशीर्वाद से हम काशी का विकास कर पा रहे हैं। आज काशी में हर दिशा में परिवर्तन हो रहा है। पहले काशी को भोले के भरोसे छोड़ दिया गया था।”

प्रधानमंत्री कहा कि जब मैं यहां आता था तो बिजली के लटकते तारों को देखकर हमेशा यह सोचता था कि काशी को इससे कब मुक्ति मिलेगी। आज काशी के अधिकतर हिस्से से ये तार हटा लिए गए हैं। उन्होंने कहा कि काशी में एलईडी बल्बं से रौशनी हुई। वाराणसी में हाईवे निर्माण और सड़क परियोजनाओं के लिए हमने काम किया।

प्रधानमंत्री ने बताया कि बनारस में तेजी से मल्टी मॉडल टर्मिनल का काम पूरा होने पर ट्रांसपोर्ट और लॉजिस्टिक के बड़े हब के तौर पर उभरेगा। उन्होंने कहा कि इससे सड़क, हवाई मार्ग और जल परिवहन को गति मिलेगी। उन्होंने कहा कि काशी आने जाने वालों का समय बचे इसके लिए फेरी चलाने पर काम किया जा रहा है। उन्होंने जानकारी दी कि वाराणसी से हल्दिया तक नेशनल वाटर वे -1 पर काम किया जा रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि वाराणसी को पूर्वी भारत का सबसे बड़ा मेडिकल सेंटर बनाया जाएगा। उन्होंने बताया कि इसके लिए निजी क्षेत्र की मदद भी ली जा रही है। काशी में कैंसर का नया अस्पताल बनाया जा रहा है। बीएचयू में अटल इंक्यूनबेशन सेंटर की शुरुआत की गई।

उन्होंने कहा कि आज बिजली से जुड़ी पांच परियोजनाएं शुरू कीं। शहर की गंदगी गंगा में ना गिरे, इसके लिए कोशिश की जा रही है। योगी जी और उनकी पूरी टीम को आयुष्मान भारत योजना के लिए बधाई देता हूं। उन्होंने जानकारी दी की 23 सितंबर से पूरे भारत में आयुष्मान भारत योजना शुरू की जाएगी।

पीएम मोदी ने कहा कि रेल से काशी आने वालों को अब स्टेशन पर ही नई काशी की तस्वीर नजर आती है। इसके अलावा वाराणसी को छपरा और इलाहाबाद से जोड़ने के ट्रैक की डबलिंग का काम चल रहा है। वाराणसी से नई दिल्ली, वडोदरा और पटना जाने के लिए महामना जैसी ट्रेनें चलाई गई हैं।

संबोधन की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ”मेरे लिए सौभाग्य की बात है कि देश के लिए समर्पित एक और वर्ष की शुरुआत मैं बाबा विश्वनाथ और मां गंगा के शुभ आशीष से कर रहा हूं।”उन्होंने कहा, ”आप सभी का स्नेह और आशीर्वाद मुझे हर पल प्रेरित करता है और सभी देशवासी के सेवा के संकल्प को और मजबूत करता है।”बनारस हिंदू विश्व विद्यालय को 21वीं सदी का महत्वपूर्ण नॉलेज सेंटर बनाने के लिए भी कई प्रोजेक्ट्स की शुरुआत की गई है।

चार वर्ष पहले जो काशी आया था आज देखता है तो नई सड़कों का विस्तार होता हुआ दिखता है। बनारस में वर्षों से रिंग रोड की चर्चा हो रही थी। लेकिन इसका काम फाइलों में दबा हुआ था। सरकार बननने के बाद रिंग रोड की फाइलों को निकाला गया। यूपी की पहले की सरकार ने इसे बाहर ही नहीं आने दिया। लेकिन जैसे ही योगी जी की सरकार बनाई अब ये काम बहुत तेजी से पूरा किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि जनवरी में दुनिया भर में बसे भारतीयों का कुंभ यहां काशी में लगने वाला है। इसके लिए सरकार अपने स्तर पर काम कर रही है। आपका सहयोग भी आशवश्यक होगा। उन्होंने आह्वान किया कि एक-एक काशी वासियों को आगे आना होगा। एक-एक नुक्कड़, गली पर बनारस का रस और रंग नजर आना चाहिए। उन्होंने कहा कि आने वाले अतिथि ऐसा अनुभव करके जाएं कि काशी के टूरिज्म के एम्बेसेडर बन जाएं। 

पीएम मोदी ने स्वच्छता अभियान की सफलता के बारे में कहा कि काशी ने स्वच्छता के मामले में परिवर्तन देखा है, गलियों, घाटों, सड़कों पर स्वच्छता अब स्थायी हो चुकी है। प्रधानमंत्री ने बताया कि वाराणसी में वैदिक विज्ञान केंद्र और अटल इन्क्यूबेशन सेंटर की नींव रखी गई है। उन्होंने भरोसा जताया कि यह सेंटर स्टार्ट अप को नई ऊर्जा देगा। उन्होंने वाराणसी के युवाओं को बधाई देते हुए कहा, ”मुझे जानकारी दी गई है कि देशभर से 80 स्टार्टअप के आवेदन इससे जुड़ने के लिए आ चुके हैं और 20 स्टार्टअप जुड़ चुके हैं।” 

पीएम मोदी की प्रमुख बातें

  • बनारस में अटल इन्क्यूबेशन सेंटर का शिलान्यास किया गया, इससे स्टार्टअप्स को फायदा होगा
  • शिक्षा व्यवस्था के विकास पर हमारा जोर, इसीलिए बीएचयू में कई सेंटर्स का आज हुआ उद्घाटन
  • वाराणसी पूर्वी भारत के एक हेल्थ हब के रूप में उभर रहा है, आगे कई सारे कदम इसे हेल्थ हब बनाने के लिए उठाए जाएंगे
  • काशी में कई तरह के मेडिकल संस्थानों के विकास से बिहार, एमपी, यूपी, मध्य प्रदेश, छ्त्तीसगढ़ जैसे राज्यों के लोंगो को काफी फायदा होगा
  • जापान के पीएम शिंजो अबे समेत कई विदेशी नेताओं ने वाराणसी की तारीफ की है, जापान ने तो काशी को कन्वेंशन सेंटर को तोहफा भी दिया है
  • बनारस के कई सड़कों के चौड़ीकरण का काम चल रहा, आसपास के जिलों में आने-जाने में काफी सहूलियत होगी

LEAVE A REPLY