Home विचार सेक्यूलरवादियों के दोहरे चरित्र को इन दो वाकयों से समझिये

सेक्यूलरवादियों के दोहरे चरित्र को इन दो वाकयों से समझिये

189
SHARE

17 जुलाई को देश में दो घटनाएं घटीं… एक ये कि गोमांस खाने की नसीहत देते और भगवान राम एवं कृष्ण को देवता न मानते हुए उनपर अभद्र टिप्पणी करते हुए अग्निवेश को कुछ लोगों ने झारखंड में पीट दिया… वहीं एक टेलिविजन चैनल में एक मुस्लिम महिला वकील फराह फैज को एक मौलाना ने टीवी स्टूडियो के भीतर लाइव टीवी डिबेट में सरेआम पिटाई कर दी।

ये दोनों ही घटनाएं एक ही दिन घटी हैं, लेकिन देश का तथाकथित सेक्यूलर जमात और सेक्यूलर मीडिया अपना दोहरा चरित्र दिखाने से बाज नहीं आ रहा है।

अखबारों में, मीडिया के लोग सिर्फ एक ही घटना पर चर्चा कर रहे है वो है अग्निवेश की घटना। अग्निवेश पर हुए हमले को लेकर मीडिया के लोग शोर मचा रहा है। जबकि एक भी अखबार और सेक्यूलर खेमे के एक भी मीडिया ने मौलाना काजमी की हरकत पर एक भी बयान नहीं दिया। न तो कोई ट्वीट किया और न ही कोई रिपोर्ट दिखाई।

लाइव टीवी डिबेट में एक महिला को एक मौलाना ने पीट दिया, पीटने से पहले मौलाना वहां बैठी 2 मुस्लिम महिलाओं को ही गलियां दे रहा था। लेकिन इस मामले पर मीडिया के लोग मौन है, जबकि अग्निवेश के मामले पर मीडिया चिल्ला रही है। महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण की मांग करने वाले राहुल गांधी भी चुप हैं और वामपंथी दल भी खामोश हैं। 

बहरहाल आपको बता दें कि अग्निवेश वो शख्स है जो हिंदू धर्म का अपमान करता है। कश्मीर पर पाकिस्तान के साथ है। हिंदू देवी देवताओं के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी करता है, लेकिन मीडिया इसके पक्ष में खड़ा है और उस अबला महिला को जिसे मुल्ला और मौलाना दबाना चाहते हैं, उसपर खामोश है।

अग्निवेश के बारे में और भी जान लीजिए कि ये वही शख्स है जिसे मलेशिया और सऊदी जैसे देश भी फंड दे रहे हैं। करोड़ों रुपये का फंड खाड़ी और यूरोपीय देशों से से भी आए हैं।

अग्निवेश ने एक संस्था बनाई है जिसका नाम है ‘बंधुवा मुक्ति मोर्चा’। इनकी संस्था को अरब और यूरोप के देशों से करोड़ों का फंड मिला है।
आप देख सकते हैं कि “King Abdullah bin Abdulaziz International Centre for Interreligious and Intercultural Dialogue” जिसे KAICIID कहते हैं, उसने अग्निवेश की संस्था को 50 लाख 44 हज़ार की फंडिंग की है। ये वही संस्था है जो दुनिया भर के इस्लामिक संगठनों को वहाबी विचारधारा फैलाने के लिए भी फंड देती है।

एक और जानकारी ये है कि अग्निवेश हरियाणा में कांग्रेस के नेता थे। उसके इसने अपने नाम के आगे स्वामी लगाया और भगवा वस्त्र धारण कर लिया। जाहिर है इसने किसी खास मकसद के तहत ये किया है। हर मौके भारत विरोधियों के साथ खड़ा दिखाई देने वाला अग्निवेश ईसाई मिशनरियों के समर्थन में खड़ा रहता है। ये नौटंकीबाज बिग बॉस जैसे कार्यक्रम में भी शामिल हो चुका है। 

दूसरी तरफ महिला से सरेआम बदतमीजी करने वाले मौलाना के समर्थन में सीपीआई नेता आमिर हैदर जैदी खुलकर उतर आए। उन्होंने इस मौलाना का समर्थन करना शुरू कर दिया और इस मौलाना के समर्थन में आमिर हैदर जैदी भी मारपीट पर आ गए।

गौरतलब है कि अग्निवेश अरविंद केजरीवाल के साथ भी काम कर चुके हैं और उनके नक्सलियों से भी कनेक्शन जाहिर हो चुके हैं। ऐसे में अग्निवेश के पक्ष में अरविंद केजरीवाल ने अपना समर्थन जाहिर किया है। हालांकि वहीं वे मौलाना काजमी द्वारा महिला को पीटे जाने पर एक शब्द बोलने से भी परहेज कर रहे हैं।

कांग्रेसी नेता राजीव शुक्ला के चैनल न्यूज 24 के पत्रकार मानक गुप्ता को तो ये दादा स्वरूप दिखते हैं, इनके ट्वीट पर गौर फरमाइये।

बहरहाल अब तो ये खबरें भी सामने आ रही हैं कि अग्निवेश ने लोकप्रियता हासिल करने के लिए उन्होंने खुद पर हमले की योजना बनाई थी।

बहरहाल राजदीप सरदेसाई, रवीश कुमार, पुण्य प्रसून वाजपेयी, बरखा दत्त जैसे तथाकथित सेक्यूलर पत्रकारों की एक महिला पर मौलाना के हमले के बाद भी खामोशी तो इतना कह ही जाती है कि ये सारे दोहरे चरित्र में जीते हैं और जहां भी हिंदुओं को बदनाम करने की बात आएगी, ये सबसे पहले आगे आ जाएंगे।

LEAVE A REPLY