Home योग विशेष दुनिया में फिर भारत का डंका: योग दिवस पर विशेष टिकट जारी...

दुनिया में फिर भारत का डंका: योग दिवस पर विशेष टिकट जारी करेगा UN

711
SHARE

 

सभी भारतीयों के लिए यह गर्व की बात है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल के कारण दुनिया भर में भारत का डंका बज रहा है। संयुक्त राष्ट्र (UN) 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर एक विशेष टिकट जारी करेगा। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2015 से हर साल 21 जून को मनाया जाता है।

इस विशेष टिकट में देवनागरी लिपि में ओम और योग की 10 मुद्राओं के चित्र हैं। यह विशेष डाक टिकट 1.15 डॉलर मूल्य के होंगे। संयुक्त राष्ट्र के विशेष डाक टिकट यूएन के सभी दफ्तरों न्यूयॉर्क, जिनेवा और वियना में एक साथ जारी किए जाते हैं। संयुक्त राष्ट्र के इन डाक टिकटों का इस्तेमाल इन यूएन दफ्तरों से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पत्र और पैकेट भेजने में किया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की पहल प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण से की थी जिसमें उन्होंने कहा था-

“योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है यह दिमाग और शरीर की एकता का प्रतीक है; मनुष्य और प्रकृति के बीच सामंजस्य है; विचार, संयम और पूर्ति प्रदान करने वाला है तथा स्वास्थ्य और भलाई के लिए एक समग्र दृष्टिकोण को भी प्रदान करने वाला है। यह व्यायाम के बारे में नहीं है, लेकिन अपने भीतर एकता की भावना, दुनिया और प्रकृति की खोज के विषय में है। हमारी बदलती जीवन शैली में यह चेतना बनकर, हमें जलवायु परिवर्तन से निपटने में मदद कर सकता है। तो आयें एक अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को गोद लेने की दिशा में काम करते हैं।”

11 दिसंबर 2014- यूनाइटेड नेशंस की आम सभा ने भारत द्वारा पेश किए गए प्रस्ताव को स्वीकार करते हुए 21 जून को ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ के रूप में घोषित कर दिया। यूएन ने योग की महत्ता को स्वीकारते हुए माना कि ‘योग मानव स्वास्थ्य व कल्याण की दिशा में एक संपूर्ण नजरिया है।’ योग दिवस पर यह प्रस्ताव तीन महीने से भी कम समय में यूएन की महासभा में पास हो गया। दुनिया के 175 देशों ने भी इसे सह-प्रस्तावित किया था।

यूएन जनरल असेंबली में किसी भी प्रस्ताव को इतनी बड़ी संख्या में मिला समर्थन भी अपने आप में एक रिकॉर्ड बन गया। पहली बार हुआ था कि किसी देश ने यूएन असेंबली में कोई इस तरह की पहल सिर्फ 90 दिनों के भीतर पास हो गई हो।

नई दिल्ली में पहले अंतर्राष्ट्रीय दिवस पर 21 जून 2015 को प्रधानमंत्री मोदी और देश के गणमान्य लोगों सहित करीब 36000 लोगों ने 35 मिनट तक 21 योग आसन (योग मुद्राओं) का प्रदर्शन किया।

इन्हें भी पढ़िए-

दुनिया को भारत की अनमोल भेंट है अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

योग के विस्तार से ‘विश्वगुरु’ बनने की राह पर अग्रसर भारत

नमो विजन से आगे बढ़ रहा ‘स्वस्थ तन-स्वस्थ मन’ का अभियान

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-नमो विजन से भारत की पहचान को मिला नया मुकाम

तीन साल में तीन पीढ़ियों का अनुशासन बन गया योगासन

LEAVE A REPLY