Home नरेंद्र मोदी विशेष प्रधानमंत्री मोदी के प्रयासों का परिणाम, 10 वर्षों में भारत बनेगा तीसरी...

प्रधानमंत्री मोदी के प्रयासों का परिणाम, 10 वर्षों में भारत बनेगा तीसरी सबसे बड़ी टूरिज्म इकोनॉमी: रिपोर्ट

502
SHARE

देश में पर्यटन को बढ़ावा देने के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों से इस उद्योग के लिए लगातार अच्छी खबरें आ रही हैं। World Travel & Tourism Council (WTTC) ने विश्व स्तर पर जारी की गई अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि अगले 10 वर्षों में भारत विश्व की तीसरी सबसे बड़ी टूरिज्म इकोनॉमी बन जाएगा। WTTC ने अपनी यह रिपोर्ट GDP और पर्यटन से होने वाली आय के विश्लेषण के आधार पर तैयार की है। रिपोर्ट में इस क्षेत्र में रोजगार के अपार अवसर पैदा होने की बात भी कही गई है।

WTCC ने की पर्यटन को बढ़ावा देने वाले कदमों की प्रशंसा

रिपोर्ट के मुताबिक भारत अभी विश्व की सातवीं सबसे बड़ी टूरिज्म इकोनॉमी है और टूरिज्म इंफ्रास्ट्रक्चर में मजबूती से इसमें और तेजी आने की संभावनाएं हैं। WTTC की प्रेसिडेंट और चीफ एग्जीक्यूटिव ग्लोरिया गुएवारा ने एक बातचीत में मोदी सरकार की रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम की तारीफ की जिसके तहत 350 एयरपोर्ट और और हवाई पट्टियों को विकसित किया जाना है। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार ने विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए कई बड़े कार्य किए हैं। 163 देशों के लिए ई-वीजा शुरू करना उन्हीं बड़े कदमों में से एक है।  

देश में टूरिज्म इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए कई प्रोजेक्ट

पर्यटकों को बेहतर पर्यटन का अनुभव हो, इसके लिए मोदी सरकार ने टूरिज्म इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास को प्राथमिकता दी है। स्‍वदेश दर्शन योजना के अंतर्गत थीम आधारित पर्यटन यात्रा मार्गों को विकसित किया गया है। 2017-18 के दौरान 824.80 करोड़ रुपये की लागत से 11 परियोजनाओं को मंजूरी दी गई है। इस योजना के अंतर्गत 5648.71 करोड़ रुपये की लागत से कुल 67 परियोजनाओं की स्‍वीकृति दी गई।

विदेशी पर्यटकों की संख्या में हो रही बड़ी बढ़ोतरी

भारत में पिछले वर्ष जनवरी से नवंबर के बीच 90.01 लाख विदेशी पर्यटक आए। यह आंकड़ा 2016 की वर्ष की इसी अवधि के मुकाबले 15.6 प्रतिशत अधिक है। वहीं पिछले वर्ष जनवरी से नवंबर के बीच 9.17 लाख विदेशी पर्यटक ई-पर्यटन वीजा पर भारत आए। 2016 की इसी अवधि की संख्या के मुकाबले यह 58.8 प्रतिशत की वृद्धि है।

तीर्थस्थलों के समग्र विकास के कार्यक्रम

Pilgrimage Rejuvenation and Spiritual Augmentation Drive (PRASHAD) योजना के अंतर्गत तीर्थस्‍थलों की पहचान करके समग्र विकास करने के कार्यक्रम शुरू किए गए हैं। 2017-18 के दौरान 98.84 करोड़ रुपये की लागत से कुल 3 परियोजनाओं को मंजूरी दी गई है। इस योजना के तहत अब तक 587.29 करोड़ रुपये की लागत से कुल 21 परियोजनाओं को मंजूर किया गया है।

पर्यटन की प्रतिस्पर्धा सूचकांक में भारत की ऊंची छलांग

मौजूदा सरकार में पर्यटन के क्षेत्र में भारत की रैंकिंग तेजी में ऊपर गई है। Travel and Tourism Competitive Index (TTCI) 2017 में भारत 2013 की तुलना में 25 पायदान ऊपर पहुंच गया। TTCI की रिपोर्ट में भारत का स्‍थान 40वां था, जबकि 2015 में यह 52वें और 2013 में 65वें स्‍थान पर था।

LEAVE A REPLY