Home समाचार कमाई के मामले में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी ने ताजमहल को पीछे छोड़ा

कमाई के मामले में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी ने ताजमहल को पीछे छोड़ा

120
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ब्रेन चाइल्ड स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की लोकप्रियता दिनों दिनों बढ़ती ही जा रही है। लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की 182 मीटर की विश्व प्रसिद्ध प्रतिमा अब कमाई के मामले में भी एक नया रिकॉर्ड बनाया है। कमाई के मामले में दुनिया के सात अजूबों में शामिल ताजमहल समेत देश के सभी प्रसिद्ध स्मारकों को स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पीछे छोड़ दिया है।

ASI की रिपोर्ट के मुताबिक स्टैच्यू ऑफ यूनिटी ने पिछले एक साल में 63 करोड़ रुपए की कमाई कर एक रिकॉर्ड बनाया है। जबकि राजस्व के तौर पर ताजमहल की कमाई सिर्फ 56 करोड़ रुपए हुई है। हालांकि ताजमहल को देखने के लिए 64.58 लाख और स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देखने के लिए 26 लाख लोग पहुंचे।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पिछले एक साल में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को 63 करोड़, ताजमहल को 56 करोड़, आगरा किला को 30.55 करोड़, कुतुबमीनार को 23.46 करोड़, फतेपुर सीकरी को 19.04 करोड़ और लाल किला को 16.17 करोड़ का राजस्व प्राप्त हुआ है। इसी तरह अगर पर्यटकों की संख्या की बात करें तो पिछले एक साल के दौरान स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को 26 लाख, ताजमहल को 64.58 लाख, आगरा किला को 24.98 लाख, कुतुबमीनार को 29.23 लाख, फतेपुर सीकरी को 12.63 लाख और लाल किला को 31.79 लाख लोग विजिट कर चुके हैं। 

दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा

प्रधानमंत्री मोदी ने दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का उद्घाटन 31 अक्टूबर, 2018 को किया था।  आज स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की दुनिया और देश का आज प्रमुख पर्यटन स्थलों में गिनती हो रही है। भारत के पहले केंद्रीय गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की 143वीं जयंती पर प्रधानमंत्री ने इस प्रतिमा को राष्ट्र को समर्पित किया था। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी 182 मीटर लंबी प्रतिमा है। 

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी प्रतिमा की ऊंचाई स्प्रिंग टेंपल बुद्धा (चीन), उशीकू दाइबत्सू (जापान), स्टैचू ऑफ़ लिबर्टी (अमेरिका) और क्राइस्ट द रिडीमर (ब्राजील) से भी ज्यादा ऊंची है। Spring Temple of Buddha की 153 ​​मीटर, Ushiku Daibutsu की 120 मीटर, Statue of Liberty की 93 मीटर और ब्राजील की Christ the Redeeme की ऊंचाई 38 मीटर है।

3000 करोड़ रुपए की लागत से तैयार हुई प्रतिमा

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी गुजरात के नर्मदा जिले के केवडिया में सरदार सरोवर बाँध से लगभग 3.5 किलोमीटर दक्षिण में नर्मदा नदी पर स्थित है। गुजरात के केवडिया में 3000 करोड़ रुपए की लागत से तैयार हुई यह प्रतिमा पर्यटकों की संख्या के मामले में अमेरिका की स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी को पीछे छोड़ दिया है। अमेरिका के 133 साल पुरानी स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी को देखने प्रति वर्ष करीब 23 लाख दर्शक पहुंचते हैं जबकि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को देखले वाले पर्यटकों की संख्या 26 लाख पहुंच गई है।

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी आने वाले पर्यटकों के लिए प्रमुख आकर्षणों में प्रदर्शनी हॉल, संग्रहालय, वॉल ऑफ यूनिटी, लेजर लाइट एंड साउंड शो, वैली ऑफ फ्लॉवर्स, सरदार सरोवर बांध, नौका विहार, हेलीकॉप्टर की सवारी, बर्ड वॉचिंग आदि है। 

Leave a Reply