Home समाचार दक्षिण एशिया सैटेलाइट की लांचिंग ऐतिहासिक क्षण-प्रधानमंत्री

दक्षिण एशिया सैटेलाइट की लांचिंग ऐतिहासिक क्षण-प्रधानमंत्री

925
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साउथ एशिया सैटेलाइट की सफल लांचिंग को एक ऐतिहासिक अवसर बताया है। उन्होंने कहा कि इससे दक्षिण एशिया के विकास में तेजी आएगी और क्षेत्र की प्रगति होगी। सैटेलाइट की लांचिंग के बाद ऐसा पहली बार हुआ कि दक्षिण एशिया के छह देशों के राष्ट्राध्यक्ष एक साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़े और एक दूसरे को बधाई दी।

‘वादा पूरा किया’
प्रधानमंत्री ने कहा कि दो साल पहले जो वादा किया था वो आज पूरा हो गया। क्षेत्र की लगभग डेढ़ अरब आबादी को इससे सीधा फायदा होगा। उन्होंने कहा कि इस लांचिग के साथ हमलोगों ने विकास और प्रगति की एक नयी यात्रा शुरू की है। इससे न सिर्फ आपसी सहयोग बढ़ेगा बल्कि इकोनॉमिक ग्रोथ भी बढ़ेगा।

छह देशों के राष्ट्राध्यक्ष हुए LIVE
ऐसा पहली बार हुआ कि इस कामयाबी के बाद सार्क देशों के 6 राष्ट्राध्यक्षों ने एक साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए दुनिया को संदेश दिया। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि जीसैट-9 से भारत, बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका, अफगानिस्तान, भूटान और मालदीव को फायदा होगा। प्रधानमंत्री ने इस मौके पर सभी राष्ट्राध्यक्षों को धन्यवाद दिया और कहा कि हम साथ रहेंगे तो हम सबका विकास होगा। प्रधानमंत्री ने सभी शामिल राष्ट्रों की सरकारों को सहयोग के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि सभी देशों की जनता सामूहिक रूप से चाहती है कि हम साथ आएं। लोग आपस में सहयोग चाहते हैं संघर्ष नहीं, विकास चाहते हैं विनाश नहीं, समृद्धि चाहते हैं गरीबी नहीं। 

दक्षिण एशिया के लिए वरदान
प्रधानमंत्री ने कहा कि इसरो की इस परियोजना के सफल प्रक्षेपण के बाद निर्माण, संचार, आपदा, सहायता और दक्षिण एशियाई देशों के बीच संपर्क बढ़ाने में सहूलियत होगी। इसके अलावा आपसी तालमेल और जानकारी साझा करना भी आसान हो सकेगा। ये उपग्रह प्राकृतिक संसाधनों का खाका बनाने, टेली मेडिसिन, शिक्षा क्षेत्र, आईटी और लोगों से लोगों का संपर्क बढ़ाने के क्षेत्र में पूरे दक्षिण एशिया के लिए एक वरदान साबित होगा। इसके माध्यम से भूकंप, चक्रवात, बाढ़, सुनामी जैसी आपदाओं के समय संवाद कायम करने में मदद मिल सकेगी।

LEAVE A REPLY