Home समाचार PM मोदी के अनुरोध पर भारतीय कैदियों को रिहा करेगा सऊदी अरब,...

PM मोदी के अनुरोध पर भारतीय कैदियों को रिहा करेगा सऊदी अरब, हज यात्रियों की संख्या भी बढ़ी

377
SHARE

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान बिन अब्दुल अजीज अल सऊद की भारत यात्रा से दोनों देशों के रिश्ते बेहतर हुए है। इसके नतीजे भी दिखाई देने लगे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अनुरोध पर सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस ने सऊदी की जेलों में बंद भारतीयों को रिहा करने का देश दिया है, वहीं हज यात्रियों की संख्या में भी बढ़ोतरी की है। व्यापारिक रिश्ते को और मजबूत करने के लिए सऊदी अरब ने भारत में निवेश बढ़ाने का भी ऐलान किया है।850 भारतीय कैदियों को रिहा करने का आदेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अनुरोध पर सऊदी अरब ने 850 भारतीय कैदियों को रिहा करने का आदेश दिया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर इसके बारे में जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट कर इसे बड़ा फैसला बताया।

हज यात्रियों की संख्या बढ़कर हुई 2 लाख

वहीं एक अन्य ट्वीट में रवीश कुमार ने लिखा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अनुरोध पर सऊदी अरब के युवराज ने भारतीय हज यात्रियों की संख्या को बढ़ाकर 2 लाख कर दिया है। बता दें कि सऊदी अरब ने भारत के लिए आवंटित हज कोटे में करीब 25 हजार की बढ़ोतरी की थी, जिससे यह अब दो लाख हो गया है। पिछले साल 1,75,025 लोग हज पर गए थे।

सऊदी युवराज और पीएम मोदी के अच्छे रिश्ते का नतीजा- नकवी

हज कोटे में बढ़ोतरी को ‘बड़ी उपलब्धि’ करार देते हुए केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि सऊदी अरब के बादशाह और युवराज के साथ प्रधानमंत्री के अच्छे रिश्ते का नतीजा है कि चार वर्षों में लगातार हज कोटे में बढ़ोतरी हुई है और अब यह दो लाख हो गया है। यह अपने आप में रिकॉर्ड है।भारत में 100 अरब डॉलर का निवेश करेगा सऊदी अरब

सऊदी अरब के युवराज ने कहा कि साल 2016 में पीएम मोदी की यात्रा के बाद से सऊदी अरब 44 अरब डॉलर का निवेश कर चुका है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, ”बड़ी घोषणा…सऊदी अरब, भारत में 100 अरब डॉलर का निवेश करेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान द्वारा भारत में 100 अरब डालर का निवेश करने संबंधी घोषणा का स्वागत किया। सऊदी अरब की ओर से यह निवेश ऊर्जा, तेलशोधन, पेट्रोकेमिकल्स, आधारभूत ढांचा जैसे क्षेत्रों में किया जायेगा।

Leave a Reply