Home विचार आदर्श गांव के विकास के लिए मोदी से सीखें सांसद

आदर्श गांव के विकास के लिए मोदी से सीखें सांसद

865
SHARE

 

प्रधानमंत्री हमेशा गांव को आदर्श बनाने के लिए तत्पर रहते हैं। उनका मानना है कि गांव आदर्श होते ही देश भी आदर्श की श्रेणी में आ जाएगा। इसी सोच के साथ प्रधानमंत्री ने सांसद आदर्श ग्राम योजना की शुरुआत की है। सांसद आदर्श ग्राम योजना की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इस योजना के लिए अलग से कोई राशि नहीं दी जा रही है। देश और राज्य में पहले से चल रही योजनाओं को सही-सही इन गांवों में क्रियान्वयन कराना है।

सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत गोद लिए गांवों के विकास के लिए जयापुर अनुकरणीय

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांसद ग्राम आदर्श योजना की शुरुआत वाराणसी संसदीय क्षेत्र के गांव जयापुर को गोद लेकर किया। वह दूसरा गांव नागेपुर को भी गोद ले चुके हैं। दोनों गांव विकास के मामले में उत्तर प्रदेश में ही नहीं अखिल भारतीय स्तर पर एक नजीर बन गया है। प्रदेश और देश के अन्य सांसदों को भी अपने-अपने आदर्श गांवों का विकास करना चाहिए।

आदर्श गांव जयापुर में किए गए कार्यों पर एक नजर –

जयापुर गांव की आबादी चार हजार से कुछ अधिक है। यहां आठ सौ से अधि‍क घर हैं।

स्वच्छ गांव

स्वच्छ भारत अभियान के तहत जयापुर में 405 शौचालय, नागेपुर में 125 शौचालयों को निर्माण किया जा चुका है। दोनों गांव खुले शौच से मुक्त होने वाला है।

बिजली व्यवस्था

जयापुर को रोशन करने के लिए 135 सोलर स्ट्रीट लाइटें लगाई गई हैं। 25 किलोवाट के दो सोलर प्लांट स्थापित किए गए। इनसे 290 घरों को कनेक्शन दिए गए। यूपी नेडा एक कनेक्शन के तहत एक पंखा और तीन बल्ब के लिए पावर प्वाइंट दिया गया है। नागेपुर में भी 15 सोलर स्ट्रीट लाइटें लगाई गई। यहां भी 41 घरों में सोलर पावर पैक लगाया गया।

जलापूर्ति के लिए हो रहा है विशालकाय टंकी का निर्माण

गांव के लोगों को पानी प्रचूर मिले। इसके लिए दो लाख लीटर क्षमता वाली पानी की टंकी का निर्माण कार्य शुरू है। पूरे गांव में इस विशालकाय टंकी से पीने का पानी सप्लाई किया जाएगा। साथ ही कोशिश है कुछ आसपास के गांवों तक पीने का पानी कनेक्शन पहुंचाया जाएगा।

 

स्किल इंडिया के लिए प्रशिक्षण केंद्र

गांव में तीन कालीन बुनाई प्रशिक्षण केंद्र सरकार की ओर से खोला गया है, जिसमें तीन हथकरघा लगाया गया है। एक्सपर्ट गांव की करीब 50 से ऊपर महिलाओं को रोजाना प्रशिक्षण भी दे रहे हैं। प्रशिक्षण के दौरान महिलाओं को 2400 रुपए भी दिया जा रहा है।

गलियों को बनाया गया खूबसूरत

सांसद आदर्श ग्राम जयापुर में 32 गलियां हैं। इनकी लंबाई 5115 मीटर है। इन गलियों को बारहमासी उपयोगी बनाने का काम जारी है। इस पर 1.25 करोड़ खर्च होंगे। अब तक 1200 मीटर में काम हो चुका है। इसे रंगीन ईटों से सड़कों को बनाया गया है, जो बेहद खूबसूरत है।

तीन सोलर ड्रिंकिंग वाटर पंप

सोलर एनर्जी से चलने वाले तीन ड्रिंकिंग वाटर पंप गांव में बनाए जा रहे हैं। इससे गांव में पानी की सुविधा वर्तमान में दी जा रही है। 1000 लीटर की टंकी पंचायत भवन के पास लगाई गई है।

गौशाला बनने का काम जारी

गांव में दो सौ गायों को रखने के लिए गौशाला का निर्माण कार्य जारी है। खास बात होगी कि गांव की महिलाओं को बैंक गाय के लिए फाइनेंस करेगा, जिससे रोजगार मिल सके।

छात्राओं के लिए अलग से इंटर कालेज

गांव में अलग से छात्राओं के लिए कन्या विद्यालय भी तैयार हो चुका है। बच्चों के लिए खेलने का मैदान और नंदघर भी बनाया गया है।

अन्य कार्य

पंचायत भवन की बाउंड्रीवाल, तालाबों का निर्माण, सुरक्षा दीवार, नाली निर्माण आदि का कार्य भी अंतिम चरण में है।

प्रधानमंत्री ने 14 वनवासियों को रहने के लिए आवास दिए। गांव में डिजिटल लाइब्रेरी, वाचनालय, पुस्तकालय, प्रतीक्षालय, दो बैंक, पोस्ट ऑफिस, पुलिस पिकेट का निर्माण हो चुका है।

गांव में इंटरनेट के लिए वाई-फाई सेवा शुरू है।

यहां दो बैंक सिंडिकेट बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की शाखा है।

बेटी के जन्म पर पेड़ लगाने की परंपरा की शुरुआत हुई।

ग्रामीणों में बेटियों की पढ़ाई को लेकर जागरूकता आई है। अब 150 की संख्या में 82 लड़कियां स्कूल में पढ़ रही है।

LEAVE A REPLY