Home समाचार ‘राष्ट्र ऋषि’ कहलाएंगे नरेंद्र मोदी

‘राष्ट्र ऋषि’ कहलाएंगे नरेंद्र मोदी

सवा करोड़ लोग राष्ट्र ऋषि नरेंद्र मोदी में देखते हैं अपना बिम्ब- रामदेव

761
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब ‘राष्ट्र ऋषि’ कहे जाएंगे। हरिद्वार में स्वामी रामदेव ने उन्हें ‘राष्ट्र ऋषि’ की उपाधि दी है। देवभूमि में पतंजलि योगपीठ की ओर से हुए समारोह में श्री रामदेव कहा कि ‘राष्ट्र ऋषि’ नरेंद्र मोदी को राष्ट्र गौरव और राष्ट्र नायक हैं जिनमें विश्व नायक का चरित्र दिखता है।

वरदान के रूप में देश को मिले हैं ‘राष्ट्र ऋषि’

स्वामी रामदेव ने कहा कि श्री नरेंद्र मोदी भगवान के वरदान के रूप में इस महान राष्ट्र को मिले हैं। स्वामी रामदेव ने कहा, “पूरे पतंजलि योगपीठ और भारत के अध्यात्म सत्ता की ओर से, राष्ट्र की ओर से, आज आदरणीय  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को ‘राष्ट्र ऋषि’ के रूप में सम्मानित कर रहे हैं।”

सवा सौ करोड़ लोग मोदी में देखते हैं अपना बिम्ब

योगगुरु रामदेव ने कहा कि सवा सौ करोड़ भारतीय ‘राष्ट्र ऋषि’ नरेंद्र मोदीजी में अपना स्वरूप देखते हैं। श्री रामदेव ने कहा, “गरीब, मजदूर, किसान, पिछड़ा, दलित शोषित, वंचित, अंतिम पंक्ति में खड़ा व्यक्ति और शिखर पर पहुंचा व्यक्ति, चाहे वो गांव का व्यक्ति है, चाहे वो शहर का व्यक्ति है, चाहे कोई हिन्दुस्तान का अमीर व्यक्ति है, चाहे कोई हिन्दुस्तान का फकीर है, सब मोदीजी में अपना स्वरूप देखते हैं। अपना प्रतिबिम्ब, अपना प्रतिरूप देखते हैं।”

वैचारिक-आध्यात्मिक और आर्थिक दरिद्रता दोनों खत्म करना जरूरी

स्वामी रामदेव ने देश में वैचारिक-आध्यात्मिक और आर्थिक दरिद्रता को खत्म करने की जरूरत बताते हुए कहा कि पतंजलि इसी काम में जुटा हुआ है। उन्होंने भविष्य में 5 लाख लोगों को पतंजलि से रोजगार देने और 5 करोड़ किसानों को इससे जोड़ने का संकल्प भी जताया।

दिव्य भारत का निर्माण धरती पर सबसे बड़ा कार्य

योगगुरु ने कहा कि दिव्य भारत का निर्माण इस धरती पर सबसे बड़ा कार्य है जिसके लिए दो ही सीढियां हैं – एक योग और अध्यात्म, जिससे व्यक्ति नर से नारायण, मानव से महामानव, जीव से ब्रह्म बनता है और  दूसरा है शिक्षा और संस्कार।

मोदीजी के नेतृत्व में सत्ता परिवर्तन के बाद व्यवस्था परिवर्तन जारी

स्वामी रामदेव ने इस अवसर पर उन दिनों को याद किया जब श्री नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे और द्वारका से उनके नेतृत्व में कालाधन, भ्रष्टाचार और व्यवस्था परिवर्तन के लिए आंदोलन की शुरुआत हुई। स्वामी रामदेव ने कहा, “मैं बहुत संतोष का अनुभव करता हूं कि आदरणीय मोदीजी के नेतृत्व में देश में सत्ता परिवर्तन भी हुआ और व्यवस्था परिवर्तन की ओर देश आगे बढ़ रहा है,  देश बदल रहा है और पूरा विश्व भारत का लोहा मान रहा है। ऐसा सशक्त, दिव्य, भव्य एक आदर्श नेतृत्व भारत को मिला।”

देश के लिए आहूति देने को तैयार

स्वामी रामदेव ने वादा किया कि नरेंद्र मोदीजी के एक आह्वान पर वो आहूति देने को तैयार हैं। हर उस काम में वो श्री मोदीजी के साथ हैं जो देश के लिए वे कर रहे हैं और करने वाले हैं।

पीएम मोदी ने भारत को विश्व गुरु का दर्जा दिलाया

स्वामी रामदेव ने कहा कि श्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में योग दिवस का प्रस्ताव पारित कराकर भारत को विश्व गुरु का दर्जा दिला दिया है और अब आयुर्वेद की दवाओं को ‘दवा’ के तौर पर मान्यता दिलाने के लिए देश बढ़ रहा है। इसी कड़ी में ‘राष्ट्र ऋषि’ मोदीजी ने पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट का उद्घाटन किया है। स्वामी रामदेव ने उम्मीद जताई कि यहां हर तरह के क्लीनिकल ट्रायल के बाद बनी औषधि को WHO से दवा की मान्यता दिलायी जा सकेगी।

 

स्वामी रामदेव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों ‘वर्ल्ड हर्बल इन  साइक्लोपीडिया’ के विमोचन को भी देश के लिए अमूल्य उपहार बताया।

 

 

LEAVE A REPLY