Home विपक्ष विशेष मोदी फोबिया से ग्रसित राहुल गांधी का कन्फ्यूजन, नीरव की जगह बोल...

मोदी फोबिया से ग्रसित राहुल गांधी का कन्फ्यूजन, नीरव की जगह बोल दिया नरेन्द्र

370
SHARE

लोकसभा चुनाव का प्रचार शुरू होते ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का कन्फ्यूजन भी शुरू हो गया है। मोदी फोबिया से ग्रसित हो चुके राहुल गांधी को हर वक्त, हर जगह प्रधानमंत्री मोदी ही नजर आते हैं। चेन्नई में स्कूली छात्राओं से संवाद के दौरान राहुल गांधी का यही कन्फ्यूजन नजर आया। राहुल गांधी भ्रष्ट कारोबारियों का जिक्र करते हुए भगोड़े नीरव मोदी का जिक्र कर रहे थे, लेकिन नीरव की जगह नरेन्द्र बोल गए। अपने इस कन्फ्यूजन पर राहुल गांधी बुरी तरह झेंप गए और वहां मौजूद छात्राओं से सॉरी कहने लगे।

दरअसल राहुल गांधी का कन्फ्यूजन कोई नई बात नहीं है। चुनावों के दौरान राहुल गांधी अक्सर इसी तरह कन्फ्यूज हो जाते हैं। इससे पहले पिछले वर्ष हुए तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों में भी राहुल इसी तरह कन्फ्यूज हुए थे और ऊलजलूल बातें कर देशवासियों को मनोरंजन किया था।

कन्फ्यूज्ड राहुल ने बोल दी ऐसी संख्या जिसका नहीं है वजूद
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का कन्फ्यूजन खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है। विधानसभा चुनाव में प्रचार के दौरान राहुल गांधी कुछ न कुछ ऐसा कह देते हैं कि उनका कन्फ्यूजन सामने आ जाता है। राजस्थान में चुनाव प्रचार के दौरान जोधपुर की एक रैली में राहुल गांधी ऐसी संख्या का जिक्र किया है, जिसका वजूद ही नहीं है। राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने 15 लोगों का साढ़े तीन लाख पचास हजार करोड़ रुपया माफ किया है। आपको बता दें कि इससे पहले मध्य प्रदेश की एक रैली में राहुल गांधी ने कहा था राज्य में पिछत्तीस लाख युवा बेरोजगार हैं। मध्य प्रदेश और राजस्थान में राहुल गांधी के इस कन्फ्यूजन की चर्चा जोरों पर है और लोगों का कहना है कि जिस पार्टी के अध्यक्ष को गणित का सामान्य ज्ञान तक नहीं है वह कैस देश के संवेदनशील मुद्दों पर अपनी राय जता सकता है।

समझ से परे है राहुल गांधी का कन्फ्यूजन
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी खुद को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बताते हैं, लेकिन उनकी समझदारी हमेशा सवालों में घिरी रहती है। एक बार फिर राहुल गांधी की समझ को लेकर सवाल उठ रहे हैं। दरअसल मध्य प्रदेश में प्रचार के दौरान मेनिफेस्टो के बारे चर्चा के दौरान लोगों ने जब कुछ मांग की तो, राहुल कहने लगे कि अगर फंड होगा तो ऐसा किया जाएगा। मेनिफेस्टो और फंड के बारे में राहुल गांधी का कन्फ्यूजन आप भी सुनिए।

देखिए राहुल गांधी ने किस तरह कांग्रेस में निचले स्तर तक फैलाया कन्फ्यूजन
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जो कन्फ्यूजन शुरू किया था वो एक संक्रमित बीमारी की तरह पार्टी में निचले स्तर तक फैल चुका है। जिस प्रकार कांग्रेस अध्यक्ष कन्फ्यूजन में कुछ भी ऊलजलूल बोल देते है, उसी प्रकार अब कांग्रेस के कार्यकर्ता कुछ भी अनाप-शनाप बोल रहे हैं। देखिए किस तरह पार्टी के नेता राहुल के सामने ही उन्हें मरा हुआ बता रहे हैं।-

Leave a Reply