Home समाचार नोटबंदी: राहुल के कारण बिखर गया विपक्ष का कुनबा

नोटबंदी: राहुल के कारण बिखर गया विपक्ष का कुनबा

444
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से राहुल गांधी की मुलाकात के बाद विपक्ष का कुनबा एक बार फिर बिखर गया. विपक्षी पार्टियों ने इसके लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया। विपक्ष के नेताओं का कहना है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में पार्टी ने प्रधानमंत्री से अकेले मुलाकात क्यों की।

उनका कहना है कि क्या सिर्फ कांग्रेस को ही किसानों की चिंता है। बाकी पार्टियों को क्या किसानों की चिंता नहीं है। विपक्ष ने यह भी कहा कि कांग्रेस को अकेले जाकर उनसे मिलने की क्या जरूरत थी।

दरअसल शुक्रवार को विपक्ष ने राष्ट्रपति से मुलाकात की। लेकिन राहुल के पीएम से मुलाकात के बाद समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी और लेफ्ट के नेता उनसे मिलने नहीं पहुंचे। इन विपक्षी पार्टियों ने कांग्रेस के साथ राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात कार्यक्रम का बहिष्कार कर दिया।

विपक्षी नेताओं के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने किया। पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने विपक्ष की एकजुटता पर सवाल उठाते हुए कहा कि पार्टियां अपनी सुविधा अनुसार आगे बढ़ रही हैं।

इसके पहले राहुल गांधी ने किसानों की मांगों को लेकर प्रधानमंत्री से मुलाकात की। इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने राहुल से कहा कि वह उनसे मिलते रहा करें।

कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल में शामिल अमरिंदर सिंह ने बताया कि उन्होंने किसानों से जुड़ी समस्याओं को पीएम के सामने रखी और पीएम ने इस मामले पर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया।

LEAVE A REPLY