Home नरेंद्र मोदी विशेष लोकसभा में गिरा अविश्वास प्रस्ताव, प्रधानमंत्री मोदी का विपक्ष पर करारा प्रहार,...

लोकसभा में गिरा अविश्वास प्रस्ताव, प्रधानमंत्री मोदी का विपक्ष पर करारा प्रहार, हर आरोप का दिया जवाब

341
SHARE

लोकसभा में विपक्ष की तरफ से मोदी सरकार के खिलाफ पेश किया गया अविश्वास प्रस्ताव औंधे मुंह गिर गया। दिनभर चली बहस के बाद जब अंत में वोटिंग हुई तो कुल 451 सांसदों ने वोट डाले, जिसमें अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में सिर्फ 126 वोट पड़े, जबकि प्रस्ताव के विरोध में 325 वोट डाले गए। शिवसेना और बीजेडी ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया और वोटिंग से पहले ही सदन से वॉकआउट कर गए।

अविश्वास प्रस्ताव के चर्चा के अंत में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपना पक्ष रखा। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्ष के तमाम आरोपों का सिलसिलेवार तरीके से एक-एक कर जवाब दिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह अविश्वास प्रस्ताव लोकतांत्रित तरीके से चुनी हुई सरकार को अस्थित करने का प्रयास है। पहले कांग्रेस पार्टी कई बार इसी तरह के प्रयास कर चुकी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी या तो सत्ता में रहना चाहती है और सत्ता में नहीं रहने पर चुनी हुई सरकारों को अस्थिर करने में लगी रहती है। श्री मोदी ने कहा कि देश ने देखा है कि किस तरह कुछ लोगों को नकारात्मक राजनीति ने घेरा है, इन सभी लोगों का चेहरा आज निखर कर के बाहर आ गया है।

कांग्रेस को खुद पर भरोसा नहीं
प्रधानमंत्री मोदी ने राहुल गांधी के गले मिलने पर कहा कि कांग्रेस को खुदपर भरोसा ही नहीं है। कांग्रेस के लोग जो भाषा बोल रहे हैं वह अज्ञानवश और अति आत्मविश्वास के कारण है। पीएम मोदी ने कहा कि अभी जय-पराजय का फैसला भी नहीं हुआ था, लेकिन उनको (राहुल) यहां पहुंचने की जल्दी थी। वह मुझे उठाने की कोशिश कर रहे थे, उठो-उठो, लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि न कोई मुझे यहां से उठा सकता है और न बिठा सकता है। देश की 125 करोड़ देशवासी का मुझमें भरोसा है और उन्होंने ही मुझे यहां बिठाया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह अंहकार ही है कि जो कहता है कि हम बोलने खड़े होंगे तो मेरे सामने पंद्रह मिनट तक खड़े नहीं हो पाएंगे। मैं खड़ा भी हूं और चार साल तक जो काम किए हैं उन पर अड़ा भी हूं। उन्होंने कहा कि यह अविश्वास प्रस्ताव नहीं बल्कि यह कांग्रेस के तथाकथित साथियों का फ्लोर टेस्ट है। मैं पीएम बनूंगा इसका ट्रायल चल रहा है। श्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस को स्वच्छ भारत, अंतरराष्ट्रीय योग दिवस, भारत के मुख्य न्यायाधीश, अर्थव्यवस्था के आंकड़े देने वाली संस्थाओं, चुनाव आयोग, ईवीएम किसी पर विश्वास नहीं है। उन्होंने कहा कि कुछ मुट्ठीभर लोग अपना ही विशेष अधिकार मानकर बैठते थे। भ्रष्टाचार पर चोट से उनकी बेचैनी बढ़ गई। कोर्ट-कचहरी में उनको पेश होना पड़ा तो उनको भी तकलीफ होने लगी।

सरकार की 4 वर्षों की उपलब्धियां बताईं
प्रधानमंत्री मोदी ने बीते जार वर्ष की उपलब्धियों के बारे में बताते हुए कहा कि सरकार ने 18 हजार गांवों में बिजली पहुंचाने का काम किया है। पहले की सरकारें भी यह काम कर सकती थीं, लेकिन उन सरकारों ने ऐसा नहीं किया। प्रधानमंत्री ने बताया कि इन 18 हजार गांवों में से 5 हजार गांव नॉर्थ ईस्ट के हैं। इन इलाकों में हमारे आदिवासी और गरीब लोग रहते हैं, लेकिन ये लोग वोट के गणित में फिट नहीं होते थे इसलिए नॉर्थ ईस्ट को अलग-थलग कर दिया गया। प्रधानमंत्री मोदी ने बताया सरकार ने बीते 4 वर्षों में 32 करोड़ जन धन खाते खोले, आज 80 हजार करोड़ रुपया इन गीरबों ने खातों में जमा किए है। सरकार ने माताओं बहनों के सम्मान के लिए 8 करोड़ शौचालय बनाने का काम किया। उज्ज्वला योजना के तहत 4.5 करोड़ मुफ्त गैस कनेक्शन दिए गए। एक अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट के अनुसार बीते दो वर्षों में 5 करोड देशवासी भीषण गरीबी से बाहर आए हैं। 20 करोड़ गरीबों को बीमा का सुरक्षा कवच भी मिला। आने वाले दिनों में आयुष्मान भारत योजना के तहत 10 करोड़ गरीब परिवारों को 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा दिया जाएगा।

किसान, नौजवान सभी की बेहतरी के लिए काम किया
प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार किसानों की आय 2022 तक दोगुना करने की दिशा में कदम उठा रही है। बीज से बाजार तक संपूर्ण व्यवस्था बनाई जा रही है। 80 हजार करोड़ रुपये खर्च कर वर्षों से अटकी पड़ीं 99 सिंचाई परियोजनाओं को पूरा करने का काम किया है। 15 करोड़ किसानों को सॉयल हेल्थ कार्ड दिया है। यूरिया की शतप्रतिशत नीम कोटिंग की है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का प्रीमियम कम किया है और बीमा का दायरा बढ़ाया। जो एलईडी बल्ब पहले 450 रुपये में बिकता था वो अब 45 रुपये में मिल राहा है। सरकार ने मुद्रा योजना के तहत 13 करोड़ नौजवानों को लोन देने का काम किया है, लेकिन इन लोगों को इस पर विश्वास नहीं है।

भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत हुई
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज भारत की इकोनॉमी तेजी से आगे बढ़ रही है और पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था को मजबूती दे रही है। भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था है और दुनिया की छठी सबसे बड़ी इकोनॉमी है। जल्द ही भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनने की ओर अग्रसर है, लेकिन इन लोगों को इस पर भी विश्वास नहीं है। पीएम मोदी ने कहा कि सरकार ने कालेधन की खिलाफ लड़ाई छेड़ी है और इससे इन लोगों को परेशानी हो रही है। सरकार ने डीबीटी के जरिए 90 हजार करोड़ रुपये बचाने का काम किया है। ढाई लाख से ज्यादा फर्जी कंपनियों को ताले लगा दिए गए हैं। वर्षों से लटके पड़े बेनामी संपत्ति कानून को लागू कर अब तक 4.5 हजार करोड़ की बेनामी संपत्ति जब्त की है। पीएम मोदी ने यह भी कहा कि एनपीए यूपीए सरकार की देन है। आजादी के 60 वर्षों में जहां बैंकों ने 18 लाख करोड़ रुपये का कर्ज दिया था, वहीं 2008 से 2014 के बीच बैंकों ने 52 लाख करोड़ रुपये का कर्ज दिया। उन्होंने कहा यूपीए के जमाने में टेलीफोन पर कर्ज दिया जाता था, एक लोन को चुकाने के लिए दूसरा लोन दिया जाता था। 2014 में जब सत्ता संभाली थी तो देश की अर्थव्यवस्था की हालत बहुत खराब थी।

प्रधानमंत्री ने रोजगार के आंकड़े बताए
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश में रोजगार को लेकर के बहुत सारे भ्रम फैलाए जा रहे हैं। संगठित क्षेत्र में रोजगार को मापने का तरीका है ईपीएफ में कर्मचारियों का योगदान। उन्होंने बताया कि सितंबर, 2017 से मई, 2018 तक 9 महीनों में करीब 45 लाख नए सब्सक्राइबर ईपीएफ से जुड़े हैं। इनमें 77 प्रतिशत 28 वर्ष से कम के हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 9 महीने में संगठित क्षेत्र में 50 लाख लोगों को रोजगार मिला है। इसके अतिरिक्त देश की तमाम प्रोफेशनल बॉडी हैं, जहां युवा डॉक्टर, इंजीनियर, सीए, सीएस खुद को रजिस्टर कराते हैं। एक स्वतंत्र सर्वे के अनुसार 2016-17 में लगभग 17 हजार नए सीए सिस्टम में जुड़े हैं, इनमें से 5 हजार से ज्यादा लोगों ने नई कंपनियां शुरू की हैं। एक वर्ष में 80 हजार से अधिक डॉक्टर पास होते हैं। वकील भी बड़ी संख्या में रजिस्टर हुए हैं। इन तीनों प्रोपेशन को देखे तो 2017 में 6 लाख लोगों को रोजगार मिला है। इसी प्रकार ट्रांसपोर्ट के क्षेत्र में 20 लाख लोगों को रोजगार के अवसर मिले हैं।

आंखों में आंख डालने वाले बयान का दिया जवाब
पीएम मोदी ने राहुल गांधी आंख में आंख में डालने वाले बयान पर कहा, ‘सही है, हम कौन होते हैं जो आपकी आंख में आंख डाल सके, गरीब मां का बेटा, पिछड़ी जाति में पैदा हुआ, आप नामदार हैं, हम कामगार है। आपकी आंख में आंख डालने की हिम्मत मुझमें नहीं है। सुभाष चंद्र बोस ने कभी आंख में आंख डालने की कोशिश की क्या किया गया उनके साथ। मोराराजी देसाई, जयप्रकाश नारायण के साथ क्या किया गया? सरदार वल्लभ भाई पटेल के साथ क्या किया गया? पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पूर्व पीएम चंद्रशेखर के साथ क्या किया गया? कैसे अपमानित किया जाता था। कैसे लोगों को ठोकर मारकर निकाला जाता है। एक परिवार का इतिहास सबके सामने है।’ प्रधानमंत्री मोदी ने चौकीदार और भागीदार पर भी बोला। उन्होंने कहा, ‘हम चौकीदार भी हैं हम भागीदार भी हैं लेकिन हम आपकी तरह सौदागर नहीं हैं। ठेकेदार नहीं हैं। देश के गरीबों के भागीदार हैं। देश के किसानों के कास के भागीदार हैं। हम देश को विकास देने के भागीदार हैं और भागीदार रहेंगे।

डोकलाम और राफेल डील पर राहुल के आरोपों का जवाब
राहुल गांधी द्वारा डोकलाम पर उठाए गए सवाल पर पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं मानता हूं जिस विषय की जानकारी नहीं है उस पर बोलने से बात जरा उल्टी पड़ जाती है। देश का ज्यादा नुकसान ज्यादा हो जाता है। बचना चाहिए। डोकलाम पर जब सरकार आगे बढ़ रही थी तब चीन के राजदूत के साथ कौन बैठ थे। बाद में कभी हां कभी ना, कोई कहता था मिले, नहीं मिले। क्या हर जगह बचपना करते रहोगे।’ प्रधानमंत्री मोदी ने राफेल डील में घोटाले के आरोप पर कहा, ‘मैं कल्पना नहीं कर सकता हूं कि सत्य को इस प्रकार से कुचला जाता है। बार-बार चीखकर देश को गुमराह करने का काम किया जाता है। देश के सुरक्षा से जुड़े विषयों पर इस प्रकार से खेल खेले जाते हैं। देश कभी आपको माफ नहीं करेगा। सदन में लगे आरोप पर दोनों देश को बयान जारी करना पड़ा। दोनों देश को खंडन जारी करना पड़ा। जो लोग इतने साल सत्ता में रहे, बिना किसी सबूत के चीखते रहे। सत्य का गला घोंटने की कोशिश है, देश की जनता इसे जानती है।’ प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देशवासियों को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि यह समझौता दो देशों के बीच हुआ है। पूरी पारदर्शिता के साथ हुआ है।

सर्जिकल स्ट्राइक पर कांग्रेस के बयान का जवाब दिया
पीएम मोदी ने कहा कि देश के सेनाध्यक्ष के लिए किस प्रकार की भाषा का प्रयोग किया जाता है। देश का हर सिपाही, जो सीमा पर होगा उसे गहरी चोट पहुंची होगी। सर्जिकल स्ट्राइक को जुमला स्ट्राइक बोलने पर यह देश कभी माफ नहीं करेगा। आपकी गाली सुनने को लिए मैं तैयार हूं, देश के जवान को गाली मत दीजिए। सेना को अपमानित करने की कोशिश निरंतर चल रही है।

आंध्र प्रदेश को स्पेशल स्टेट्स पर दिया जवाब
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आंध्र प्रदेश को स्पेशल स्टेट के दर्जे पर भी जवाब दिया। उन्होंने कहा, ‘जोर और जुल्म के बीच आंध्र और तेलंगाना का विभाजन किया गया। उस समय मैंने यह कहा था कि तेलुगू हमारी मां है। तेलुगू के स्प्रिट को टूटने नहीं देना चाहिए। कांग्रेस की वजह से तेलंगाना विवाद पैदा हुआ। कांग्रेस ने भारत-पाकिस्तान का विभाजन किया और आज भी हम मुसीबत झेल रहे हैं। कांग्रेस विभाजन करके आंध्र जीतना चाहती थी लेकिन आंध्र भी न मिला और तेलंगाना भी नहीं मिला। आंध्र का बंटवारा जबरन किया गया।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार आंध्र के विकास में कोई कमी नहीं आने देगी और भरपूर मदद करेगी। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन का अंत विपक्ष को 2024 में उनकी सरकार के खिलाफ फिर से अविश्वास प्रस्ताव लाने का न्योता देते हुए किया।

LEAVE A REPLY