Home नरेंद्र मोदी विशेष प्रधानमंत्री मोदी ने सिंगापुर में रूपे कार्ड, भीम और यूपीआई एप किया...

प्रधानमंत्री मोदी ने सिंगापुर में रूपे कार्ड, भीम और यूपीआई एप किया लांच

398
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन देशों की यात्रा के आखिरी चरण में गुरुवार को सिंगापुर पहुंचे। यहां मरीना बे सैंड्स कन्वेंशन सेंटर में प्रधानमंत्री ने बिजनेस और कम्युनिटी ईवेंट को संबोधित किया। कार्यक्रम की शुरुआत में श्री मोदी ने भारत के रूपे कार्ड, भीम एप और यूपीआई एप को सिंगापुर में लांच किया। इस दौरान उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद सिंगापुर और भारतीय मूल के उद्योगपतियों, कंपनियों के सीईओ को संबोधित करते हुए भारत की विकास यात्रा के बारे में बताया।

आकार ले रहा है न्यू इंडिया
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत आज तेजी से बदल रहा है और एक न्यू इंडिया आकार ले रहा है। उन्होंने कहा कि भारत में इन्फ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में रिकार्ड गति से काम हो रहा है। पिछले साल भारत में 10,000 किलोमीटर नेशनल हाईवे का निर्माण हुआ यानि प्रतिदिन करीब 27 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग बनाए गए, जो पिछली सरकार की तुलना में दोगुना है। इसी प्रकार रेल ट्रैक जोड़ने का काम दोगुनी गति से हो रहा है। कई शहरों में मेट्रो शुरू की जा रही है, डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर बनाया जा रहा है और 400 रेलवे स्टेशनों का आधुनिकीकरण किया जा रहा है।

पीएम मोदी ने बताया कि सरकार ने तीन साल में 80,000 मेगावाट बिजली जुटाई है। नवीकरणीय ऊर्जा में, भारत दुनिया में छठा सबसे बड़ा उत्पादक बन गया है। श्री मोदी ने कहा, ‘हम वित्तीय समावेश पर मजबूती से ध्यान दे रहे हैं। हमने उन लोगों के लिए 316 मिलियन बैंक खाते खोले हैं जिनके पास कभी बैंक एकाउंट नहीं था। इन खातों में 12 बिलियन डॉलर से अधिक रुपये जमा किए गए हैं।’ प्रधानमंत्री मोदी ने मुद्रा योजना के बताते हुए कहा कि इसके जरिए गरीबों, मध्यमवर्ग और वंचितों को कर्ज दिया जाता है। मुद्रा योजना के तहत करीब 12.8 करोड़ लोगों को लोन दिया गया है और इसमें भी 74 प्रतिशत कर्ज महिलाओं को दिया गया है। प्रधानमंत्री ने 50 करोड़ आबादी को चिकित्सा कवर देने वाली विश्व की सबसे बड़ी हेल्थ केयर स्कीम ‘आयुष्मान भारत’ के बारे में भी बताया। 

भारत और आसियान के बीच का पुल है सिंगापुर
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सिंगापुर में भारतीय समुदाय भारत की विविधता का प्रतिनिधित्व करता है। जब भारत दुनिया के लिए खुल गया तो सिंगापुर, भारत और आसियान के बीच एक भागीदार और पुल बन गया। उन्होंने कहा, ‘भारत और सिंगापुर के बीच राजनीतिक संबंध सबसे निकटतम हैं। साझा दृष्टि से एक प्राकृतिक साझेदारी है। हमारे रक्षा संबंध सबसे मजबूत हैं।’ 

LEAVE A REPLY