Home नरेंद्र मोदी विशेष प्रधानमंत्री मोदी ने किया कृषि कुंभ का उद्घाटन, देश के विकास में...

प्रधानमंत्री मोदी ने किया कृषि कुंभ का उद्घाटन, देश के विकास में किसानों के योगदान को सराहा

211
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लखनऊ में आयोजित हो रहे कृषि कुंभ का उद्घाटन किया। तीन दिन तक चलने वाले कृषि कुंभ को संबोधित करते हुए पीएम मोदी देश के विकास में किसानों को भूमिका का उल्लेख किया। उन्होंने कहा, “किसान को कोई आगे नहीं लाता है, ये हमारा किसान है, जो देश को आगे ले जाता है।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह हमेशा से ही इस तरह के कृषि कुंभ और किसान मेलों के पक्षधर रहे हैं, क्योंकि यहां चर्चा-परिचर्चा से किसानों को कृषि क्षेत्र में नई तकनीकि की जानकारी मिलती है। श्री मोदी ने कृषि के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश के किसानों के योगदान की सराहना करते हुए कहा कि यूपी के किसानों द्वारा देश के कुल खाद्यान्न का लगभग 20 प्रतिशत उत्पादन किया जाता है। उन्होंने उत्तर प्रदेश में किसानों की उपज खरीदने का रिकॉर्ड बनाने के लिए राज्य सरकार के प्रयासों की भी तारीफ की। श्री मोदी ने कहा कि इस बार किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य के आधार पर उपज की कीमत मिल रही है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने रबी और खरीफ की 21 फसलों के समर्थन मूल्य में ऐतिहासिक बढ़ोतरी की है और देशभर के किसानों को इसका लाभ मिल रहा है।

बीज से बाजार तक मजबूत व्यवस्था
कृषि कुंभ में मौजूद किसानों और कृषि वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार 2022 तक देश के किसानों की आय दोगुनी करने के लिए संकल्पबद्ध है। कम लागत, अधिक लाभ की नीति पर चलते हुए खेती में वैज्ञानिक तरीकों को समावेश किया जा रहा है। बीज से लेकर के बाजार तक की एक मजबूत व्यवस्था देश में तैयार की जा रही है। मिट्टी की सेहत से लेकर मंडियों में सुधार को लेकर अनेक कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि देशभर में करीब 16 करोड़ से अधिक सॉयल हेल्थ कार्ड किसानों को दिए जा चुके हैं, जिनमें से करीब 3 करोड़ सॉयल हेल्थ कार्ड अकेले यूपी में किसानों को दिए गए हैं।

सिंचाई के वैज्ञानिक तरीके अपनाने पर जोर
प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ऑर्गेनिक फार्मिंग को प्रोत्साहित कर रही है साथ ही सिंचाई में तकनीकी को बढ़ाने की दिशा में काम कर रही है। किसानों को Per Drop More Crop के लिए डीप इरिगेशन और टपक सिंचाई जैसे तरीकों पर बल दिया जा रहा है। श्री मोदी ने कहा कि किसानों को बिजली और डीजल के पंपों की जगह पर सोलर पंप लगाने के लिए भी प्रोत्साहित किया जा रहा है। आने वाले 4 वर्षों में देशभर में करीब 28 लाख किसानों को खेतों में सोलर पंप लगाने का अभियान है। इससे किसानों को एक तो मुफ्त बिजली मिलेगी, दूसरा जरूरत से अतिरिक्त जो बिजली पैदा होती है,उसे वो कंपनियों को बेच भी पाएंगे। यानि किसान अब अन्नदाता के साथ ऊर्जा दाता भी बन सकेंगे।

किसानों को आय के दूसरे साधन उपलब्ध कराए
प्रधानमंत्री ने कृषि अनुसंधान को बढ़ाने की दिशा में किए जा रहे प्रयासों के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि किसानों की आय बढ़ाने के लिए सफेद क्रांति, श्वीट रिवोल्यूशन और ब्लू रिवोल्यूशन पर भी बल दिया जा रहा है। देश दूध, शहद, अंडा और मछली उत्पादन में नए-नए रिकॉर्ड बना रहा है। उन्होने बताया कि दो दिन पहले ही सरकार ने मछली उत्पादन से जुड़े परिवारों के लिए बड़ा फैसला लेते हुए 7,500 करोड़ के एक नए फंड को मंजूरी दी है। प्रधानमंत्री ने पराली जलाने की समस्या को लेकर कहा कि इसे रोकने के लिए किसानों को 50 से 80 प्रतिशत तक की छूट पर मशीनें दी जा रही है। उन्होंने कहा कि खेत से निकली हुई कोई भी चीज बेकार नहीं होती, कचरे को कंचन कैसे बनाया जा सकता है, इस पर मंथन की जरूरत है और व्यापक स्तर पर काम करने की जरूरत है।

LEAVE A REPLY