Home नरेंद्र मोदी विशेष शक्तिशाली भारत के लिए पोषित बचपन बेहद जरूरी- प्रधानमंत्री मोदी

शक्तिशाली भारत के लिए पोषित बचपन बेहद जरूरी- प्रधानमंत्री मोदी

302
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को वृंदावन में अक्षय पात्र फाउंडेशन के कार्यक्रम में शिरकत की और वंचित वर्ग के बच्चों को 300 करोड़वीं थाली परोसी। इस अवसर पर पीएम मोदी ने देशभर में बच्चों के पोषण के लिए चलाए जा रहे अक्षय पात्र फाउंडेशन के इस कार्यक्रम की तारीफ की। यह फाउंडेशन देशभर में प्रतिदन 17 लाख बच्चों को भोजन उपलब्ध कराता है।

समारोह को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने गीता का श्लोक सुनाते हुए कहा, “जो दान कर्तव्य समझकर, बिना किसी उपकार की भावना के उचित स्थान में, उचित समय पर योग्य व्यक्ति को दिया जाता है, उसे सात्विक दान कहते हैं।” उन्होंने कहा कि अक्षय पात्र फाउंडेशन 18 वर्षों से देश के बच्चों को पोषक भोजन देने का सात्विक दान दे रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि जिस प्रकार मजबूत इमारत के लिए नींव का ठोस होना जरूरी है, उसी प्रकार शक्तिशाली भारत के लिए पोषित बचपन भी जरूरी है। पीएम मोदी ने कहा अक्षय पात्र फाउंडेशन का यह प्रयास ‘मैं से हम’ तक की यात्रा का सबसे अच्छा उदाहरण हैं, ‘मैं’ जब ‘हम’ बन जाता है तो हम खुद से ऊपर उठकर समाज के बारे में सोचते हैं, मैं जब ‘हम’ बन जाता है तो सोच का दायरा बढ़ जाता है, ‘हम’ का विचार अपने देश को, अपनी संस्कृति को व्यक्ति से ज्यादा महत्वपूर्ण बनाता है।

पीएम मोदी ने कहा कि बच्चों और माताओं को संतुलित आहार बहुत जरूरी है और इसी को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने पिछले 55 महीनों में बच्चों को पोषण पर विशेष ध्यान दिया है। प्रधानमंत्री ने बताया कि सरकार ने बचपन के इर्दगिर्द एक मजबूत सुरक्षा घेरा बनाने का प्रयास किया गया है। सरकार ने तीन पहलुओं पोषण, टीकाकरण और स्वच्छता पर ध्यान दिया है। स्वास्थ्य का सीधा संबंध पोषण से है। पोषण अभियान को हर माता और शिशु तक पहुंचाने में सफल हुए तो अनेक जीवन बच जाएंगे। इसी के मद्देनजर सरकार ने राष्ट्रीय पोषण मिशन की शुरुआत की थी। इसी प्रकार सरकार ने मिशन इंद्रधनुश के तहत टीकाकरण का अभियान को मिशन मोड पर चलाया। मिशन इंद्रधनुष के तहत देश के हर बच्चे तक पहुंचने का लक्ष्य तय किया गया। बीते साढ़े चार वर्षों में देश में लगभग 3 करोड़ 40 लाख बच्चों और लगभग 90 लाख गर्भवती महिलाओं का टीकारण करवाया जा चुका है। संपूर्ण टीकाकरण का लक्ष्य अब ज्यादा दूर नहीं है।

प्रधानमंत्री ने बताया कि सरकार ने इस अभियान में पांच नए टीके जोड़े हैं, अब इंसेफेलाइटिस समेत बच्चों को 12 टीके लगाएजा रहे हैं। सरकार के इस प्रयास की सराहना करते हुए एक मशहूर मेडिकल जर्नल ने इस कार्यक्रम को दुनिया की 12 बेस्ट प्रैक्टिसिस में चुना है। इसी प्रकार प्रधानमंत्री मातृत्व अभियान के तहत गर्भवती महिलाओं को 6000 रुपये की सहायता की जा रही है। श्री मोदी ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया गया है।

पीएम मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत देश में 6.25 करोड़ से अधिक माताओं-बहनों को मुफ्त गैस कनेक्शन दिया जा चुका है, अकेले यूपी में 1 करोड़ से अधिक मुफ्त गैस कनेक्शन दिए गए हैं। इस योजना से घरों में मां-बच्चों को धुएं के नुकसान से मुक्ति मिल रही है।

प्रधानमंत्री मोदी ग्रामीण अर्थव्यवस्ता में गौ माता की अहमियत का जिक्र करते हुए कहा कि पशुधन को स्वस्थ्य बनाने के लिए राष्ट्रीय गोकुल मिशन शुरू किया गया है। इसी कार्य को आगे बढ़ाते हुए इस बार बजट में राष्ट्रीय कामधेनु आयोग बनाने का फैसला लिया गया। सरकार ने पशुपालक परिवारों की सहायता के लिए अब बैंकों के दरवाजे भी खोल दिए हैं। फसली ऋण की तरह पशुपालकों को भी किसान क्रेडिट कार्ड के तहत 3 लाख तक का ऋण सुनिश्चित किया गया है। इससे पशुपालकों को लाभ होगा और देश की डेयरी इंडस्ट्री की विस्तार होगा। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि किसानों की मदद के लिए पांच एकड़ से कम भूमि वाले किसानों को पीएम-किसान योजना के तहत हर वर्ष 6 हजार रुपये सीधे उनके खातों में डालने का फैसला किया गया है।

देखिए एक्सक्लूसिव तस्वीरें-

    

LEAVE A REPLY