Home समाचार देश डायनेस्टी के बजाय डेवलपमेंट को चुन रहा है : पीएम मोदी

देश डायनेस्टी के बजाय डेवलपमेंट को चुन रहा है : पीएम मोदी

504
SHARE

लोकसभा चुनावों में प्रचार के सिलसिले में पीएम मोदी ने मंगलवार शाम चंडीगढ़ में विशाल रैली को संबोधित किया। अपने भाषण की शुरुआत में उन्होंने कहा, “यूथफुल और एनर्जेटिक चंडीगढ़ में आपका जोश बता रहा है, फिर एक बार मोदी सरकार। इसका कारण साफ है। देश मजबूर सरकार के लिए नहीं, बुलंद हौसलों वाली  मजबूत सरकार को चुन रहा है। देश फैमिली फर्स्ट के बजाय इंडिया फर्स्ट को चुन रहा है। देश डायनेस्टी के बजाय डेवलपमेंट को चुन रहा है। देश आतंकी हमलों के बाद दुबकने वालों को नहीं, आतंकियों को घर में घुसकर मारने वालों को चुन रहा है।“ 

पीएम ने कहा कि 2014 में जो मैंडेट देश की जनता ने दिया, उसको कांग्रेस और उसके महामिलावटी साथी आज तक बर्दाश्त नहीं कर पाए। इन्होंने बीते पांच वर्ष में मेरे हर फैसले, हर योजना को अपमानित करने की कोशिश की है। कांग्रेस और उसके रागदरबारियों का यही गैंग है जो कहता था कि देश की जनता अनपढ़ है। लेकिन इनकी तमाम साजिशों के बावजूद हम डटे रहे।

यह भी पढ़ेंः वाराणसी की जनता को प्रधानमंत्री मोदी का संदेश- मेरे रोम-रोम में काशी

पीएम मोदी ने कहा, “हमने एक डिजिटल त्रिशक्ति खड़ी की है जैम यानी जेएएम। जे से जनधन बैंक खाते, ए से आधार कार्ड, और एम से आपका मोबाइल फोन। जैम की त्रिशक्ति से हमने सुनिश्चित किया है कि सरकारी योजनाओं का लाभ सभी लाभार्थियों को ही मिले।“ पीएम ने कहा कि अब तक हमारी सरकार ऐसे आठ करोड़ फर्जी नामों को कागजों से हटा चुकी है। ये आठ करोड़ वो लोग हैं जो सरकार की सुविधाओं का लाभ लेते हैं, जो बेटी पैदा ही नहीं हुई, वो सरकारी दफ्तरों में विधवा के रूप में पेंशन लेती थी। यह फर्जीवाड़ा हमने खत्म किया।

पीएम ने कहा कि यही बिचौलिये मोदी को बर्बाद करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन देश की 125 करोड़ आबादी अपने चौकीदार की रक्षा के लिए चौकीदार बनकर खड़ी है। विरोधियों को खटक रहा है कि एक चाय वाला 21वीं सदी के विजन की बात कैसे कर सकता है। मोदी वन नेशन, वन टैक्स के सपने को कैसे साकार कर सकता है। यह इनको परेशान कर रहा है। मैं यह सब कर चुका हूं। इनको इसी की परेशानी है। 

यह भी पढ़ेंः मेरी जाति हर उस गरीब की जाति है, जिसके विकास के लिए मैं दिन-रात जुटा रहा हूं- प्रधानमंत्री मोदी

मोदी ने कहा कि याद कीजिए पहले सर्जिकल और फिर एयर स्ट्राइक। इसको लेकर इन्होंने कैसे-कैसे सवाल उठाए। मोदी ने आतंकियों को घुसकर मारने की नीति को अपनाया। यह बात इनकी समझ में नहीं आया।  उन्होंने कहा जिन्होंने पाकिस्तान की गीदड़भभकियों से डरकर देश चलाया हो, उनके पास नेशनल सिक्योरिटी पर कहने के लिए कुछ नहीं है। मोदी ने कहा कि स्पेस में भी सर्जिकल स्ट्राइक करने की क्षमता भारत के पास पहले से थी, लेकिन अंतरराष्ट्रीय दबाव के कारण इनके पैर कांपते थे। लेकिन मैंने हिम्मत दिखाई। 

मोदी ने कहा, यह अहंकार से बोलते हैं ‘हुआ तो हुआ’। दंगों में हजारों सिख मारे गए, लेकिन कांग्रेस कहती है ‘हुआ तो हुआ’। यह बात भी गांधी परिवार के सबसे करीबी व्यक्ति कह रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि नामदार अब कहते हैं कि उनके गुरु सैम पित्रोदा को अपने बयान के किए शर्म आनी चाहिए और माफी मांगनी चाहिए। वास्‍तव में शर्म तो नामदार को आनी चाहिए।

यह भी पढ़ेंः Indian Express Exclusive: देश को कई स्तंभों पर विकसित करना चाहता हूं- प्रधानमंत्री मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि नामदार के परिवार ने, उनके साथियों ने इसी अहंकार के साथ देश पर दशकों तक शासन किया है। जब लाखों करोड़ों के घोटाले होते थे, कांग्रेस सोचती थी, हुआ तो हुआ। जब रेलमंत्री के रिश्तेदार रेलवे भर्तियों में भ्रष्टाचार करते थे, कांग्रेस सोचती थी, हुआ तो हुआ। पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस के नामदार ने कहा था, कांग्रेस एक सोच है। अब नामदार के गुरु ने बता दिया है कि कांग्रेस की सोच है, हुआ तो हुआ। नामदार के ये वही गुरु हैं जिन्होंने मिडिल क्लास का भी अपमान किया है। उन्होंने मिडिल क्लास को ‘सेल्फिश’ कहा था।

Leave a Reply