Home समाचार प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से 5.5 करोड़ रोजगार सृजन

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से 5.5 करोड़ रोजगार सृजन

462
SHARE

छोटे उद्यमियों को आसानी से ऋण मुहैया कराने की प्रतिबद्धता के साथ रोजगार सृजन और स्व-रोजगार को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने मुद्रा योजना की शुरुआत की थी। MUDRA यानि माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट फंड रिफाइनेंस एजेंसी के तहत रोजगार की समस्या को कम करने का काम किया है। लघु व्यावसायिक इकाइयों एवं उद्यमियों के लिए शुरु की गई प्रधानमंत्री मुद्रा योजना ने केवल दो वर्षों में 5.5 करोड़ रोजगार का सृजन किया है।

मुद्रा योजना से बढ़ा स्व-रोजगार
स्कॉच ग्रुप ने ‘मुद्रा योजना: रोजगार सृजन पर एक क्रांतिकारी पहल’ शीर्षक की सर्वे रिपोर्ट में यह दावा करते हुए कहा है कि इस योजना के माध्यम से कुल 54,479,763 रोजगारों का सृजन किया गया है। इनमें 37,753,217 प्रत्यक्ष रोजगार एवं 16,726,545 अप्रत्यक्ष रोजगार शामिल हैं। स्कॉच ग्रुप के सर्वे के मुताबिक मुद्रा योजना मोदी सरकार के लिए एक छुपा रुस्तम साबित हुई है। यह देश के सामने खड़ी सबसे महत्वपूर्ण समस्या रोजगार की कमी पर ध्यान देती है।

3.42 लाख करोड़ रुपये वितरित
अब तक आठ करोड़ से अधिक लोगों को 3.42 लाख करोड़ रुपए वितरित किए जा चुके हैं जिनमें ज्यादातर लघु उद्यमी हैं। इनमें से बड़ी संख्या उन लोगों की है जो इससे पहले किसी भी प्रकार के व्यवसाय से नहीं जुड़े थे। मुद्रा ऋण 10 लाख रुपए तक के गैर-कृषि कार्यकलापों के लिए उपलब्ध है। डेयरी, पॉल्ट्री, मधुमक्खी पालन आदि जैसे कृषि से संबंधित क्षेत्र भी इस योजना में शामिल हैं। यह अपनी तरह की ऐसी पहली रिपोर्ट है जो मुद्रा योजना के रोजगार के साथ संपर्क को रेखांकित करती है।

जमीनी स्तर पर विकसित हुआ सिस्टम
स्कॉच ग्रुप की यह रिपोर्ट सूक्ष्म इकाई विकास एवं पुनर्वित्त एजेंसी लिमिटेड (मुद्रा लिमिटेड), बैंकों एवं वित्तीय संस्थानों तथा योजना के लाभार्थियों से भी एकत्र प्राथमिक आंकड़ों पर आधारित है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 8 अप्रैल 2015 को इस योजना की शुरुआत की थी। इसका उद्देश्य वित्त सुविधा रहित लोगों को वित्त की सुविधा उपलब्ध करानी है। मुद्रा योजना की सफलता लघु उद्यमियों के सृजन पर केंद्रित है। इस योजना ने जमीनी स्तर पर सफलतापूर्वक उद्यमियों की एक प्रणाली सृजित की है। इसके अतिरिक्त, इसका रोजगार-सृजन पर विविध और बेहद प्रभावपूर्ण असर पड़ा है।

मुद्रा से महिला सशक्तिकरण
मुद्रा योजना महिला सशक्तिकरण का भी एक बेहतरीन उदाहरण है। इस योजना के तहत 30 अगस्त तक 8,63,78,23 लोग लाभ ले चुके हैं, इनमें 70 प्रतिशत महिलाएं हैं। यानि लगभग छह करोड़ से अधिक महिलाओं ने इसका लाभ उठाया है। इस बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि मुद्रा योजना किस तरह से लोगों के जीवन में परिवर्तन ला रही है।

LEAVE A REPLY