Home नरेंद्र मोदी विशेष इस बार केदारनाथ में दिवाली मनाएंगे प्रधानमंत्री मोदी, देखिए बीते चार वर्षों...

इस बार केदारनाथ में दिवाली मनाएंगे प्रधानमंत्री मोदी, देखिए बीते चार वर्षों में कैसे मनाया त्योहार

124
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दीवापली के त्योहार को खास तरीके से मनाते हैं। 2014 में सत्ता संभालने के बाद से ही पीएम मोदी अलग-अलग जगहों पर देश की सुरक्षा में तैनात जवानों के साथ दिवाली मनाते आए हैं। इस बार की दीपावली भी कुछ खास रहने वाली है। प्रधानमंत्री मोदी इस बार दीपावली का त्योहार बाबा केदारनाथ में मनाएंगे। बताया जा रहा है कि पीएम मोदी दिवाली से एक दिन पहले यानि 6 नवंबर को ही केदारनाथ पहुंच जाएंगे।

यह प्रधानमंत्री मोदी की तीसरी केदारनाथ यात्रा होगी। इस दौरान पीएम मोदी केदारनाथ से करीब 400 मीटर ऊंचाई पर स्थित ध्यान गुफा में भी जाएंगे। रुद्र मेडिटेशन केव नाम वाली इस ध्यान गुफा को प्राकृतिक वातावरण में तैयार किया गया है, लेकिन यह टेलिफोन, पानी, बिजली और टॉइलट जैसी सभी सुविधाओं से संपन्न है। प्रधानमंत्री मोदी इस दौरान केदारनाथ में कराए गए विकास कार्यों का भी जायजा लेंगे।

आइए आगे आपको बताते हैं कि बीते चार वर्षों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दीपावली के त्योहार को कहां और किस तरह मनाया।

2017-जम्मू-कश्मीर के गुरेज में जवानों संग मनाई दिवाली
प्रधानमंत्री बनने के बाद हर साल सेना या सुरक्षाबलों के बीच दिवाली मनाने वाले पीएम नरेंद्र मोदी ने 2017 की दीपावली जम्मू-कश्मीर के गुरेज में जवानों के बीच मनाई। इस अवसर पर पीएम मोदी ने कहा था कि सेना के जवान ही उनके परिवार हैं। सेना की वर्दी में जवानों के बीच जब पीएम मोदी पहुंचे तो एक अलग ही जोश और जज्बा देखने को मिला। पीएम मोदी ने जवानों का मुंह मीठा करके दिवाली की शुभकामनाएं दी। प्रधानमंत्री ने कहा कि वह भी अपने परिवार के साथ दिवाली मनाना चाहते हैं, इसलिए वह जवानों के पास आए हैं, क्योंकि वह जवानों को ही अपना परिवार मानते हैं। इस मौके पर पीएम मोदी ने जवानों को संबोधित किया, जिसमें उन्होंने वन रैंक वन पेंशन का जिक्र किया और बताया कि उनकी सरकार ने सेना की 40 साल की पुरानी मांग को पूरा किया है। सेना की तारीफ और उनसे मिलने वाली प्ररेणा का ज़िक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ”सैनिकों का जीवन तपस्या है। जब मैं आप से हाथ मिलाता हूं कि मुझे नई उर्जा मिलती है।”

2016- हिमाचल प्रदेश में चीन की सीमा के निकट सुमोध पहुंचे
2016 में दीपावली मनाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी रणनीतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण हिमाचल प्रदेश में चीन की सीमा पर जा पहुंचे। प्रधानमंत्री बगैर किसी पूर्व कार्यक्रम के चांगो नाम के एक गांव में भी गए, जहां लोगों के आतिथ्य सत्कार और उनकी अपार प्रसन्नता ने उन्हें अभिभूत कर दिया था।
हरे रंग की पोशाक पहने प्रधानमंत्री ने सुमोध में इंडो-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी), डोगरा स्काउट्स और सेना के जवानों के संग दीपावली मनाई।

2015-अमृतसर में डोगराई युद्ध स्मारक पहुंचे
वर्ष 2015 में दीपावली के दिन प्रधानमंत्री अमृतसर में खासा स्थित डोगराई युद्ध स्मारक गए और पुष्पांजलि अर्पित की। यह स्थान सबसे कठिन युद्धस्थल के रूप में जाना जाता है। भारतीय सैनिकों ने 22 सितंबर, 1965 के युद्ध में यहीं विजय प्राप्त की थी। उन्होंने पंजाब के अमृतसर में खेमकरण रोड पर वलतोहा के पास आसल उत्ताड़ स्मारक और परमवीर चक्र विजेता कंपनी क्वार्टरमास्टर हवलदार अब्दुल हमीद की समाधि पर भी पुष्पचक्र अर्पित किया और खासा में सैनिकों के संग दीपावली मनाई।

2014- सियाचिन में सैनिकों संग दीपावली
अपने कार्यकाल के पहले वर्ष में प्रधानमंत्री मोदी ने इस परंपरा की शुरुआत करते हुए, देश के सबसे कठिन सैन्य क्षेत्र, सियाचिन में सैनिकों के संग दीपावली मनाई थी। सैनिकों के बीच पहुंचकर प्रधानमंत्री मोदी बहुत ही खुश थे। उन्होंने कहा था, ‘‘शायद पहली बार किसी प्रधानमंत्री को दीपावली के शुभ दिन अपने जवानों के साथ समय बिताने का अवसर मिला है।’’

दीपावली के पर्व पर सैनिकों के साथ प्रधानमंत्री मोदी का होना देशवासियों को एक सुखद अहसास कराता है और विश्वास पैदा करता है कि देश का नेतृत्व जन आकांक्षाओं के अनुरुप व्यवहार करता है।

LEAVE A REPLY