Home समाचार जब प्रधानमंत्री मोदी ने तमिल महिला से कहा- वहां आऊंगा तो डोसा...

जब प्रधानमंत्री मोदी ने तमिल महिला से कहा- वहां आऊंगा तो डोसा खाने को मिलेगा ना?

250
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने सोमवार, 28 मई को वीडियो कांफ्रेंस के माध्‍यम से पूरे देश के उज्‍ज्वला योजना लाभार्थियों के साथ संवाद किया। प्रधानमंत्री के साथ संवाद के लिए देशभर में 600 से अधिक केंदों पर उज्‍जवला योजना लाभार्थी उपस्‍थि‍त थे। प्रधानमंत्री मोदी ने तमिलनाडु के कृष्णागिरी जिले की तीन उज्ज्वला लाभार्थी महिलाओं से भी बात की। उन्होंने महिलाओं से पूछा कि गैस आने के बाद उन्हें क्या फायदा हुआ है? इस पर रुत्रम्मा नाम की महिला ने बताया कि गैस आने के बाद खाना बनाने का काम आसान हो गया है। अब उन्हें खाना बनाना अच्छा लगता है। प्रधानमंत्री मोदी ने फिर पूछा कि पहले लकड़ी के चूल्हे पर डोसा-इडली बन जाता था? इसपर रुत्रम्मा ने कहा कि पहले डोसा-इडली बनाने का काम मुश्किल था, लेकिन गैस आने के बाद आसान हो गया है। फिर जब श्री मोदी ने पूछा कि मैं तमिलनाडू आऊंगा तो डोसा खाने को मिलेगा क्या? तो महिलाओं ने कहा कि आप आइए… आपको डोसा बनाकर जरूर खिलाउंगी।

 

 

संवाद के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि पिछले 4 सालों में 10 करोड़ नए गैस कनेक्शन लोगों को मिले हैं। यानि लगभग जितना काम छह दशकों में हुआ, उतना लगभग महज चार साल में हो गए। उन्होंने कहा, ‘जो महिलाएं धुएं में जिंदगी गुजारती थीं, जो लकड़ियों पर खाना बनाती थीं, उन्हें हम धुएं से मुक्ति दिलाना चाहते थे। इसलिए 10 करोड़ में चार करोड़ गैस कनेक्शन प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत मुफ्त में दिए गए।’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘2020 तक हम इस काम को पूरा कर देना चाहते हैं। इसके लिए 5 हजार करोड़ रुपये अतिरिक्त आवंटन कर इसे कुल 13 हजार करोड़ कर दिया गया है।’ श्री मोदी ने कहा कि एलपीजी की पहुंच करीब-करीब 70 प्रतिशत गांवों में 100 प्रतिशत है, जबकि 81 प्रतिशत गांवों में 75 प्रतिशत से अधिक है।

देखिए वीडियो-

LEAVE A REPLY