Home समाचार देश को स्पोर्टिंग सुपरपावर बनाने का संकल्प लेकर चल रहे हैं- प्रधानमंत्री...

देश को स्पोर्टिंग सुपरपावर बनाने का संकल्प लेकर चल रहे हैं- प्रधानमंत्री मोदी

440
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को मणिपुर में लगभग 750 करोड़ रुपये की योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया है। इस अवसर पर उन्होंने राज्य की तेज गति से प्रगति और उपलब्धियों के लिए वहां की सरकार और जनता का जोरदार अभिनंदन किया। उन्होंने खेलों में राज्य की प्रतिभा पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा, कि “मणिपुर देश का वो राज्य है, जिसने स्पोर्ट्स के माध्यम से वुमन एम्पावरमेंट की बात को सच कर के दिखाया है।”

स्पोर्ट्स आज फुलटाइम करियर है- प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री ने कहा है कि, “स्पोर्ट्स आज सिर्फ मनोरंजन और फिट रहने का संसाधन भर नहीं रह गया है। यह अपने आप में बहुत बड़ा उद्यम, बहुत बड़ा उद्योग है। आज ये फुलटाइम करियर भी है।” इसलिए उनकी सरकार स्पोर्ट्स पर पूरा ध्यान दे रही है। उन्होंने खेल के क्षेत्र में देश को एक बड़ी ताकत बनाना अपनी सरकार का लक्ष्य बताया। उन्होंने कहा- “हमारी सरकार देश को स्पोर्टिंग सुपरपावर बनाने का संकल्प लेकर चल रही है।” उन्होंने कहा कि इसी संकल्प पूरा करने के लिए ही केंद्र सरकार ने राज्य में 500 करोड़ की लागत से नेशनल स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी फैसला किया था। उन्होंने दिल्ली में आयोजित खेलो इंडिया स्कूल गेम्स की चर्चा करते हुए मणिपुर के युवाओं को बधाई भी दी। इन खेलों में राज्य ने 13 गोल्ड मेडल समेत 34 मेडल जीते और मेडल टैली में राज्य पांचवें स्थान पर रहा। श्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को ही मणिपुर के पहले मल्टी स्पोर्ट्स कंपलेक्स का भी लोकार्पण किया। खेल के क्षेत्र में ओलंपिक से लेकर कॉमनवेल्थ गेम्स तक में देश का नाम रोशन करने के लिए उन्होंने मैरी कॉम,मीराबाई चानू,बोम्बायला देवी लैशराम और सरिता देवी जैसी प्रतिष्ठित महिला खिलाड़ियों की सराहना की।

जो काम 15 साल में नहीं हुआ, इस सरकार ने 15 महीने में कर दिखाया-प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि राज्य सरकार के कार्यकाल को 15 महीने पूरे होने में अभी तीन महीने शेष हैं, लेकिन राज्य में बदलाव को साफ देखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि पिछले साल फरवरी में उन्होंने मणिपुर आकर कहा था कि 15 वर्षों में कांग्रेस की सरकार यहां जो काम नहीं कर सकी, उनकी सरकार 15 महीने में करके दिखाएगी, लेकिन राज्य सरकार ने उससे भी पहले राज्य में बदलाव लाकर दिखा दिया है। पहले की सरकार के चलते राज्य में निरेटिविटी आ गई थी, लेकिन अब हर मोर्चे पर तेज गति से काम हो रहा है। उन्होंने जनसभा में उपस्थित भारी भीड़ की ओर इशारा कर बताया कि संतोष की झलक उनके आंखों में साफ दिख रही है। उन्होंने कहा कि मणिपुर जैसे छोटे से राज्य में 750 करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट की शुरुआत और उसका लोकार्पण करना काम करने की गति का जीता-जागता सबूत है। ये योजनाएं यहां के नौजवानों की प्रतिभा, उनके रोजगार, महिलाओं के सशक्तिकरण और राज्य की कनेक्टिविटी से जुड़ी हैं, जो राज्य के विकास को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगी।

उत्तर-पूर्व भारत के विकास का नया ग्रोथ इंजन बन सकता है-प्रधानमंत्री मोदी
प्रधानमंत्री ने उत्तर-पूर्व के लिए ट्रांसफॉर्मेशन बाय ट्रांसपोर्टेशन का अपनी सरकार का विजन दोहराया है। उन्होंने कहा कि इलाके की कनेक्टिविटी पर फोकस है और इसके लिए अब हेलीकॉप्टर सर्विस पर भी काम हो रहा है। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार ने उत्तर-पूर्व के विकास पर बहुत फोकस रखा है। पिछले 4 साल में केंद्रीय मंत्रियों की यहां 200 से ज्यादा यात्राएं हो चुकी हैं। 25 बार से ज्यादा बार तो वो खुद क्षेत्र का दौरा कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में पर्यटन के विकास की बहुत संभावनाएं हैं। उन्होंने राज्य में इको टूरिज्म का भी शिलान्यास किया है। क्षेत्र के 8 राज्यों में से 7 बड़ी रेलवे लाइन के नेटवर्क से जुड़ चुके हैं। इंफाल समेत बाकी राजधानियों को भी इस नेटवर्क से जोड़ने का काम चल रहा है। विश्व के सबसे ऊंचे पुलों में से एक रेलवे पुल भी मणिपुर में ही बन रहा है। साथ ही साथ इंफाल रेल लाइन पर 11.5 किलोमीटर लंबा टनल भी अपने आप में एक माइलस्टोन है। 2014 में राज्य में 12 सौ किलोमटीर एनएच था, जिसमें पिछले 4 साल में 38% इजाफा होकर 460 किमी और जुड़ गया है। अगले 3-4 साल में मणिपुर में एनएच और दूसरी सड़कों के विकास पर 30 हजार करोड़ रुपये खर्च करने की योजना है। 4 साल में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के लिए 1000 करोड़ रुपये दिया गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने 2014 में दिल्ली पुलिस में उत्तर-पूर्व के युवाओं को शामिल करने की बात कही थी। 2016 में राज्य के 430 युवा दिल्ली पुलिस में शामिल हुए, जिनमें 160 महिलाएं थीं। इसी तरह हाल ही में 10 भारतीय रिजर्व बटालियन बनाया गया है, जिसमें 2 मणिपुर के लिए है। इन दोनों बटालियनों में 2000 युवाओं को रोजगार का अवसर मिलेगा। राज्य के आदिवासी इलाकों में गर्ल्स हॉस्टल खुल रहे हैं और पहाड़ी इलाकों में कामकाजी महिलाओं के ठहरने की व्यवस्था पर भी जोर दिया गया है, जिनमें से 19 का शिलान्यास भी उन्होंने किया है। इसके अलावा 1,000 आंगनबाड़ी सेंटर का भी उद्घाटन किया है। इस अवसर महान क्रांतिकारी रानी रानी गाइदिनल्यू को भी नमन किया।

प्रधानमंत्री के कार्यक्रम से जुड़ी कुछ और तस्वीरें-

LEAVE A REPLY