Home नरेंद्र मोदी विशेष अस्तित्व बचाने के लिए ‘सपोर्ट सिस्टम’ पर चल रही है कांग्रेस :...

अस्तित्व बचाने के लिए ‘सपोर्ट सिस्टम’ पर चल रही है कांग्रेस : प्रधानमंत्री मोदी

मेरा बूथ-सबसे मजबूत कार्यक्रम के तहत कार्यकर्ताओं से संवाद

235
SHARE

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’ कार्यक्रम में गाजियाबाद, अरुणाचल प्रदेश, नवादा, हजारीबाग, जयपुर देहात के बूथ कार्यकर्ताओं से संवाद किया। नरेन्द्र मोदी ऐप के जरिये प्रधानमंत्री ने कार्यकर्ताओं को बताया कि कैसे चुनाव में अधिक से अधिक मतदाताओं को बूथ तक लाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की अब तक की विजय यात्रा ने सिद्ध कर दिया कि हमारी ताकत का मंत्र है – ‘मेरा बूथ, सबसे मजबूत’। प्रधानमंत्री ने विपक्ष के दुष्प्रचार का सामना करने के लिए कार्यकर्ताओं से कहा कि वे सरकार के कार्यक्रमों को लेकर अपडेट रहें और जनता से सच कहें। उन्होंने कहा कि हमारे सच के सामने विपक्ष का दुष्प्रचार टिक नहीं पाएगा। प्रधानमंत्री ने ‘अजेय भाजपा-अटल भारत’ के संकल्प को लेकर जनता के बीच जाने का आह्वान किया।

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस और विपक्षी दलों के महागठबंधन को अवसरवादी गठजोड़ करार दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपना अस्तित्व बचाने के लिए सपोर्ट सिस्टम का सहारा ले रही है। श्री मोदी ने कहा, ‘’वे दलों को जोड़ रहे हैं और हम सवा सौ करोड़ लोगों के दिलों को जोड़ रहे हैं।‘’  प्रधानमंत्री ने कहा कि गठजोड़ की नीति अस्पष्ट है, नीति भ्रष्ट है। इनका एक ही संकल्प है मोदी हटाओ और हमारा संकल्प है देश को आगे बढ़ाओ।

विभिन्न मुद्दों को लेकर सरकार की आलोचनाओं पर प्रधानमंत्री ने कहा कि असमाजिक तत्वों को अच्छे कामों से परेशानी हो रही है। अच्छे कार्यों की वजह से ही सरकार की आलोचना की जा रही है। उन्होंने कहा कि कृष्ण के जमाने से लेकर आज तक कुछ लोग ऐसे रहे हैं, जो अच्छे कामों से डरते हैं। उनको अंधियारा इतना अच्छा लगता है कि उजाले को दोष देने लग जाते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर विपक्ष समझदार होता और सत्य को स्वीकारने की शक्ति होती तो दुष्प्रचार का हल्का रास्ता न अपनाते।

श्री मोदी ने कहा, ‘’डर का कारण साफ है, बीजेपी सरकार केवल नारे नहीं गढ़ती है, उसे धरातल पर ले आती है।“ प्रधानमंत्री ने कहा कि सबका साथ-सबका विकास हमारे लिए नारा कभी नहीं था, यह हमारा प्रेरणा मंत्र है। उन्होंने कहा कि बाकी दलों ने वोट बैंक की राजनीति की है। पार्टियों ने आखों में धूल झोंकी और चुनाव निकाल दिए।

गाजियाबाद के एक कार्यकर्ता अभिनव जैन द्वारा जिक्र करने पर श्री मोदी ने कहा कि 13 सितंबर को ही बीजेपी की संसदीय समिति ने नेतृत्व की जिम्मेदारी मुझे दी थी। उन्होंने कहा, ‘’भाजपा में नाम से नहीं, काम से नेतृत्व तय होता है। बूथ स्तर के कार्यकर्ता को शीर्ष नेतृत्व का काम केवल भाजपा में ही दिया जा सकता है। वे चाहे पार्टी अध्यक्ष, मंत्री, राज्यों के मुख्यमंत्री हो, सभी ने बूथ स्तर से काम करना शुरू किया था। यहां कोई भी व्यक्ति स्थायी नहीं है। आज मैं जहां हूं, कल कोई और होगा।‘’  

गाजियाबाद मुराद नगर के बूथ नंबर 171 के कार्यकर्ता अमित रंजन के सवाल के जवाब में श्री मोदी ने कहा,  ‘’हमारे कार्यकताओं की मेहनत, सामर्थ्य, पुरुषार्थ और संकल्प के कारण ही आज हमें इस मुकाम पर पहुंचे हैं। जड़ जितनी मजबूत होती है पेड़ उतना ही फलदायी और ताकतवर होता है। मेरे लिए ये सौभाग्य का विषय है कि आज भारतीय जनता पार्टी की जड़ को सींचकर उसे एक घने वृक्ष रुपी पार्टी बनाने वाले ऐसे अनेक कार्यकताओं से बात करने का मौका मिला है।‘’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘’पदभार ये व्यवस्था है, कार्यभार ये जिम्मेवारी है। पदभार बदल सकता है, लेकिन मां भारती को समर्पित हम कार्यकताओं को कार्यभार से कभी मुक्ति नहीं मिल सकती है।‘’ उन्होंने कहा, बीजेपी सरकार सिर्फ नारे गढ़ती नहीं उन्हें धरातल की वास्तविकता तक ले जाती है। सबका साथ-सबका विकास-हमारे लिए सिर्फ नारा नहीं बल्कि एक मंत्र की तरह पवित्र लक्ष्य है।

हजारीबाग के कार्यकर्ता सर्वेंद्र मिश्रा के एक प्रश्न पर श्री मोदी ने कहा कि पिछले चार वर्षों में कांग्रेस और उसके सहयोगियों की हकीकत सबसे सामने आ गई है। पहले जनता ने गुड गवर्नेंस, भ्रष्टाचार और फैसले लेने की अक्षमता के कारण उन्हें सत्ता से बाहर किया था। अब वे विपक्ष की भूमिका निभाने में भी फेल हो गए हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें कांग्रेस के कई कार्यकर्ताओं पर दया आती है, क्योंकि उनका संघर्ष और सामर्थ्य एक ही परिवार के काम आ रहा है। अगर एक परिवार के काम नहीं आया तो बाहर कर दिए जाते हैं।

प्रधानमंत्री ने साफ कहा कि संसाधनों पर सभी का समान हक है, न किसी का अधिक और न किसी का कम। उन्होंने कहा कि सौभाग्य योजना से बिजली अंधेरे में गुजारा कर रहे रहमान के घर पहुंची है तो रतिन्दर और रॉबर्ट के घर में भी उजाला कर रही है। उज्जवला के तहत 5 करोड़ गरीब बहनों को मुफ्त में गैस का कनेक्शन पानेवालों में सरिता भी है, सबीना भी और साफिया भी है। स्वच्छता अभियान पर पीएम ने कहा कि हमने नहीं कहा कि हम देश साफ कर देंगे, हमने कहा कि आइए हमारा साथ दीजिए। देखिए, देश ने साथ दिया है।

हजारीबाग के मरियम टुडू के सवाल के जवाब में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अब गरीब से गरीब का भी कम से कम एक रुपया महीना और 90 पैसे प्रतिदिन के प्रीमियम पर बीमा होता है। आज मेरे श्रमिक भाई-बहन को भी बहुत कम अंशदान पर नियमित पेंशन सुनिश्चित हुई है। प्रधानमंत्री ने कहा, साहुकारों से मुक्ति के लिए गरीब के लिए हमने बैंकों के दरवाजे खोल दिए। 32 करोड़ से अधिक जनधन खाते खुल चुके हैं। अब तो ये भी फैसला लिया गया है कि आगे जो खाते खुलेंगे उनमें ओवरड्राफ्ट की सुविधा 5 हजार से बढ़ाकर 10 हजार की गई है। VIP की जगह EPI यानि ‘Every Person is Important’ की भावना को बल दिया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा, पहले गरीब के पास एक बैंक खाता हो, इस बारे में कोई सोचता तक नहीं था, अब आज पूछा जाता है कि ऐसा कौन सा घर है, जिसमें एक भी बैंक खाता नहीं है। पहले किसी को परवाह नहीं थी कि देश के हर गरीब के पास छत हो। आज पूछा जा रहा है कि कितने गरीबों के घर बनाने बाकी हैं। पहले ये तक नहीं सोचा था कि देश में स्वच्छता होनी चाहिए, शौचालय बनाए जाने चाहिए। अब दूर-दराज वाले इलाकों में भी खोज-खोजकर घरों में शौचालय बनाए जा रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा, पहले भ्रष्टाचार को सिस्टम का हिस्सा मान लिया जाता था, अब यह विश्वास जगा है कि काम पूरी पारदर्शिता के साथ होगा।

जयपुर देहात क्षेत्र में शाहपुर के एक कार्यकर्ता सेवानिवृत सूबेदार मेजर सुवालाल यादव से संवाद करते हुए पीएम ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक हमारी सेना के साहस और सामर्थ्य का प्रतीक है। सर्जिकल स्ट्राइक, हमारी सेना के युद्ध कौशल को तो दिखाती ही है, साथ ही हमें गौरव करने का एक महत्वपूर्ण अवसर भी देती है। पीएम मोदी ने कहा, ये देश का दुर्भाग्य है मोदी विरोध करते करते, भाजपा विरोध करते करते कुछ विपक्ष के राजनेता आपा खो बैठे और उन्होंने देश की सेना पर सवाल उठाए।

जयपुर देहात की कार्यकर्ता अंजलि गौतम के एक सवाल का जवाब देते हुए श्री मोदी ने जानकारी दी कि 17 सितंबर को नरेन्द्र मोदी ऐप का नया वर्जन आने वाला है इसमें कार्यकर्ताओं के लिए भी एक ऑप्शन होगा। इसमें उनके लिए कई उपयोगी जानकारियां होंगी जो ग्रास रूट लेवल पर काम आएंगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि समाज से संपर्क किसी भी हाल में छूटना नहीं चाहिए।

बिहार में नवादा के कार्यकर्ता गुलशन कुमार ने प्रधानमंत्री मोदी को ‘मैन ऑफ डेवलपिंग इंडिया’ से संबोधन किया। उनके एक सवाल के जवाब में श्री मोदी ने भारतीय जनता पार्टी के दिवंगत नेता कैलाशपति  मिश्र का स्मरण करते हुए कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं को उनके जीवन से सीखना चाहिए। उन्होंने कहा कि ‘स्वप्रेरणा से सक्रियता’ आती है।

अरुणाचल प्रदेश के कार्यकर्ता रोरांग कियोकाम और तादार हांगी के सवालों का जवाब देते हुए श्री मोदी ने कहा कि उनका चार वर्षों में 30 बार नॉर्थ ईस्ट जाना ही साबित करता है कि पूर्वोत्तर के विकास पर उनका विशेष ध्यान है। उन्होंने कहा कि पहले की सरकारों ने इस क्षेत्र के प्रति उपेक्षा का भाव रखा था। उन्होंने कहा कि जिन 18 हजार गांवों में बिजली पहुंचाई गई उनमें 5 हजार पूर्वोत्तर के थे। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर दिल्ली के दिल में दिखाई देना चाहिए। उन्होंने पूर्वोत्तर को एक्ट ईस्ट पॉलिसी का गेटवे करार दिया और कहा कि उसे स्पोर्ट्स हब बनाने का प्रयास किया जा रहा है।  

प्रधानमंत्री ने कार्यकर्ताओं से कहा, ‘’आपके संकल्प, पुरुषार्थ, परिश्रम और टीम वर्क के कारण भाजपा का विजय अभियान जारी है।  आदर्शों से भटके बिना, उपेक्षा-आलोचना की परवाह किए बिना, काम करते जाना है। उन्होंने  कहा कि देश संकटों से उबरे और देश महान बने, यही हम सबका सपना है।

LEAVE A REPLY