Home समाचार राष्ट्रीय आजीविका सम्मेलन: हमारी सरकार महिला सशक्तीकरण के लिए पूरी तरह से...

राष्ट्रीय आजीविका सम्मेलन: हमारी सरकार महिला सशक्तीकरण के लिए पूरी तरह से समर्पित- पीएम मोदी

322
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को वाराणसी में राष्ट्रीय आजीविका सम्मेलन में कहा कि हमारी सरकार महिला सशक्तीकरण के लिए पूरी तरह से समर्पित है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘ये काशी नगरी अपने आप में महिला सशक्तीकरण का बहुत बड़ा प्रतीक है। यहां मोक्षदायिनी मां गंगा भी हैं और उनको धारण करने वाले देवाधि देव महादेव भी हैं।’

काशी में सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आज जन्म से लेकर जीवन के हर चरण में बेटियों और बहनों की रक्षा, सुरक्षा और सशक्तीकरण के लिए तमाम योजनाएं चल रही हैं।

श्री मोदी ने कहा, ‘सुरक्षित मातृत्व, टीकाकरण, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, शौचालय निर्माण, गैस कनेक्शन और बलात्कारियों को फांसी की सजा का प्रावधान जैसे हमारी सरकार के अनेक कदमों ने महिला सशक्तीकरण में अहम भूमिका निभाई है। मातृत्व अवकाश को 12 से 26 हफ्ते करने का बड़ा फैसला हमारी सरकार ने लिया। दुनिया के बड़े-बड़े देशों में भी यह कानून नहीं है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बनाए जा रहे घर महिलाओं के नाम पर दिए जा रहे हैं।’

वाराणसी के दीनदयाल हस्तकला संकुल में आयोजित राष्ट्रीय महिला आजीविका सम्मेलन-2019 में प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि आज भारत में बेटियां फाइटर जेट उड़ा रही हैं तो नाव से समंदर की परिक्रमा भी पूरी कर रही हैं।

उन्होंने कहा, ‘अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का यह अवसर महिला सशक्तीकरण के लिए पूरे विश्व में एक नई चेतना, नया उत्साह पैदा करता है। महिलाओं की भागीदारी नए भारत के नए संस्कार गढ़ने में बहुत अहम भूमिका निभा रही है। सुखद है कि महिला सशक्तीकरण और ग्रामीण अर्थव्यवस्था में बहन-बेटियों की भागीदारी बढ़ रही है।’

उन्होंने इस मौके पर उत्तर प्रदेश ग्रामीण आजीविका मिशन की मदद से चलाए जा रहे स्व-सहायता समूहों द्वारा तैयार किए गए उत्पादों की प्रदर्शनी भी देखी। प्रधानमंत्री ने महिला लाभार्थियों को बिजली से चलने वाला चाक, सौर चरखा और मधुमक्खी पालन में इस्तेमाल किए जाने वाला शहद ताना वितरीत किया।

उन्होंने स्व-सहायता समूह की पांच महिलाओं को प्रशस्ति पत्र सौंपे। इस मौके पर उत्तर प्रदेश सरकार की राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका योजना की दीनदयाल अंत्योदय योजना की मदद से काम कर रहीं विभिन्न महिला स्व-सहायता समूह ने ‘भारत के वीर’ कोष के लिए प्रधानमंत्री को अपनी तरफ से 21 लाख रुपये का चेक भेंट किया।

प्रधानमंत्री ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर सभी महिलाओं के प्रति सम्मान व्यक्त करते हुए कहा कि नए भारत के निर्माण में महिलाओं की अहम भूमिका है। उन्होंने देशभर में 75,000 स्थानों से 65 लाख से ज्यादा महिलाओं के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सम्मेलन में भाग लेने पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि वाराणसी महिला सशक्तीकरण का एक उत्कृष्ट उदाहरण है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि स्वावलंबन से सशक्तीकरण की यात्रा अब एक नए पड़ाव पर है, नए दौर में प्रवेश कर रही है। उन्होंने कहा कि महिलाओं उनका आत्मविश्वास देख कर प्रसन्नता हुई। श्री मोदी ने कहा कि इस समय देश में करीब 50 लाख स्व-सहायता समूह हैं जिनमें 6 करोड़ महिलाएं काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि सरकार चाहती है कि प्रत्येक परिवार से कम से कम एक महिला स्व-सहायता समूह से जुड़े। पीएम मोदी ने कहा कि देशभर में 15 करोड़ मुद्रा लोन दिए गए हैं इनमें से 11 करोड़ से अधिक महिला उद्यमियों को मिले हैं। उत्तर प्रदेश में भी सवा करोड़ से अधिक बिना गारंटी के ऋण दिए गए हैं जिसमें से करीब 86 लाख महिलाओं ने लिए हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने महिलाओं से कहा कि वे हाल में शुरू की गई प्रधानमंत्री श्रममान धन योजना का लाभ उठाए, क्योंकि इसके जरिए वृद्धावस्था में वित्तीय सुरक्षा की व्यवस्था की गई है। उन्होंने इस अवसर पर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि और आयुष्मान भारत योजना का भी उल्लेख किया।

Leave a Reply