Home समाचार जो कभी वर्ल्ड बैंक में थे, आज वही लोग भारत की रैंकिंग...

जो कभी वर्ल्ड बैंक में थे, आज वही लोग भारत की रैंकिंग पर सवाल उठा रहे हैं: प्रधानमंत्री मोदी

119
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को प्रवासी भारतीय केंद्र में हुए ‘इंडिया बिजनेस रीफॉर्म’ कार्यक्रम में हिस्सा लिया और कई बड़ी कंपनियों के सीईओ के साथ मुलाकात की। इस कार्यक्रम में विश्व बैंक की सीईओ क्रिस्टीना जियोर्जिवा ने भी हिस्सा लिया। कार्यक्रम में बोलते हुए क्रिस्टीना जियोर्जिवा ने प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व की तारीफ की और भारत को तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था बताया।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, “भारत में इस समय उत्सव का माहौल है। विश्व बैंक ने भारत के आर्थिक क्षेत्रों में हुए सुधार को सराहा है। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस से लोगों का जीवन भी आसान बन रहा है।”

इंडिया बिजनेस रीफॉर्म कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने भारत में व्यापार को सुगम बनाने वाली विश्व बैंक की रैंकिंग का जिक्र करते हुए कहा, “हम तीन साल के अंदर ईज ऑफ डूइंग बिजनस में 42 पायदान आगे पहुंच चुके हैं। ईज ऑफ डूइंग बिजनस हमें इज ऑफ लाइफ की ओर ले जाता है पर कुछ लोगों को भारत का 142 से 100 वीं रैंक पर पहुंचना अच्छा नहीं लग रहा। वर्ल्ड बैंक की इस रैंकिंग पर कुछ लोग सवाल उठा रहे हैं और ये वो लोग है जो वर्ल्ड बैंक में रह चुके हैं। मैंने आज तक वर्ल्ड बैंक की बिल्डिंग नहीं देखी जबकि पहले यहां वर्ल्ड बैंक को चलाने वाले लोग बैठा करते थे और आज वही विरोध कर रहे हैं।”

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने आगे कहा, “विश्व बैंक की रैंकिंग और जीएसटी की सफलता से देश तरक्की कर रहा है और क्या काम है मेरे पास, बस एक ही काम है-ये देश। मेरे देश के सवा सौ करोड़ लोग और उनके जीवन में बदलाव लाना। भारत आज वहां पहुंच चुका है जहां से आगे बढ़ना और आसान है। जीएसटी के साथ हम मॉडर्न टैक्स की ओर बढ़ रहे हैं।”

पीएम मोदी ने पिछले तीन सालों में हुए बदलाव की चर्चा करते हुए कहा, “तीन सालों में कारोबार करना आसान हुआ है। टैक्स देना आसान हुआ है। हमने बिजनेस करने के तरीकों में रिफॉर्म किया है जिससे जीवन के कई हिस्सों में सुधार आया है। पहले पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, बिजली कनेक्शन और पीएफ के लिए दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते थे लेकिन हमने इन सबको ऑनलाइन कर दिया जिससे लोगों को समय के साथ-साथ पैसों की भी बचत हुई।” अंत में प्रधानमंत्री मोदी ने विश्व बैं‍क को उसके गाइडेंस के लिए धन्यवाद दिया।

LEAVE A REPLY