Home नरेंद्र मोदी विशेष आज हर भ्रष्ट को मोदी से कष्ट है: प्रधानमंत्री

आज हर भ्रष्ट को मोदी से कष्ट है: प्रधानमंत्री

114
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ग्रेटर नोएडा में मेट्रो लाइन के विस्तार को हरी झंडी दिखाने और थर्मल पावर प्रोजेक्ट जैसी कई परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस मौके पर हुई जनसभा में उन्होंने कहा कि उनकी सरकार में लेनदेन वाली संस्कृति पर पूरी सख्ती से प्रहार किया जा रहा है और योजनाओं को संपूर्णता के साथ जनहित में बनाया जा रहा है। यही वजह है कि आज हर भ्रष्ट को मोदी से कष्ट है। ऐसे लोग ही इस चौकीदार को गाली देने के कॉम्पिटिशन में जुटे हैं। वे इतने हताश हो चुके हैं कि मोदी विरोध की जिद में देश का भी विरोध करने लगे हैं और अपनी सेना के पराक्रम पर भी शक करने लगे हैं।  

पराक्रम पर सवाल उठाने वालों की भाषा देश के दुश्मनों जैसी- प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज हमारे दश के भीतर अपने आपको बड़े नेता मानने वाले कुछ लोग जो भाषा बोल रहे हैं उससे दुश्मनों को ताकत मिल रही है। ये लोग वीरों के पराक्रम पर सवाल उठा रहे हैं और उनके बयानों पर तालियां पाकिस्तान में बज रही हैं। प्रधानमंत्री ने पूछा कि ऐसे लोगों को देश की जनता को सही रास्ते पर लाना चाहिए कि नहीं लाना चाहिए? देश की सेना जो कह रही है, क्या इस पर किसी हिंदुस्तानी को शक होना चाहिए?

आतंक के सरपरस्त समझ गए, ये पुराना भारत नहीं- प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 26/11 के मुंबई हमले और उसके पांच साल बाद तक हुए आतंकी हमलों के तार भी हर बार सीमा पार जुड़े हुए थे। लेकिन पहले की सरकार ने अपनी नीति नहीं बदली सिर्फ गृह मंत्री बदले। अगर पहले की सरकार ने दमखम दिखाया होता, आतंकियों को उसी भाषा में जवाब दिया होता तो आतंक इतना बड़ा नासूर नहीं बना होता। अब सितंबर 2016 में सर्जिकल स्ट्राइक और पिछले दिनों फरवरी में हुई एयर स्ट्राइक से आतंक के आकाओं को समझ में आ गया है कि ये पुराना वाला भारत नहीं है। अब वो बौखलाए हुए हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के वीर-जवान अपने काम कर रहे हैं लेकिन हमें भी नागरिक के तौर पर सतर्क रहना है। जो देश के टुकड़े-टुकड़े करने का सपना देख रहा है, उनसे सावधान रहना है।

पाकिस्तान ने सीमा पर सजावट की, हम ऊपर से ही चले गए- प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज भारत नई रीति और नई नीति पर चल रहा है। उरी हमले के बाद भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक करके आतंक के आकाओं को पहली बार उन्हीं की भाषा में समझाया जिस भाषा को वो समझते हैं। प्रधानमंत्री ने लोगों से पूछा कि कि ये काम उन्हें करना चाहिए था या नहीं करना चाहिए था। क्या सरकार, चौकादीर सो जाए ये मंजूर होगा? प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले दिनों पुलवामा हमले के बाद भी भारत के वीरों ने वो काम किया जो दशकों तक नहीं हुआ है। देश के वीरों ने आतंकियों को उनके घर में घुसकर के ऐसे मारा है, जिसके बारे में आतंकियों के आका सोच भी नहीं सकते थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि जब पहली बार सर्जिकल स्ट्राइक की गई तो आतंक के सरपरस्तों को लगा कि पुलवामा के बाद भी भारत वैसा ही कुछ कर सकता है। उन्होंने सीमा पर क्या-क्या ना कर दिया…सारी सजावट कर दी लेकिन हम ऊपर से ही चले गए।

आज नोएडा की पहचान विकास की परियोजनाओं के लिए-प्रधानमंत्री मोदी ने नोएडा सिटी सेंटर से इलेक्ट्रॉनिक सिटी तक हुए मेट्रो विस्तार को हरी झंडी दिखाई। मेट्रो का यह विस्तार दिल्ली-एनसीआर के निवासियों की यात्रा को सहज और सुलभ बनाएगा। श्री मोदी ने कहा कि एक वो दिन भी था जब नोएडा और ग्रेटर नोएडा की पहचान सरकारी धन की लूट, अथॉरिटी और टेंडर में होने वाले नए नए खेल, जमीन आवंटन में होने वाले घोटालों की खबरें हुआ करती थीं। आज नोएडा और ग्रेटर नोएडा की पहचान विकास की परियोजनाओं और रोजगार के नए अवसरों से है। उत्तर प्रदेश और देश बदल रहा है, आगे बढ़ रहा है, ये उसकी निशानी है।  नोएडा आज मेक इन इंडिया के हब के तौर पर विकसित हो रहा है। आज भारत दुनिया में मोबाइल फोन बनाने में दूसरे नंबर पर पहुंचा है, उसमें नोएडा की बहुत बड़ी भूमिका है। 2014 से पहले देश में जहां सिर्फ दो मोबाइल फैक्ट्री थी, आज यह संख्या सवा सौ के करीब है।

जेवर में बनने जा रहा देश का सबसे बड़ा हवाई अड्डा- पीएम मोदी ने कहा कि कनेक्टिविटी को सुधारने के लिए जेवर में देश का सबसे बड़ा हवाई अड्डा बनने जा रहा है। इससे जुड़ी तमाम प्रक्रियाओं को तेज गति से पूरा किया जा रहा है। इससे नोएडा की एयर कनेक्टिविटी दूसरे शहरों से जुड़ जाएगी, जिसके बाद यहां के लोगों को दिल्ली जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि जेवर एयरपोर्ट पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लिए एक स्वर्णिम अवसर लेकर आएगा। प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि अगले कुछ हफ्तों में उड़ान योजना के तहत अब बरेली से भी उड़ान शुरू हो जाएगी। इसके लिए टर्मिनल बिल्डिंग व अन्य कार्यों को पूरा कर लिया गया है। ‘उड़े देश का आम नागरिक’ इस लक्ष्य के साथ शुरू की गई उड़ान योजना के तहत अब तक 120 रूटों को शुरू किया जा चुका है। इसकी वजह से देश के अनेक टियर टू और टियर थ्री शहर भी पहली बार एयर कनेक्टिविटी से जुड़े हैं। इससे इन शहरों की इकोनॉमी को भी बढ़ावा मिल रहा है।

21वीं सदी की ऊर्जा जरूरतों के अनुरूप कर रहे काम- ग्रेटर नोएडा से प्रधानमंत्री मोदी ने दो बड़े पावर प्लांट का शिलान्यास किया। एक बुलंदशहर के खुर्जा में और दूसरा बिहार के बक्सर में। खुर्जा के प्लांट पर 12 हजार करोड़ से अधिक का खर्च आएगा तो बक्सर के प्लांट पर करीब 10 हजार करोड़ रुपये का। दोनों प्लांट के बनकर तैयार होने के बाद यूपी और बिहार समेत कई और क्षेत्रों की बिजली जरूरतों को पूरा किया जा सकेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार 21वीं सदी की ऊर्जा जरूरतों के मुताबिक अनेक क्षेत्रों में काम कर रही है।

मौजूदा सरकार ने चार चीजों पर फोकस किया- प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पिछली सरकार की अव्यवस्थाओं की वजह से राज्य के राज्य अंधेरे में डूब जाते थे जिससे देश को भारी शर्मिंदगी उठानी पड़ती थी। लेकिन 2014 में सत्ता में आने के बाद स्थिति पूरी तरह से बदल चुकी है क्योंकि मौजूदा सरकार ने चार चीजों- प्रोडक्शन, ट्रांसमिशन, डिस्ट्रीब्यूशन और कनेक्शन पर फोकस किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मौजूदा सरकार में किस रफ्तार से कार्य चल रहा है यह इससे पता चलता है कि उनके सत्ता में आने के पहले 65 साल में लगभग ढाई लाख मेगावाट की क्षमता विकसित हुई थी, जबकि उनके आने के बाद सिर्फ पांच सालों में ही एक लाख मेगावाट से अधिक की क्षमता तैयार हो चुकी है। उन्होंने कहा, ”हमारा वन नेशन वन ग्रिड का सपना पूरा हुआ है। अब सौर ऊर्जा के माध्यम से हमारा सपना है- One World, One Sun, One Grid यानि एक दुनिया, एक सूरज, एक व्यवस्था जो कभी ना कभी साकार होने वाला है।”

आपके वोट से दूर हुआ गरीबों के घर का अंधेरा- प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सौभाग्य योजना से अब तक ढाई करोड़ घरों का अंधेरा दूर हुआ है तो ये जनता जनार्दन के वोट की ताकत से संभव हुआ है। क्योंकि जनता साथ ना होती तो केंद्र में बड़े फैसले लेने वाली मजबूत सरकार ना होती। श्री मोदी ने कहा कि सरकार के प्रयासों ने मध्यम वर्ग के परिवार के बिजली बिल बचाने का काम किया है। इस सरकार के आने से पहले जो एलईडी बल्ब 300-350 रुपये में मिल रहे थे, वो अब 40-50 रु का हो चुका है। ऐसा इसलिए हो सका क्योंकि अब बिचौलियों और दलालों की दुकानें बंद हो चुकी हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि जिनकी दुकानें बंद हो गईं वो मोदी को तो गाली देंगे ही लेकिन जिसके साथ 125 करोड़ देशवासी हों, वो ऐसे बिचौलियों से डरता नहीं है।

भारतीय दर्शन को रिसर्च से जोड़ने का बड़ा काम- प्रधानमंत्री मोदी ने ग्रेटर नोएडा में पंडित दीनदयाल उपाध्याय इंस्टीट्यूट ऑफ आर्कियोलॉजी का उद्घाटन भी किया। इस अवसर पर उन्होंने ‘अंत्योदय’ के प्रणेता रहे पंडित जी की प्रतिमा का अनावरण भी किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह इंस्टीट्यूट हमारी सांस्कृतिक विरासत और हमारे दर्शन को रिसर्च से जोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। 25 एकड़ में फैला यह परिसर देश के गौरवशाली अतीत का परिचय कराने वाला है, जो भारत की समृद्ध विरासत और अध्यात्म समेत कई पहलुओं का विस्तार से अध्ययन का अवसर देगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि ये संस्थान हमारे अतीत को वर्तमान और भविष्य से जोड़ने का काम करेगा।

 

 

LEAVE A REPLY